त्रासदी की हदे तोड़ती 9वीं क्लास की छात्रा की दर्दनाक और खौफनाक दास्तां सुनकर आपकी रूह कांप जाएगी

0
29

पटना Live डेस्क। जिस उम्र में अमूमन बच्चियां गुड्डे गुड़ियों से खेलती है। अपनी मासूम हरकतों से परिजनों और जानने वालों के चेहरे पर मुस्कान ला देती है। उस उम्र में उसकी अपनी सगी माँ ने उसे उसके सगे दादा के बिस्तर पर पहुचा दिया। दरिंदगी की इंतहा पार करते हुए इंसान की शक्ल में सेक्स मैनियक उसके दादा ने मासूम को अपनी हवस का शिकार बनाया और यह सिलसिला 6 साल तक चलता रहा है। माँ के सामने ही मासूम को उसका दादा रौंदता रहा लेकिन आखिर एक दिन मासूम ने हौसला दिखाया और घर जो वर्षो से नर्क में तब्दील हो चुका था का सच उजागर कर दिया।
और फिर उसने बताया मेरी मां का दादा से अवैध संबंध हो गया। सदमें में दादी ने खुदकुशी कर ली तो मेरे पिता घर छोड़कर न जाने कहाँ चले गए। एक दिन दादा की गंदी नजर मुझ पर भी पड़ गई। फिर मेरी मां ने मुझे दादा के बिस्तर पर डाल दिया। 7 साल की उम्र से यह सिलसिला छह साल तक चलता रहा। और फिर बर्दाश्त की तमाम सीमाएं जब टूट गई। मेरी सहनशक्ति खत्म हो गई और ज़िंदगी का धैर्य भी जवाब दे गया। अपने स्‍कूल की प्रिंसिपल की मदद से मैंने अपनी कलयुगी मां और दादा को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया।
यह दर्दनाक दास्तां है, राजधानी पटना के रामकृष्ण नगर थाना क्षेत्र की 13 वर्षीय मासूम लड़की की, जो शहर के एक बड़े स्कूल में नौवीं की छात्रा है। मासूम ने जब स्कूल की प्रिंसिपल को अपने साथ हों रहे पाशविक अत्याचार की आपबीती सुनाई तो स्कूल की प्रिंसिपल दंग रह गईं। उन्होंने तत्काल इसकी सूचना सिटी एसपी (पूर्वी) विशाल शर्मा को दी। पुलिस ने उसकी शिकायत पर शुक्रवार को दादा और मां को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

भाई-बहनों के साथ रिमांड होम में रखी गई मासूमसिटी एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि मासूम घर में नहीं रहना चाहती,इसलिए उसे पटना सिटी स्थित रिमांड होम में रखा गया है। स्कूल प्रबंधन ने प्रिया की पढ़ाई की जिम्मेवारी ली है। उसकी छोटी बहन और दो भाई भी हैं। सिटी एसपी के निर्देश पर स्थानीय थाना पुलिस उनकी देखरेख कर रही है। किसी प्रतिष्ठित स्वयंसेवी संस्था की तलाश की जा रही है, जो चारों बच्चों का भरण-पोषण करे और शिक्षा दिलाने की व्यवस्था सुचारू रूप से कर सके।

दादा की दरिंदगी और माँ की हदे तोड़ती महत्वकांक्षा

आर्मी से रिटायर होने के बाद नाते-रिश्तेदारों से अलग होकर मासूम के दादा ने रामकृष्ण नगर में मकान बना लिया। रिटायरमेंट के बाद मिल रहे पेंशन और मकान के किराए से घर चलता था।घर में प्रिया के अलावा उसकी मां, छोटी बहन और दो छोटे भाई रहते थे।

मासूम ने कोर्ट में जो बयान दिया है, उसके अनुसार उसकी मां का भी दादा से अवैध संबंध है। मां की मर्जी से दादा ने उसके साथ जबरन संबंध बनाए। तब वह सात साल की थी। ऐसा छह साल से होता आ रहा था। शुरुआती दिनों में उसने कई बार मां से शिकायत की पर जवाब यही मिलता था कि दादा की बात नहीं मानोगी तो न अच्छा खा-पी सकोगी और न ही अच्छे स्कूल में पढ़ पाओगी।

एक साल पहले भी सुनाई थी पीड़ा

प्रिया ने एक साल पहले भी स्कूल की प्रिंसिपल से पीड़ा सुनाई थी। हालांकि, उसने पूरी बात नहीं बताई, जिसके कारण प्रिंसिपल भी सारा माजरा समझ नहीं पाईं। उन्होंने प्रिया की मां को स्कूल बुलाया और उसे सुरक्षित माहौल में रखने की सलाह दी। प्रिंसिपल इस बात से अनजान थीं कि प्रिया के साथ हो रहे गंदे खेल की सूत्रधार उसकी सगी मां ही है। स्कूल से घर पहुंचने के बाद प्रिया की मां ने उसकी खूब पिटाई की थी।

दादी ने की थी खुदकशी, पिता छोड़ गया घर

प्रिया की दादी को नौ साल पहले जब उसकी मां और दादा के अवैध संबंध की जानकारी हुई तो खुदकशी कर ली। पिता भी छह साल पहले घर छोड़कर चले गए। चाचा का भी कई सालों से पता नहीं है। प्रिया ने सुना है कि उसके पिता और चाचा कोई काम नहीं करते थे। दादा अक्सर दोनों बेटों को मारते-पीटते थे।

छुट्टी होने के बाद स्कूल से घर जाने से लगता था डर

मासूम स्कूल की इकलौती ऐसी छात्रा है,जो छुट्टियों के बाद घर जाने से डरती और कतराती थी। उसके स्वभाव में अजीब सा चिड़चिड़ापन झल्लाहट रहता,छोटी-छोटी बात पर झल्ला उठती थी। प्रिंसिपल की सूचना पर महिला थाने की पुलिस को मासूम से पूछताछ के लिए भेजा गया था। चाइल्ड लाइन की काउंसलर भी उससे बातचीत करने गई थीं।

सिटी एसपी की पहल

सिटी एसपी ने जब मातहतों से प्रिया की मानसिक स्थिति के बारे में पूछा तो मालूम हुआ कि वह पुलिस को देखकर काफी तनाव में आ गई है। तब सिटी एसपी स्वयं चॉकलेट लेकर पहुंचे और इधर-उधर की बातें कर उसका मन बहलाया। उन्होंने जब प्रिया से उसकी दिनचर्या पूछी तो जवाब मिला- ‘मेरे तो दिन और रात दोनों ही खराब रहते हैं।’ प्रारंभिक पूछताछ में प्रिया ने मां की भूमिका के बारे में पुलिस को अधिक नहीं बताया था, पर कोर्ट में मजिस्ट्रेट के सामने सारी बातें कह दी।