EXCLUSIVE- एसएसपी मनु महाराज के सामने तोते की तरह बोला दुर्गेश खोले के कई राज तो महाराज ने संभाली कमान गिरोह के आतंक से दिलाएंगे राजधानी को सदा के लिए निजात

57

पटना Live डेस्क। पटना एसएसपी मनु महाराज के प्रयासों और लगातार दुर्गेश शर्मा की टोह में लगे रहने के दबाव का नतीजा यह हुआ कि आखिरकार दुर्गेश एसटीएफ के हत्थे चढ़ गया। मनु महाराज के ही प्रयास से राजधानी को अशांत करने वाले इस कुख्यात अपराधी पर पुलिस मुख्यालय द्वारा 50 हजार की ईनाम राशि तय कर दी गई थी। वही दूसरी तरफ लगातार दबिश का नतीजा रहा कि जनवरी 2016 से दुर्गेश लगातार अपने ठिकाने बदलने को मजबूर होता रहा।

                        उल्लेखनीय है कि 16 जनवरी 2016 सर्राफा कारोबारी रविकांत की पटना के राजापुर पुल के समीप इस कुख्यात के गुर्गो ने हत्या कर दी थी। घटना के बाद से तत्काली एसएसपी मनु महाराज ने इस चैलेंज के तौर पर लेटे हुये इस गिरोह की कमर तोड़ते हुए महज एक सप्ताह के अंदर सभी अपराधियों को गिरफ्तार करवा लिया था। साथ ही रविकांत को दुकान में घुस कर गोली मारने वाले कर्मू जो कुख्यात दुर्गेश शर्मा का बेहद खास शूटर समेत गिरोह से जुड़े तमाम अपराधियों को धर दबोचते हुये इस गिरोह की कमर तोड़ दी थी।

मनु महाराज के सामने तोते की तरह बोलने लगा दुर्गेश

शनिवार को राजेन्द्र नगर टर्मिनल से तिनसुकिया एक्सप्रेस से एसटीएफ द्वारा ज़ीरो इन करते हुये गिरफ्तार किये गए दुर्गेश से एसटीएफ ने पूछताछ करने के बाद देर रात कुख्यात अपराधी को पटना पुलिस के हवाले कर दिया गया। अपनी कस्टडी में लेकर पटना पुलिस ने पूछताछ करने ख़ातिर आरा समेत राजधानी में 36 मामलों में वांछित  दुर्गेश को कोतवाली थाने लाई। कोतवाली थाने में एसएसपी पटना ने तकरीबन बीती रात 5 घंटे तक दुर्गेश से पूछताछ।

मनु महाराज के सामने दुर्गेश ने तोते की तरह अपने गुनाहों की फेरहस्ति के बाबत सिलसिलेवार ढंग न केवल बताया बल्कि अपने कुबूल नामे में अपने और अपने गिरोह में शामिल अपराधियों के गुनाहों के कच्चे चिट्ठे खोल कर रख दिया। साथ ही शहर में अपने अपराधी नेटवर्क के बाबत एसएसपी के समक्ष दुर्गेश ने कई अहम राज भी उगले। दुर्गेश के क़बूलनामे के आधार पर पटना पुलिस जल्द “ऑपरेशन विश्वास” के तहत विशेष अभियान चलाने  की तैयारी में जुट गई है।
सनद रहे कि पूर्व में भी एसएसपी मनु महाराज द्वारा दुर्गेश गिरोह के शार्प शूटरों और गिरोह से जुड़े रंगबाजो और रंगदारी वसूलने वाले अपराधियों को वर्ष 2016 के जनवरी महीने में  ताबड़तोड़ छापेमारी करते हुए गिरफ्तार करते हुए गिरोह की कमर तोड़ दी थी। वही एसएसपी के सामने दुर्गेश के कुबुलनामे और खोले गए राज़ के आधार पर अब स्वयं महाराज ने कमान सभालते हुए इस गिरोह के आतंक से राजधानी को सदा के लिए निजात दिलाने की तैयारी शूरु कर दी है। जल्द ही पटना पुलिस की विशेष टीम छापेमारी अभियान शुरू करेगी ताकि दुर्गेश गिरोह के आतंक का सदा के लिए खत्म किया जा सके।