बदलता और बनता बिहार: भोजपुरी फिल्म जगत और बिहार कला क्षेत्र को हाई-फाई करने की ओर एक कदम

पटना Live डेस्क। के.के.आर इंटरटेनमेंट की ओर से, रविवार के दिन “होटल नेस इन” में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें बिहार के कला संस्कृति एवं युवा विभाग के मंत्री शिवचंद्र राम को भी आमंत्रित थें। आयोजित समारोह में अभिनेता खेसारी लाल यादव, अवधेश मिश्रा और अभिनेत्री काजल राघवानी भी मौजूद रहीं। के.के.आर के इंटरटेनमेंट के द्वारा आयोजित समारोह में अभिनेता खेसारी लाल यादव, अवधेश मिश्रा और अभिनेत्री काजल राघवानी भी मौजूद रहीं। इस कार्यक्रम में युवाओं और उनकी कला को काफी प्रोत्साहित किया गया। बता दें कि के के आर इंटरटेनमेंट के मैनेजिंग डायरेक्टर, पवन पांडेय है और ये इवेंट कंपनी नए प्रतिभाओं के लिए एक बेहतरीन मंच के रूप में बिहार में अपना कार्य करने जा रही है और भोजपुरी फिल्म को भी अपनी छवि बदलने और सुधारने के लिए ये कंपनी प्रयत्नशील रहेगी। अब तक भोजपुरी फिल्म बिना किसी गाइड लाइन्स के चल रही थी। बदलते और बनते बिहार के लिए ये कंपनी अपनी अलग भूमिका निभाएगी। अब बिहार में युवाओं को हर क्षेत्र में जैसे सांस्कृतिक कार्य, खेल, और फ़िल्म में अपनी कला दर्शाने का मौका मिलेगा। बिहार की कला–संस्कृति को आगे बढ़ाने के लिए एक तरीके से जिम्मेदारी के के आर इंटरटेनमेंट और बिहार युवाओं के ऊपर है।

 

शिवचंद्र राम ने बताया कि राज्य में सिनेमा के विकास को लेकर बिहार की सरकार हमेशा ही उतारू रहती है और इस कंपनी को भी हर जरुरत की चीजें प्रोवाइड कराएगी। बसर्ते यहाँ की युवा पीढ़ी और भोजपुरी फिल्म के निर्माताओं कलाकारों को कुछ फायदा हो छवि में सुधार हो। कला संस्कृति एवं युवा विभाग ने केंद्र सरकार पत्र भेजते हुए अनुरोध किया है कि बिहार में सेंसर बोर्ड का एक क्षेत्रीय कार्यालय खुलवाया जाए क्योंकि अब तक यहां के फिल्मकारों को कई सुविधायें उपलब्ध नहीं करायें गए है। सेंसर बोर्ड का कार्यालय खुलने से बिहार में भी बेहतर फ़िल्म का निर्माण किया जा सकेगा।

मौजूद गेस्ट्स ने गिनवाये के.के.आर इंटरटेनमेंट के ये फायदे :


1. भोजपुरी इंडस्ट्री के लिए एक नयी और सकारात्मक शुरुआत है ।
2. नवोदित कलाकरों मार्ग-दर्शक और स्थापित कलाकरों को कुछ नया सिखाने का मंच है ।
3. कलाकारों को अपने प्रतिभा को सही दिशा में ले जाने का मौका मिलेगा ।
4. भोजपुरी इंडस्ट्री में सही सलाह और गाइड लाइन्स की जरुरत की पूर्ती हो जाएगी।
5. के के आर सिने जगत के लिए एक बेहतर मंच है, जो बिहार के फिल्म इंडस्ट्री के लिए मार्गदर्शन का काम करेगी।
6. सेंसर बोर्ड का एक क्षेत्रीय कार्यालय खुल जाने से भोजपुरी सिनेमा इंडस्ट्री कीअश्लीलता पर रोक लग जायेगी।
7. अश्लील सीन्स पर रोक लग जाने से बिहार का असली कल्चर और भोजपुरी समृद्धि सही मायने में भोजपुरी फिल्म में दिख पायेगा द्वारा भोजपुरी जगत सराह जाएगा।
8. भोजपुरी फिल्म की पब्लिक वैल्यू बढ़ जाएगी।