अब तक 5 थानेदार हुए पटना में निलंबित, पाटलिपुत्र थानेदार के बाद भी कई और निशाने पर

0
11

# अपने बच्चे खातिर गुहार लगाने पाटलिपुत्रा थाने पहुची थी महिला को अपशब्द कहना पड़ गया थानेदार को भारी

पटना Live डेस्क। सूबे की राजधानी पटना में थानेदारी करना इतना आसान नही है। लब्बोलुआब यहाँ शराब और सुशासन में तनिक भी गलती हुई नही की आपका का निलंबन तय है।अब तक शराब ने बेउर और जक्कनपुर के थानेदार से लेकर थाने के पूरे स्टाफ को न केवल निलंबित करवाया है बल्कि सिपाही तक को लाइन हाजिर करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।शुरुआत बेउर से हुई और फिर अबतक की कार्रवाई के लपेटे में फतुहा,जक्कनपुर, रूपसपुर और अब पाटलिपुत्रा थानेदारों पर गाज गिरी है।


वही गुरुवार को पटना सेंट्रल रेंज के डीआईजी राजेश कुमार ने पाटलिपुत्रा के थानेदार संजीव शेखर झा को निलंबित कर दिया।एसएचओ पर लगतारा कई तरीके के आरोप हैं। इस आलोक में डीआईजी द्वारा एसएसपी मनु महाराज को संजीव शेखर झा के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा करते हुए रिपोर्ट भेजने को कहा गया है।
राजधानी के बेहद वीआईपी पाटलिपुत्रा के थानेदार संजीव शेखर झा के खिलाफ ताजा मामला हाई कोर्ट के निर्देश के बावजूद प्राथमिकी दर्ज करने में कोताही करने का लगा है। एक महिला अपने बच्चे के अपहरण की शिकायत को लेकर परेशान थी।थाने ने नहीं सुना हद तो ये की थानेदार ने अपशब्द कहकर उसे भगा दिया तो दुखी होकर महिला हाई कोर्ट गई। हाई कोर्ट ने पाटलिपुत्रा थाने को एफआईआर दर्ज कर बच्चा दिलाने को कहा।लेकिन थानेदार यह कहकर प्राथमिकी दर्ज करने से इनकार करते रहे कि मामला जक्कनपुर थाने का है। उस तरह वो महिला लगतारा जक्कनपुर और पाटलिपुत्रा के बीच झूलती रह गई। न तो जक्कनपुर थाने ने भी रिपोर्ट लिखी ना ही पाटलिपुत्रा थाने ने लिखी।


उल्लेखनीय है कि जानकारी के मुताबिक 2 महीने पहले नेहरू नगर की रहने वाली एक महिला ने स्थानीय इलेक्ट्रिशियन पर आरोप लगाया कि कुछ दिन पहले उसके घर की फ्रिज खराब हो गई थी। उसने फ्रिज मैकेनिक को अपने घर बुलाया और उसने मैकेनिक ने उसकी फ्रिज ठीक कर दी। उसके बाद मैकेनिक ने महिला के बच्चे से दोस्ती कर ली और लगातार उसके घर आने-जाने लगा। इसी बीच दोनों में संबंध भी बन गए।
युवती उस फ्रिज मैकेनिक पर आरोप लगा रही है कि फ्रिज मकैनिक ने उसके ने जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाए और अब वह उसके बच्चे को हॉस्टल से लेकर गायब हो चुका है।
जब महिला ने इस घटना की शिकायत पाटलिपुत्र थाने में करने की कोशिश की तो पाटलिपुत्र थाने के थानेदार ने युवती को अपशब्द कहे और थाने से भागा दिया। पीड़ित महिला का कहना है कि थानेदार ने उसका एफआईआर भी दर्ज नहीं किया था।इस लिए वो हाई कोर्ट की शरण मे गई।