बड़ी ख़बर – एसएसपी पटना पर आम शहरी के विश्वास ने पहुचाया कातिलों को सलाखों के पीछे, वो “गुमनाम हीरो” जिसने रिटायर्ड प्रोफेसर को दिया नया जीवनदान, 

19

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना के आम आदमी को अपने एसएसपी मनु महाराज पर कितना एतबार है इसका पुनः एक बार जबरदस्त उदाहरण देखने को मिला है। पब्लिक फ्रेंडली आईपीएस मनु महाराज की छवि और व्यवहार का ही नतीजा रहा कि एक रिटायर्ड प्रोफेसर की मौत की साज़िश न केवल बेनकाब हो गई बल्कि समय रहते अपराधियों की खूंखार टोली को मास्टरमाइंड के साथ धर दबोचा गया। हुआ यूं कि राजधानी पटना के चितकोहरा इलाके में चाय की एक दुकान पर बुधवार की रात एक खूनी साज़िश को अंजाम देने की प्लांनिंग की जा रही थी। निशाने पर था एक रिटायर्ड प्रोफेसर जिसके घर मे डकैती के दौरान उसकी निर्मम हत्या कर देनी थी। चाय की एक दुकान पर कांड को अंजाम देने वाले अपराधी जुटे थे। चाय की चुस्कियों के बीच खुरेजी करने की आख़री प्लांनिंग की जा रही थी,लेकिन वहीं पर चाय पी रहे एक युवक ने अपराधियों की खौफ़नाक साज़िश को सुन लिया। हत्या और डकैती की प्लांनिंग का टारगेट थे रिटायर्ड प्रोफेसर नुरुद्दीन अशरफ उर्फ नूर बाबू। प्रोफेसर साहब पटना के ही एएन कॉलेज से रिटायर्ड हुए थे। चितकोहरा में ही उनका घर है। जहां वो अपनी फैमली के साथ रहते हैं।


प्रोफेसर की मिल्कियत में शालीमार कोल्ड स्टोर भी है।
नूर बाबु काफी सुखी सम्पन्न है। चुकी युवक प्रोफेसर साहब को जनता भी था। उसने अपराधियों की ज़ुबान पर उनका नाम सुना तो घबरा गया। चूंकि अपरधियों का दस्ता कुछ दूरी पर खड़ा था। जो उसने सुना उसके अनुसार उसे लगा किअपराधी शाम के वक्त प्रोफेसर को लूटने के चक्कर मे हैं। वो अपराधियों की पूरी बात को सुन नही पाया था। लेकिन जो सुना वो भी उसे विचलित कर गया था।

एसएसपी मनु महाराज की जनसुलभ छवि का असर

एक आम आदमी अगर अपने आसपास की घटनाओं को लेकर गर सतर्क और चौकस रहते हुए पुलिस का सहयोग करे तो किसी भी खौफ़नाक साज़िश को समय रहते बेनकाब किया जा सकता है। इसकी एक बेहद उम्दा मिसाल है पटना एसएसपी की जनसुलभ छवि और आमआदमी का उनके पास बेधडक़ एक विश्वास के साथ पहुच जाना। इसी विश्वास की बिना पर कुछ समय बाद ही युवक पटना के एसएसपी मनु महाराज के पास जा पहुंचा।उसने अपराधियों की प्लानिंग एसएसपी को बता दी। फिर क्या था मामले की गंभीरता और पटनावासियों को हर पल सुरक्षित रखने की कोशिश करने वाले एसएसपी ने स्पेशल सेल के डीएसपी बीके शाही के नेतृत्व में एक टीम बना डाली। युवक को लेकर टीम चाय की दुकान और उसके आसपास के इलाकों में घूमती रही।अपराधियों की पहचान एक बड़ा चैलेंज था। लेकिन कहते है न कोशिश कभी व्यर्थ नही जाती। कई घंटों मशक्कत के बाद एक अपराधी दिखा फिर क्या था टीम ने उसे अपने कब्जे में लिया और फिर पूछताछ शुरू की गई। और जब अपराधी ने मुँह खोला तो पूरा सच साफ हो गया और खुनी साज़िश का पर्दाफाश हो गया।

नौकरानी निकली मास्टरमाइंड

प्रोफेसर के घर डकैती और हत्या की इस बड़ी प्लानिंग के पीछे कोई और नहीं, बल्कि उनके ही बहन के घर काम करने वाली नौकरानी का हाथ था। इस बात का खुलासा अपराधियों ने पूछताछ में किया। नौकरानी सहित इस मामले में पुलिस टीम ने 6 अपराधियों को अरेस्ट किया है। जिसमें सूरज कुमार, सूर्यकान्त, विजय कुमार, रंजीत कुमार, फुलेन्द्र कुमार और नौकरानी शामिल है। 2 पिस्टल, 3 गोली और कई हथियार बरामद किए। ये अपराधी इतने शांतिर थे की लोकल नम्बर की जगह तमिलनाडु का मोबाईल नम्बर यूज़ कर रहे थे।

पटनावासियों के लिए एसएसपी मनु महाराज की जन सुलभ है यह फिर एक बार साबित हुआ है। इस वर्ष की यह पहली घटना है जिसमे एक कानून का सम्मान करने वाले शख्स ने दिलेरी दिखाते हुये संदिग्ध के बाबत न जानकारी दी और उसको पुलिस के सुपुर्द किया। साथ ही उन्होंने अनुराग के साहस की तारीफ करते हुए सम्मनित करने की बात कही।