बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – हर तीसरे दिन पटना में लुटेरे मचा रहे है तांडव लूट रहे है Cash व पुलिस का दावा सब कुछ है ठीक

703

पटना Live डेस्क। बिहार की राजधानी पटना में अपराधियों के तांडव के आगे पुलिस हांफती नज़र आ रही है। बेख़ौफ़ अपराधियों द्वारा ताबड़तोड काण्डों को अंजाम देकर खाकी के तोते उड़ा दिए गए है। पुलिस महज काण्ड दर्ज करने और शवों को पोस्टमार्टम हाउस पहुचे के बाद हर काण्ड के बाद पुलिस रटा रटाया जुमला दोहरा रही है। हर बार वही अल्फ़ाज़ होते है- जल्द ही आपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया और कुछ अहम सुराग मिले है। लेकिन नतीजा फिर नए काण्ड और उसकी तफ़्तीश के बीच खो जाता है।

राजधानी पटना की सुरक्षा व्यवस्था ख़ातिर तमाम दावे किए जाते है। लेकिन ज़मीनी हकीकत ये है कि ताबड़तोड अंज़ाम पा रही हत्या, लूट, छितई, गुण्डई और तमाम गैरकानूनी कारस्तानियों की संख्या ही पटना पुलिस के पेट्रोलिंग और अपराध नियंत्रण के दावों की पोल खोल देते है। आइए आपको ज़रा एसएसपी पटना के दावे और हकीकत से रुबरु कराते है।

झुके कंधे और डंडे के सहारे बैंक की सुरक्षा

22 जून दिन सोमवार को दिनदहाडे शहर के व्यस्तम सड़क के किनारे स्थित अनीसाबाद चौराहे के समीप पंजाब नेशनल बैंक की शाखा को 10 अपराधियों ने लूट लिया और आराम से फरार हो गए। वारदात की खबर मिलते ही हड़कंप मच गया। सेंट्रल रेंज की आईजी से लेकर एसएसपी पटना व तमाम थानों की पुलिस पहुच गई। तफ़्तीश शुरू हुई तो कई चौकाने वाले तथ्य पता चले। दो होमगार्ड जवानों को डंडे की सहारे बैंक की सुरक्षा में तैनात कर रखा गया था। जिन्हें अपराधियों थप्पड़ों की बौछार कर कब्जे में कर लिया। हद तो ये की अनीसाबाद चौराहा और बेउर मोड़ के बीच सरेआम डकैती हो रही थी और अनीसाबाद गोलम्बर पर तैनात दर्जनों और बेउर मोड़ पर भी तैनात पुलिसकर्मियों को इसकी भनक तक नही लगी।

पटना पुलिस की मुस्तैदी पर एक बार फिर से सवाल उठना लाजमी है।जब मुख्यालय ने आगाह किया था फिर भी पटना पुलिस ने बड़ी चूक की जिसका नतीजा सामने है। घटना को जिस तरीके से अंजाम दिया गया है उससे यह तो प्रतीत हो रहा है कि डकैती पूरी प्लानिंग के अनुसार अंजाम दिया गया है।और यह भी स्पष्ट हो रहा है कि घटना में प्रोफेशनल और बेहद शातिर अपराधियों की सहभागिता है।घटना के बाद वेस्ट सिटी एसपी अशोक मिश्रा के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया गया है। एसएसपी उपेन्द्र शर्मा की माने तो पुलिस मामले की जांच कर रही है जल्द मामलें से खुलासा हो जाएगा।

हर तीसरे दिन रुपये लूटते है लुटेरे

राजधानी की बात करे तो हालात यह है कि वसूली में सदैव चुस्त दुरुस्त और वारदातों को रोकने में बिल्कुल सिफर पटना जिला में तैनात ख़ाकीवालों का अलग ही किस्म का टशन देखने को मिलता है। पिछले 10 दिनो का ही उदाहरण ले तो पटना में हर तीसरे दिन दिनदहाडे सरेराह बाइक सवार अपराधियों ने लागतार कैश लुटा है। 2 घटनाओं में पैसे छीने गए और तीसरे में तो बैंक ही लूट लिया गया।

पहली कैश लूट -16 जून दिन मंगलवार राजीव नगर घुड़दौड़ रोड दिनदहाडे निजी फाइनान्स कंपनी से सरेआम फ़ायरींग कर लुटा गया 1.96 लाख रुपया।

दूसरी कैश लूट – 19 जून दिन शुक्रवार जक्कनपुर थाना क्षेत्र के मीठापुर स्थित रामलखन सिंह महतो फ्लैट की गली में शुक्रवार की देर रात बैंक से पैसा निकाल कर घर जा रहे सचिवालय के रिटायर कर्मी भट्टन कोड़ा से बाइक सवार दो अपराधी रुपयों से भरा बैग छीनकर भाग गये। बैग में 2 लाख 30 हजार रुपये मौजूद थे।

तीसरी कैश लूट – 22 जून दिन सोमवार को राजधानी पटना में बदमाशों ने पीएनबी अनीसाबाद शाखा में डाका डाल दिया। बैंक कर्मियों व ग्राहकों को बंधक बनाने के बाद हथियारबंद बदमाश बैंक से 52 लाख 38 हजार रुपये लूट ले गये। इनमें 52 लाख 33 हजार 500 रुपये बैंक के व 4 हजार 600 रुपये बेउर के ही एक ग्राहक कारोबारी नीतेश कुमार के थे। वारदात को अंजाम देने के बाद सभी बदमाश अलग-अलग बाइक पर सवार होकर भाग गये। घटना की सूचना पर आईजी रेंज संजय सिंह, एसएसपी उपेंद्र शर्मा तथा एफएसएल की टीम ने बैंक में करीब एक घंटे तक जांच की। बदमाशों की तलाश में पुलिस ने शहर भर में नाकेबंदी की लेकिन बदमाश पकड़े नहीं जा सके।  वही पटना Live ने अपनी तहकीकात में फरार हो रहे अपराधियो की सीसीटीवी फुटेज दिखाई थी।

 

Comments are closed.