Video – बिंदुपुर की बालिकाए -जीने-मरने की कसमें खा एक-दूजे की हुईं

0
32

पटना Live डेस्क। “हम उसके बिना जिन्दा नहीं रह सकते है, हम दोनों एक दुसरे से दो साल से प्यार करते है हम साथ जियेंगे और साथ मरेगे ” यह कहना है बिहार के वैशाली के दो सहेलियों का। जिसमे एक बालिग है तो दूसरी मात्र नौवीं क्लास की स्टूडेंट है। दोनों एक दूसरे के प्यार में पागल है। तमाम वायदे और जीने मरने की ल् कसमें एक लड़की का किसी लड़की के लिए हो तो क्या कहेंगे। बिदुपुर की रहनेवाली दो लड़कियों ने कुल देवता को साक्षी मानकर शादी कर ली। पति बनी लड़की पटना में एक कंसल्टेंट कंपनी में काम करती है। वहीं पत्नी बनी लड़की 17 साल की नाबालिग है।दोनों अपने रिश्ते को लेकर इस तरह उत्साहित हैं कि पति बनी लड़की लिंग परिवर्तन कराना चाह रही है।पहले मुंबई और फिर दिल्ली में उसने लिंग परिवर्तन कराने के लिए डॉक्टर से संपर्क किया था।डॉक्टर ने इसमें जब 11 लाख रुपए खर्च होने की बात कही तो दोनों लड़कियां लौट आयीं। हालांकि कहती हैं कि पैसे कमाकर लिंग परिवर्तन कराएंगे। सुनिए अब क्या कहती है पत्नी बनी लड़की …

 

 

इस बाबत बिदुपुर थानाध्यक्ष ललन प्रसाद चौधरी ने बताया कि नाबालिग लड़की के परिवार वालों ने पति बनी लड़की पर बहला-फुसलाकर भगा ले जाने का आरोप लगाते हुए डेढ़ माह पहले थाने में एफआईआर दर्ज करायी थी। इसी के आरोप में उसे जेल भेजा गया है। उसकी मेडिकल जांच भी करायी गई है। वैशाली एसपी राकेश कुमार ने बताया कि दोनों से बात हुई तो लड़कियां खुद को पति-पत्नी कहती हैं और साथ जीने-मरने की बात कह रही हैं। कोर्ट में धारा 164 के तहत बयान दर्ज कराया गया है। नाबालिग लड़की अपनी मर्जी से जाने तथा पति बनी लड़की के साथ ही रहने की बात कह रही है। मां-बाप के साथ रहने से उसने इंकार कर दिया है। पुलिस ने मेडिकल जांच के बाद उम्र की जांच करायी है। फिलहाल उसे अल्पावास गृह में रखने की तैयारी चल रही है।
पत्नी बनी लड़की ने बताया कि दोनों की दोस्ती दो साल पहले हुई थी। दोस्ती प्यार में बदल गयी। फिर साथ रहने का हमने फैसला किया। वे दोनों डेढ़ महीने पहले मुंबई गईं ताकि लिंग परिवर्तन कराया जा सके। मुंबई में पति बनी लड़की का भाई रहता है लेकिन वो उससे नहीं मिलीं। किराए पर कमरा लिया। यहां जब डॉक्टर से बात नहीं बनी तो दिल्ली चली आईं। दिल्ली में डॉ. कौशिक ने 11 लाख रुपए में लिंग परिवर्तन की बात कही। उसके बाद दोनों घर आ गईं।