“भूंजा खाओ,मस्त रहो”!

बिहार में महागठबंधन का भविष्य क्या होगा इसको लेकर कयासों का बाजार गर्म है. कोई कह रहा है कि तेजस्वी इस्तीफा दे रहे हैं,कोई कह रहा है कि ये गठबंधन सरकार फिलहाल चलेगी और कोई कह रहा है कि उसके पास 80 विधायक हैं. मतलब है कि जितनी मुंह उतनी बातें. इसी दौरान एक खबर ये भी आई कि गठबंधन को बचाने के लिए तेजस्वी यादव इस्तीफा देने जा रहे हैं और इसका फैसला लालू प्रसाद के रांची से आने के बाद हो जाएगा. गठबंधन के समर्थकों ने राहत की सांस ली और कहा कि चलो यह गठबंधन तो जारी रहेगा. लेकिन समर्थकों की खुशी थोड़ी देर ही रह पायी जब इस खबर के फैलते ही खुद तेजस्वी यादव ने इसका खंडन कर दिया. इस बात को लेकर तेजस्वी ने ट्विट कर कयासों के बादलों को साफ कर दिया और लिखा कि,’ मेरे इस्तीफे की गलत खबर फैलायी जा रही है कि मैं इस्तीफा दे रहा हूं,इस खबर पर मुझे हंसी आ रही है. “उत्पाती सूत्रों” के नाम से मीडिया का एक वर्ग भाजपा का जो एक सूत्रीय कार्यक्रम चला रहा है, उसपर जोर से हंसी आ रही है.’ तेजस्वी ने आगे लिखा, “भूंजा खाओ,मस्त रहो”.

इस खबर के आने के बाद एक बार फिर इस सरकार की स्थिरता पर सवाल खड़े हो गए हैं. कारण है कि जेडीयू ने या यूं कह लीजिए कि नीतीश कुमार ने राजद से तेजस्वी पर कार्रवाई करने के लिए चार दिन की मोहलत दी है जो कल खत्म हो रही है. अब सवाल ये है कि जेडीयू इस मामले में क्या स्टैंड लेगा? क्या टूट जाएगा बिहार में महागठबंधन? राजनीतिक रणनीतिकार मानते हैं कि अगर तेजस्वी ने इस्तीफा नहीं दिया तो नीतीश कुमार तेजस्वी को मंत्रिमंडल से बाहर कर सकते हैं. अगर ऐसा हुआ तो बिहार में सियासी भूचाल आना तय है.

उधर राजद ने कहा है कि वो लालू प्रसाद के रांची से आने के बाद जेडीयू के अगले कदम का इंतजार करेंगे और फिलहाल तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे. राजद तेजस्वी को पद पर बनाए रखते हुए महागठबंधन को बचाने की पूरी कोशिश करेगा. जो भी फैसला होना होगा वो सोमवार को होगा और अगर तेजस्वी को इस्तीफा देना होगा तो राजद के पूरे मंत्री इस्तीफा दे देंगे.