सफ़राज के इस्तीफे के बाद तेजस्वी यादव का नीतीश पर करार तंज – बच्चा है न जी , इंतज़ार कीजिए अभी कितनी टूट और होगी।

0
17

पटना Live डेस्क।चुनाव आयोग द्वारा बिहार के दो विधानसभा और एक लोकसभा सीट के लिए चुनाव तिथि मुकर्रर करते ही सूबे की सियासत की गर्मी बढ़ गई है। जदयू के जोकीहाट से विधायक सरफराज आलम ने विधानसभा से इस्तीफ़ा दे दिया है। वही  सरफराज आलम विधायक पद से इस्तीफा देने के बाद सीधे राबड़ी देवी से मिले और मीडिया को कहा कि यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी,इसके बाद से ही कयासों के जोर पकड़ने लगे है और ये अब लगभग निश्चित है कि अररिया लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव से पहले जदयू को झटका लगा है। जदयू विधायक मोहम्मद सरफराज आलम ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है।सरफराज के आरजेडी में शामिल होने और पार्टी के टिकट से लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव लड़ने की बात सामने आ रही है। राजद सूत्रों को दावा है कि 13 फरवरी विधिवत सरफराज राजद के दामन थाम लेंगे। वही, अपनी रणनीति में सफल और जदयू को करारा उपचुनाव से पहले करार झटका देने में कामयाब रहे तेजस्वी ने नीतीश कुमार के दल पर ट्वीट के जरिये जबरदस्त हमला किया है।

एक सप्ताह पहले बन गई थी बात

सरफराज के जदयू से अलग होकर आरजेडी में शामिल होने और पार्टी के टिकट से चुनाव लड़ने की चर्चा क्षेत्र में कई दिनों से चल रही थी। एक सप्ताह पहले इस संबंध में सरफराज आलम ने पटना में तेजस्वी यादव से मुलाकात की थी।इसी मुलाकत में सरफराज को आरजेडी से टिकट मिलना तय हो गया था। शुक्रवार को चुनाव आयोग ने 11 मार्च को वोटिंग और 14 मार्च को मतगणना की तारीख तय की। चुनाव की तारीख सामने आते ही सरफराज ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।

यह तो शुरुआत है: तेजस्वी

सरफराज के इस्तीफा पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि यह तो शुरुआत है। आगे देखिए कैसे जदयू में भूचाल आता है। जदयू के अंदर काफी आक्रोश है। पार्टी के नेता नीतीश कुमार से अधिक आरसीपी सिंह से नाराज हैं। वह नेताओं को महत्व नहीं दे रहे हैं। आने वाले समय में जदयू में और भगदड़ मचेगी।
इस सीट से पहले राजद नेता स्व. तस्लीमुद्दीन सांसद थे। हाल में उनका निधन हो जाने के बाद यह सीट खाली है।इस सीट का प्रबल दावेदार तस्लीमुद्दीन के बेटे सरफराज आलम को माना जा रहा था। हालांकि, सरफराज आलम अररिया से जदयू के विधायक भी हैं और शनिवार को सरफराज आलम ने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और राबड़ी देवी से मिलने उनके आवास पर पहुंचे।
सरफराज आलम ने मीडिया को बताया कि उन्होंने इस्तीफा दे दिया है और यहां पर औपचारिक मुलाकात के लिए आये हैं। जब मीडियाकर्मियों ने सरफराज आलम से पूछा कि वह किस पार्टी से चुनाव लड़ेंगे, तो उन्होंने कहा कि यह अररिया की जनता तय करेगी। हालांकि, बताया जा रहा है कि लोकसभा का चुनाव सरफराज आलम राजद से लड़ेंगे। सरफराज आलम के इस्तीफा देने के बाद पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा कि नीतीश कुमार के एक और विधायक ने जदयू से इस्तीफा दे दिया।उपचुनाव में जदयू और एनडीए गठबंधन के सिटिंग विधायक को तोड़ लेने में लगभग सफल हो चुके तेजस्वी ने करार जवाब देते हुए लिखा है कि …

