बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-पटना में क्विक मोबाइल के 3 जवान वसूली के चक्कर मे पहुच गए जेल, जानिए आखिर क्या है पूरा किस्सा

अभी दीदारगंज थानेदार व उनके बॉडीगार्ड को रंगेहाथ घूसखोरी करते निगरानी दल की गिरफ्तारी का मामला ठण्डा भी नही हुआ था कि क्विक मोबाइल के 3 जवानों को उगाही के मामले में सोमवार को एसएसपी द्वारा जेल भेज दिया गया है।

801

पटना Live डेस्क। लगता है जैसे राजधनी में तैनात खाकी वालो ने हलफ उठा लिया है कि चाहे कुछ हो जाए अवैध उगाही नही छोड़ेंगे। तभी तो राजधानी पटना के दीदारगंज थानेदार राजेश कुमार को  गुरुवार की रात विजिलेंस की टीम ने गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से छापेमारी के दौरान साढ़े पांच लाख रुपए भी बरामद किए गए।आरोप है कि थानेदार बालू माफिया से प्रति ट्रक 10 हजार रुपए की रकम वसूलते थे। घूस की रकम नहीं देने पर थाना इलाके से ट्रक नही चलने देने की धमकी देते थे।थानेदार राजेश कुमार के साथ उनके बॉडीगार्ड विवेक कुमार को भी गिरफ्तार किया गया।

यह शर्मनाक वाकया अभी पटनावासियों के जेहन में तरोताज़ा ही है। इसी बीच राजधानी के एक थाना में तैनात 3 क्विक मोबाइल के जवानों की करतूत ने एसएसपी पटना को सन्न कर दिया और फिर मामले की जांच कराकर तीनो को जेल भेज दिया गया है।

अवैध उगाही व आरके नगर थाना के सिपाही

दरअसल, राजधानी की सुरक्षा सुनिश्चित करने ख़ातिर हर थाने में बाइक सवार क्विक मोबाइल दस्ते की तैनाती की जाती है। इनके जिम्मे लगातार क्षेत्र में पेट्रोलिंग की जिम्मेदारी होती है साथ ही वारदात की जानकारी मिलते ही तुरंत इनके पहुचने का आदेश होता है। लेकिन अब यही दस्ता थाना क्षेत्र मे अवैध कारोबार को प्रश्रय देने और अवैध धंधेबाजो से उगाही करने को लेकर खासा बदनाम हो चुका है। लगातार क्विक मोबाइल दस्ते को लेकर शिकायते मिलती रहती है।

इसी कड़ी में विगत दिनों रामकृष्ण नगर थाना में तैनात 3 क्विक मोबाइल जवानों द्वारा थाना क्षेत्र के कृष्णना निकेतन स्कूल के समीप स्थित एक होटल संचालक से जबरिया डरा धमका कर वसूली करने का मामला एसएसपी पटना के संज्ञान में आया। दरअसल होटल संचालक ने स्वयं मिलकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को तीनों की करतूत से न केवल अवगत कराया बल्कि बकायादा सीसीटीवी में उनके करतूत की क्लिप भी दिखाई व उनकी पहचान सुनिश्चित कराई।

मामले की गंभीरता को देखते हुए एसएसपी ने स्वय पहल करते हुए सिटी एसपी,सदर एएसपी संग थाने का रुख किया। तीनो अधिकारियों ने मामले की जांच पड़ताल करते हुए आरोपी तीनो से भी पूछताछ की और जब उनकी संलिप्तता स्पष्ट हुई तो तीनो को तत्काल सस्पेंड करते हुए मुकदमा दर्ज कर थानेदार द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजने के आदेश दिए। तदुपरांत क्विक मोबाइल के तीनों जवानों हवलदार उमेश पासवान, सिपाही संजीव ठाकुर व संजीव राम को विधि सम्मत कार्रवाई करते हुए जेल भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई। वही, इस घटना के बाद से पटना पुलिस महकमे में तमाम तरह की चर्चाओं का बाज़ार गर्म है। कोई होटल संचालक के सत्ताधारी दल के हैवीवेट से रिश्तेदारी की बात कह रहा है तो कोई उक्त होटल को ही हैवीवेट की मिल्कियत बता रहा है। लेकिन जिस तरह से वसूली की  जानकारी मिलते ही ताबड़तोड़ एक्शन लिया गया है वो अपने आप मे होटल के रसूखदार से जुड़े होने की गवाही दे रहा है।

Comments are closed.