बड़ी खबर -(वीडियो)भारत बंद के दौरान छपरा मे भारी बवाल,एसडीओ,डीएसपी के वाहन समेत कई पुलिस गाड़िया छतिग्रस्त, लाठीचार्ज 

पटना Live डेस्क। एससी-एसटी एक्ट के बारे में सुप्रीम कोर्ट के दिये गये फैसले के समर्थन में छपरा में भारत बंद पूरी तरह से सफल रहा। बंद समर्थकों का आक्रोश पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर देखने को मिला। वही छपरा के मुफस्सिल थाना क्षेत्र अंतर्गत व छपरा सलेमपुर रास्ट्रीय राजमार्ग संख्या 101 के नैनी फाकुली गांव के उप्रदवियों ने सड़क पर टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन किया और यातायात को पूरी तरह से बाधित कर जमकर हंगामा किया।
बंद समर्थकों द्वारा हंगामे की खबर और एनएच खबर मिलते ही सदर एसडीओ और डीएसपी मौका-ए- वारदात पर पहुचे और उपद्रवियों को समझने बुझाने की कोशिश शुरू की। लेकिन बात बिगड़ गई और फिर देखते ही देखते बंद समर्थकों ने पुलिस बल पर पथराव शुरू कर दिया।इस पथराव में सदर एसडीओं व डीएसपी के सरकारी वाहनों समेत कई पुलिस वाहन को ईट पत्थर से मारकर छतिग्रस्त कर दिया और तमाम वाहनों के शीशे तोड़ डाले। इस भीषण पथराव के दौरान कई पुलिस कर्मी घायल हो गए।
पुलिस दल पर हमला और पथराव की सूचना पर हजारों की संख्या में पुलिस बल के साथ डीएम डीएम हरिहर प्रसाद व एसपी हरकिशोर राय घटना स्थल पर पहुचे। वही घटना में घयल पुलिस कर्मियों को इलाज के लिए अस्पताल भिजवाया और मामले को शांत करने कज कवायद में जुट गए।
इसी बीच पुलिस कर्मियों गाँव मे प्रवेश कर घर घर मे घुस पर उपद्रवियों को तलाशना शुरू कर दिया। इसका जब गाँव वालों ने विरोध करना शुरू कर दिया तो पुलिस के वरीय अधिकारियो ने मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस वालो को गांव से बाहर जाने को कहा और मामले को बिगाड़ने से सभला। वही गांव वालो का कहना रहा कि पुलिस वाले ने तलाशी अभियान के दौरान बदसलूकी करते हुए कई बुजुर्गो और महिलाओ पर भी लाठियां चला दी।
इधर,अन्य पुलिसकर्मियों ने जमकर लाठियों भांजते हुए उपद्रवियों की भीड़ को खदेड़ दिया और देखते ही देखते पुलिस ने लाठी चार्ज कर भीड़ को हटाने में सफल हुई। लेकिन, इस बवाल के बाद अब पुलिस पर ग्रमीणों ने बेहद गंभरी आरोप लगाये है।