बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-बिहार में एकसाथ 387 दारोगों की नौकरी पर लटक रही है तलवार,इनमें शामिल 10 ने तो .. जानिए

बिहार पुलिस के 2018 बैच के कुल 1581 दारोगों को 26 अगस्त को बड़ी शानो शौकत से CM की उपस्थिति में पासिंग आउट परेड के बाद प्रोबेशन पीरियड में बिहार के विभिन्न जिलों में तैनात किया गया है। एक सितंबर से ही आवंटित जिलों सभी योगदान दे रहे हैं। लेकिन अब इनमें से 387 दारोगा की नौकरी खतरे में क्योकि ये सभी बिहार पुलिस एकेडमी की परीक्षा में फेल हो गए है।

722

पटना Live डेस्क।सूबे के विभिन्न जिलो में तैनात 387 दारोगाओ की नौकरी पर संकट के बादल मंडरा रहे है।बिहार पुलिस के 387 दारोगा पुलिस एकेडमी की परीक्षा में फेल हो गए हैं। परीक्षा में असफल होने के बाद इनकी नौकरी खतरे में है। इन दारोगाओं की नौकरी जा सकती है। सबसे ज्यादा हैरानी की बात है कि 387 दरोगाओं में से 10 दारोगा ऐसे हैं,जिनके नम्बर जानकर आप सन्न रह जाएंगे। इन्हें निदेशक मूल्यांकन में 0 नंबर मिला है।

बिहार के राजगीर स्थित पुलिस एकेडमी से हाल ही में 1581 दारोगा पास आउट हुए हैं।2018 बैच के इन अफसरों को फिलहाल प्रोबेशन पीरियड में बिहार के विभिन्न जिलों में तैनात किया गया है।एक सितंबर से ही आवंटित जिलों में वे योगदान दे रहे हैं।26 अगस्त को सीएम नीतीश कुमार के समक्ष इनकी पासआउट परेड हुई थी। लेकिन हैरानी की बात है कि परीविक्षा काल में तैनात इनमें से 387 दारोगा को सर्टिफिकेट नहीं दिया गया क्योंकि ये एकेडमी की परीक्षा में फेल हो गए हैं। एग्जाम नहीं पास कर पाए हैं।

बताया जा रहा है कि जो दारोगा फेल हुए हैं, उन्हें दो पूरक परीक्षाओं के माध्यम से पास होने का मौका दिया जाएगा। अगर ये दारोगा इस पूरक एग्जाम में ही फेल हो गए और परीक्षा पास नहीं कर पाएं,तो इनकी नौकरी जा सकती है। सरकार इन्हें नौकरी से हटा सकती है।

बताया जा रहा है कि निदेशक मूल्यांकन विषय में भी 27 दारोगा फेल हुए हैं, जो 100 नंबर की परीक्षा होती है। इतना ही नहीं चौंकाने वाली बात तो ये है कि निदेशक मूल्यांकन में 10 दारोगा को जीरो नंबर दिया गया है। फेल दारोगा में से तीन अधिकारी ऐसे हैं, जिन्हें सभी 14 आंतरिक विषयों (सैद्धांतिक) में शून्य अंक मिले हैं।

गौरतलब हो कि राजगीर स्थित पुलिस एकेडमी से पासआउट होने के पहले इन दारोगा को कुल 23 सौ अंक की परीक्षा देनी पड़ी थी। 1500 के आंतरिक विषय तो 700 बाह्य विषयों यानी कि प्रैक्टिकल एग्जाम हुआ था। इसके अलावा निदेशक मूल्यांकन की 100 नंबर की परीक्षा हुई थी। पास होने के लिए कम से कम 50 प्रतिशत यानि कि साढ़े सात सौ नंबर लाना था लेकिन सैकड़ों दारोगा उसमें फेल हो गए। बिहार पुलिस एकेडमी राजगीर के निदेशक भृगू श्रीनिवासन का कहना है कि जो दारोगा फाइनल परीक्षा के एक या अधिक विषयों में फेल हुए हैं, उनके लिए पूरक परीक्षा का आयोजन अगले माह किया जाएगा।उन्हें दो पूरक परीक्षाओं में बैठकर पास होने का मौका दिया जाता है।बावजूद अगर परीक्षा पास करने में असफल रहते हैं तो उन्हें सेवा से बाहर कर दिया जाएगा।

Comments are closed.