खुलासा – सुकमा नक्सली हमले के वायरल वीडियों का असली सच

पटना Live डेस्क।अमूमन प्रत्येक दिन प्रत्येक घंटे सोशल मीडिया के माध्यम से तस्वीरें और वीडियो वायरल होते हैं। तस्वीरों और वीडियो के जरिए तमाम  चौंकाने वाले दावे भी किए जाते हैं। ऐसा ही एक  वीडियो सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। इस वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि सुकमा में हुए इस वर्ष 2017 में अब तक के सबसे बड़े नक्सली हमले का वीडियो है। लेकिन सच इससे बिलकुल उलट है।
सुकमा हमले के इस तथाकथित वीडियो को छत्तीसगढ़ के सुकमा में सोमवार को सीआरपीएफ के जवानों पर हुए नक्सली हमले का वीडियो कह कर खूब वायरल किया जा रहा है। इस वीडियो में नक्सली खुलकर गोलीबारी करते और नक्सली युवतियां,शहीद जवानों के हथियार लूटती नजर आ रही हैं। लगभग 5 मिनिट 34 सेकेंड के इस वीडियो में हर तरफ खून ही खून बिखरा पड़ा नजर आ रहा है। स्थानीय गोंडी भाषा में बातें करते नक्सली पोजीशन लेने और गोली चलाने की बातें करते नजर आ रहे हैं।

वीडियो में साफ दिख रहा है कि नक्सलियों की संख्या काफी ज्यादा है। वे पेड़ों की ओट में छिपे हुए हैं और जवानों को घेरे हुए हैं। मुख्य सड़क पर कुछ बाइक्स भी खड़ी हैं।संभवत: ये नक्सलियों की हैं। इन्हीं बाइकों पर पहुंचे नक्सलियों ने सीआरपीएफ के जवानों को तीन तरफ से घेर लिया और गोलियां बरसा रहे हैं। कई जवान रक्तरंजित हालत में तड़पते तो कई लहूलुहान और मृत पडें नजर आ रहे हैं। कुछ महिला नक्सली इन मृत जवानों के बैग व हथियार निकालकर दूसरों को दे रही हैं। वीडियो दिल दहलाने वाला है।

इस तथाकथित सुकमा हमले का वायरल वीडियो का सच जानने के लिए जब पटना Live ने पड़ताल शुरू की शुरुआती दौर में ही युट्युब पर ये वीडियों कई वर्षो पहले की तारीख़ों में अपडेट किया गया दिखा। सुकमा हमला सोमवार यानी 24 अप्रैल को घटित हुआ है। पर ये वीडियों कई साल पहले से ही अपलोडेड है। वही ये वीडियों “एसपी किल्ड बाई नकसल्स इनसाइड छत्तीसगढ़” के नाम से भी मौजूद है। इस रेफेरेंस को जब हमने गूगल पर सर्च किया तो पता चला कि 12 जुलाई वर्ष 2009 में हुए नक्सली हमले में राजनांदगांव के तत्कालीन एसपी विनोद कुमार चौबे समेत 29 जवान शहीद हुए थे। यह घटना 8 साल पहले घटित हुई थी। वही छत्तीसगढ़ में तीन दिन पहले यानी 24 अप्रैल को चिंतागुफा इलाके में हमला हुआ लेकिन वायरल वीडियो में को बारीकी से देखने पर पता चलता है कि ये राजनांदगांव के मानपुर थाना क्षेत्र की में घटित नक्सली हमले का पुराना वीडियो है। इस बात का सुराग वायरल वीडियो में ही है,वीडियो में एक  माइलस्टोन है जिस पर मानपुर 7 किमी लिखा है।

इस हमले में नक्सलियों ने पूरी घटना को कैसे अंजाम दिया था, इसकी पूरी वीडियो रिकॉर्डिंग की थी  तब से लेकर अब तक जब भी बड़े नक्सली हमले होते है इस वीडियो को वायरल कर दिया जाता है। जैसे इसबार सुकमा हमले से जोड़कर चलाया जा रहा है।