इंतजार कीजिए, अभी कितनी टूट होगी और होगी. तेजस्वी, तो अभी बच्चा है न जी. नीतीश कुमार के एक और MLA ने जदयू से दिया इस्तीफ़ा। इंतज़ार कीजिए अभी कितनी टूट और होगी। तेजस्वी तो बच्चा है ना जी! — Tejashwi Yadav (@yadavtejashwi) February 10, 2018

गौरतलब हो कि चुनाव आयोग ने अररिया लोकसभा चुनाव के साथ बिहार में जहानाबाद और भभुआ विधानसभा सीट के लिए चुनाव की अधिसूचना जारी कर दी है। 11 मार्च को अररिया में चुनाव होना है. उस सीट पर पहले राजद नेता तस्लीमुद्दीन सांसद थे और सरफराज आलम तस्लीमुद्दीन के बेटे हैं।

जदयू की तीखी प्रतिक्रिया

जदयू नेता अजय आलोक ने प्रतिक्रिया देते हुए मीडिया को कहा कि मुझे यह नहीं समझ में आ रहा है कि तेजस्वी यादव को क्यों गंभीरता से ले रहे हैं। सोच कम है, गंभीरता कम है। सरफराज का इस्तीफा जदयू के लिए कोई झटका नहीं है।तुझको तमन्ना गैरों की।यहां पर कोई उसका प्रभाव नहीं है। अजय आलोक ने कहा कि अभी सरफराज ने कहा है कि उन्होंने जदयू से इस्तीफा नहीं दिया है। किसी के आने जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। सरफराज ने जदयू की प्रतिक्रिया पर कहा कि जिसको जो बोलना है बोले, सब लोग सम्मानित लोग हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।
कहां सुरक्षित है, कहां नहीं है, सबकुछ जनता के मन मिजाज से चलता है। जनता का प्रेसर था, इसलिए इस्तीफा दिया।तेजस्वी की लहर है, इस प्रश्न पर सरफराज ने कहा कि ऐसी कोई छानबीन हमने नहीं की है। कुछ चुनौती नहीं है,जनता का मन है, तो सब ठीक है। जनता चाह रही थी, तब ही मैंने इस्तीफा दिया।
सरफराज आलम मीडिया के सवाल पर एकाएक भड़क भी उठे और कहा कि उन्होंने जनता का कहना माना है।।वहीं फारबिसगंज के भाजपा विधायक ने कहा कि सरफराज आलम की पहचान बस तस्लीमुद्दीन के बेटे के तौर पर है। राजधानी एक्सप्रेस में लड़की छेड़ने के आरोप में जदयू से निष्कासित भी हो चुके हैं।

लालटेन थामने खातिर 13 फरवरी मुकर्रर

इससे पूर्व सरफराज आलम शुक्रवार को तेजस्वी यादव के साथ दिखे थे, उसके बाद से ही यह चर्चा तेज हो गयी थी कि आलम राजद का दामन थाम सकते हैं।राजद के सूत्रों की मानें, तो आगामी 13 फरवरी यानी की मंगलवार को सरफराज आलम विधिवत राजद का दामन थाम सकते हैं।।तेजस्वी यादव ने सरफराज के इस फैसले का समर्थन करते हुए लिखा है कि बिहार के लोगों में जनादेश के अपमान के खिलाफ काफी गुस्सा है,इसका प्रमाण है,न्याय यात्रा के दौरान लोगों का समर्थन। इससे पूर्व सरफराज आलम विधायक पद से इस्तीफा देने के बाद सीधे राबड़ी देवी से मिले और मीडिया को कहा कि यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी। विधायक ने यह भी कहा कि उन्होंने अपनी मां के कहने पर इस्तीफा दिया है।

Loading...