BiG Breaking – खगड़िया में पुलिस और अपराधियों में इनकाउंटर में थानेदार शहीद,एक सिपाही घायल 

# जिले में पुलिस अपराधी मुठभेड़ में पसराहा थानेदार आशीष कुमार शहीद

#एक सिपाही को भी लगी गोली, इलाज खातिर भागलपुर भेजा गया

पटना Live डेस्क। बिहार के खगड़िया जिले से एक बड़ी खबर आ रही है। जिले के परबत्ता थाना क्षेत्र के सलारपुर दियारा में अपराधी-पुलिस मुठभेड़ में पसराहा के थानेदार आशीष कुमार सिंह शहीद हो गए हैं।साथ ही इस मुठभेड़ में एक सिपाही दुर्गेश कुमार को गोली लगी है। इनकाउंटर में पुलिस ने भी एक अपराधी को मार गिराया है। लेकिन इन मुठभेड़ में 2009 बैच के दरोगा आशीष कुमार की शहादत से पूरा पुलिस महकमा शोकाकुल हो गया है।
खगड़िया में कुख्यात अपराधी दिनेश मुनि गैंग के साथ हुए मुठभेड़ में पसराहा थाना प्रभारी आशीष कुमार की गोली लगने से मौत हो गई है। वही इस मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से सिपाही दुर्गेश कुमार भी घायल हो गया है। जिसे इलाज के लिए भागलपुर भेज दिया गया है। इस मुठभेड़ में एक  अपराधी के भी मारे जाने की खबर है परन्तु पुष्टि नही हो पाई है।
मिली जानकारी के अनुसार पसराहा थाना प्रभारी आशीष कुमार को सूचना मिली थी कि नवगछिया और खगड़िया के सीमावर्ती सलालपुर दियारा में इलाके का कुख्यात अपराधी दिनेश मुनि अपने साथियों के साथ छुपा हुआ है। जानकारी मिलते ही पसराहा थाना प्रभारी आशीष कुमार के थाने में मौजूद पुलिस बल के दिनेश मुनि गैंग की टोह में निकल पड़े। वही, पुलिस को देखते ही अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी तो पुलिस ने भी मोर्चा संभाल लिया और फिर दिनेश मुनि गैंग और पुलिस के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। इसी दौरान एक गोली आशीष के सीने में आ लगी। उन्होंने मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं अपराधियों की गोली दुर्गेश नामक सिपाही भी जख्मी हो गया है।                  
घटना की सूचना के बाद खगड़िया एसपी, डीएसपी सहित कई थाना प्रभारी घटनास्थल की ओर रवाना हो गए। कुख्यात दिनेश मुनि खगड़िया और दियारा इलाके का आतंक है। मर्डर, लूट और अपहरण जैसे कई संगीन मामलों में वांछित है।

सहरसा के मूल निवासी थे शहीद आशीष         शहीद सब इंस्पेक्टर आशीष कुमार मूल रूप से सहरसा के रहने वाले थे।शहीद थानेदार सहरसा जिले के सरोजा निवासी गोपाल सिंह के पुत्र थे। तीन भाइयों में सबसे छोटे थे। उनका ननिहाल खगड़िया जिला के चौथम थाना क्षेत्र के लालपुर में है। वर्ष 2009 बैच के बिहार पुलिस में दारोगा के तौर पर चयनित हुए थे।