केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार पर नीतीश ने दी सफाई,कहा-महज कयास थे,मंत्रिमंडल में शामिल होने का नहीं था प्रस्ताव

21

पटना Live डेस्क. सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल न होने को लेकर अपनी सफाई दी है..उन्होंने कहा कि जेडीयू के मंत्रिमंडल में शामिल होने या नहीं होने को लेकर मीडिया में अटकलों का बाजार गर्म था,जबकि पार्टी ने इस संबंध में कोई राय नहीं दी थी…सीएम ने कहा कि अब यह चैप्टर बंद हो गया है और सारे कयास गलत साबित हुए हैं…उन्होंने कहा कि इस मामले पर कयास लगाने की जरुरत नहीं थी..सीधे मुझसे पूछ लेना चाहिए था…लालू प्रसाद के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने वाले बयान पर पलटवार करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि मीडिया की खबरों पर ‘डार्लिंग’(लालू प्रसाद) को भी मौका मिल गया.ऑफर आने के बाद बिहार के हित में बीजेपी के साथ जाने का फैसला किया..एनडीए में साथ जाने का फैसला बिहार की जनता के हित में लिया गया है..हमलोगों की शुरू से ही करप्शन को लेकर जीरो टोलरेंस और न्याय के साथ विकास की नीति रही है.

नीतीश कुमार ने कहा कि लालू जी कांग्रेस काे घबड़ाहट में रखना चाहते हैं, इसलिए बाेल रहे कि जदयू ताेडना चाहता है कांग्रेस काे.. मुझे कितना अपमान सहना पड़ा, महागठबंधन को तोड़ने का इल्जाम लगाया गया, तरह-तरह की बातें की गईं कि पहले से बीजेपी के साथ सेटिंग थी। कोई मुझसे पूछे कि किसकी किसके साथ पहले से सेटिंग थी..

महागठबंधन का टूटना स्वाभाविक था क्योंकि मैं भ्रष्टाचार से कभी समझौता नहीं कर सकता चाहे कुछ भी हो जाए.. लोग मुझपर दबाव बना रहे थे, लेकिन मेरे ऊपर बिहार की जिम्मेदारी है, बिहार की जनता की जवाबदेही है, मैं किसी और को नहीं जानता..

राजद की रैली को नीतीश कुमार ने पारिवारिक उत्सव बताते हुए तंज कसा कि रैली में आयी भीड़ का काेई मतलब नहीं था..लोगों ने देखा कि किस तरह से फोटो शॉप कर वाह-वाही लूटने का प्रयास किया गया, लेकिन वो तो फेल हो गया..

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज पटना में लोक संवाद कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद मीडिया को संबोधित कर रहे थे.. इस दौरान उन्होंने कई प्रश्नों के जवाब दिये.. उन्होंने कहा कि बिहार में बाढ़ से बहुत नुकसान हुआ है.. बाढ़ पीड़ितों को उचित सहायता दी जा रही है.. बिहार सरकार इसके लिए बेहतर काम कर रही है.. नेशनल हाइवे और सड़कों का ज्यादा नुकसान हुआ है.. लेकिन इस पर भी लोग बयानबाजी करने से बाज नहीं आ रहे हैं..

नीतीश कुमार ने कहा कि बाढ़ पीड़ितों के लिए सरकार हरसंभव मदद कर रही है. पीड़ितों लोगों के अकाउंट में राहत राशि ट्रांसफर किये जा रहे हैं. आजीटीएस के माध्यम से लगभग 4 लाख 92 हजार लोगों के अकाउंट में रुपये ट्रांसफर किए जा चके हैं.