खुलासा–(एक्सक्लूसिव वीडियो) पटना पुलिस की तीसरी आंख बनी शोपीस, 5 गोलिया मारी गई थी युवक, पुलिस पर गंभीर आरोप,लगे पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे

2
17

पटना Live डेस्क। बिहार की राजधानी पटना में 26 जनवरी के सुअवसर पर सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ामात करने का पुलिस द्वारा किया गया था। लेकि दावे की धज़्ज़िया उड़ाते हुए बाइक सवार अपराधियों ने शुक्रवार को दिन दहाड़े एक युवक को ताबड़तोड़ 5 गोलियां मार कर मौत के घाट उतार दिया और आराम से फरार हो गए। इधर, अपराधी घटना को अंजाम देकर फरार होने में कामयाब हो गए वही मकतूल के भाई के अनुसार स्थानीय थाना पुलिस को कई बार मोबाइल पर इत्तिला दी गई लेकिन महज कुछ सौ मीटर की दूरी तय करने में पुलिस को घंटों लग गये।
सरेआम धाय धाय और बन्दा खल्लास

जब पूरा मुल्क सूबा और राजधानी पटना गणतंत्र दिवस
के उल्लास में मशगूल रही, इसी दौरान पटना सिटी के खाजेकला थाना क्षेत्र के सोनार टोली इलाके मे बाइक सवार अपराधियों ने पटना पुलिस के दावो की धज़्ज़िया उड़ाते हुए पुलिस की तीसरी आंख कहे जाने सीसीटीवी कैमरे के बिल्कुल नज़दीकी जद में दिन दहाड़े  27 साल के गोलू उर्फ़ विकास कुमार पर ताबड़तोड़ गोली की बरसात करते हुए कुल 5 गोलिया मार दी और फरार हो गये। अचानक हुई इस गोलीबारी से मोहल्ले में अफरा तफरी मच गई। इधर,गोलिया लगने से बुरी तरह जख्मी गोलू खून से लतपथ ज़मीन पर गिरा दर्द से कराह रहा था,इसी बीच किसी ने गोलू के परिजनों को इसकी खबर कर दी,वो दौड़े दौड़े आये और फिर जख्मी को स्थानीय लोगो की मदद से अस्पताल लेकर गए जहाँ डॉक्टरो ने गोलू के परिजनों को बताया कि उसकी मौत हो चुकी है।
मौत की खबर सुनते ही गोलू के घर मे कोहराम मच गया। इधर,परिजन शव को लेकर अपने घर सोनार टोली आ गए। तब तक पुलिस को मामले की जानकारी नही थी। इस बाबत उसके भाई ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुये कहा कि कई बार मोबाइल से हत्या की सूचना के बाद भी थाना पुलिस तकरीबन डेढ़ घंटे बाद वारदात स्थल पर पहुची।खैर, हत्या की सूचना मिलने ओर देर से ही सही घटना स्थल पर पहुचे एएसपी और पुलिस की टीम पुरे मामले की छान बीन में जुट गई और पुलिस ने चार की संख्या में कारतूस का खोखा बरामद किया। साथ ही पुलिस इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज को खंगालने की कवायद में जुटी ताकि हत्यारो का चेहरा सामने आसके लेकिन अभी तो पुलिस को एक और झटका लगना बाकी था।
सीसीटीवी साबित हुआ शोपीस तकनीकी अनुसंधान और सीसीटीवी फुटेज की मदद से
गोलू के कातिलों को पहचा कर धर दबोचने की कवायद
में जुटी खाजेकलां थाना पुलिस घटनास्थल के आस पास सीसीटीवी तलाशने में लगी तो उसकी आंखें यह देखकर चमक उठी की घटना स्थल के कुछ दूरी पर बिजली के सीमेंटेड खंभे पर सीसीटीवी कैमरा इनस्टॉल है।फिर क्या थाआनन फानन पता किया गया की ये सीसीटीवी किसका है और फिर फौरन सीढ़ी मंगवाकर उसके हार्डडिस्क को खघालने की कोशिश की गई। लेकिन,ये क्या ये सीसीटीवी कैमरा तो महज शोपीस निकला, वाईफाई ऑन था पर रिकॉर्डिंग बंद थी। यानी सीसीटीवी कैमरा बस नाम का था। अब,ये भी जान लीजिये ये कैमरा यहाँ कब और किस वजह से युही बतौर शोपीस मौजूद है। ये कैमरा प्रकाश पर्व के समारोह के समापन के दौरान सुरक्षा खातिर लगाया गया और अब भी बतौर शोपीस मौजूद है।

गोलू को मारी गई थी कुल 5 गोलिया

इधर,पुलिस ने मकतूल गोलू का परिजनों से शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराकर सौप दिया है। वही, शव के पोस्टमार्टम में यह खुलासा हुआ है कि गोलू उर्फ विकास को अपराधियों ने 5 गोलिया मारी थी।एक सर में, एक कमर में और अन्य 3 गोलिया गर्दन के आसपास। यानी इससे साफ जाहिर होता है कि हत्यारो की टोली किसी भी सूरत में गोलू को ज़िंदा छोड़ा नही चाहते थे। वही, पुलिस द्वारा शव सौपे जाने के बाद परिजन शव का दाह संस्कार कर रहे है।
वही, दिनदहाड़े हुए इस कत्ल के बाबत स्थानीय सूत्रों का दावा है कि मारे गए गोलू उर्फ विकास के परिजन कत्ल के पीछे की हकीकत यानी क्यो और किसने से अवगत है। तभी तो उनका कहना है कि हमलोग मुकदमा भी नही करेंगे खुद निपट लेंगे। वही, दूसरी तरफ एक बेहद चौकाने वाली खबर भी जबरदस्त ढंग से स्थानीय लोगो के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। घटना भी खाजेकलां थाना क्षेत्र के सोनार टोली मोहलले से जुड़ी है। उस में भी खूंरेजी हुई है पर नाम पता और मक़तूल का कुछ अतापता नही मिल रहा है। वही सूत्रों का दावा है महज कुछ घंटों के अंतराल पर दो घटनाओं का कुछ तो आपस मे लिंक है। लेकिन वो  पहला कौन था ? लापता और नामालूम है पर…खून खून है टपकेगा ,तो कैसे छुपेगी सच्चाई
लाल लहू मिला है माटी में, तो सच कब छूपेगा भाई…