बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

 (वीडियो) सुशासन सरकार की पूर्ण शराबबंदी की जमीनी हकीकत, फिर जहरीली शराब पीकर 4 की मौत, आधा दर्जन अस्पताल में भर्ती

354

पटना Live डेस्क। बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू होने के बावजूद भी जहरीली शराब पीने से होने वाली मौतो का सिलसिला थमने का ना नहीं ले रहा है। इस बार गणतंत्र की धरती वैशाली जिले में पिछले 72 घंटे में जहरीली शराब पीने से 4 लोगों की अकाल मौत हो गई। वही ग्रामीणों के अनुसार शराब बेचने वाला कोई और नहीं बल्कि गांव का ही चौकीदार है। वही इस घटना को भी पुलिस हार्ट अटैक से हुई मौतें बता रही है। लेकिन घटना का सच खुद इसकी हकीकत बयान कर रहा है।
घटना जहरीली शराब पीने से मरे लोगो की पहचान वैशाली जिले के महुआ अनुमंडल के बराटी ओपी अन्तर्गत बसौली गाव के रहने वाले 45 वर्षीय अरुण पटेल पिता चन्द्रदीप पटेल, 50 वर्षीय देवेन्द्र पासवान पिता नंदलाल पासवान, 45 वर्षीय लालबाबू पासवान पिता हरिहर पासवान, वही कंसारा गाँव के  28 वर्षीय रामप्रवेश पंडित पिता महताब पंडित का नाम शामिल है। वही एक और जानकारी मिली है कि मकतूल रामप्रवेश पंडित के बहनोई सोनपुर निवासी ने भी शराब पी थी,उसकी भी मौत हो गयी।


मृतक के परिजनों ने स्थानीय पुलिस थाने पर बेहदगंभीर आरोप लगाए हैं। परिजनों का आरोप है कि पुलिस शराब पीने से मौत के मामले को दबाने की कोशिश कर रही है। जहरीली शराब पीने से मारे सभी के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने जबरन सभी से सादे कागज पर अंगूठे का निशान लिया है। उस पेपर पर लिखा था कि सभी की मौत हार्ट अटैक से हुई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बसौली गांव का चौकीदार और उसका भाई शराब बेचता है। मृतक सभी  लोगों ने उसी के पास से शराब खरीदा था। गौरतलब है कि शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगने के बाद जहरीली शराब पीने से मौत का यह तीसरा बड़ा मामला सामने आया है।

Comments are closed.