बिहार की महान सभ्यता और ऐश्वर्य का प्रतिबिंब पटना में बनकर तैयार, अगले कुछ घंटों में CM करेंगे “सभ्यता द्वार” का उद्घाटन

0
286

पटना Live डेस्क।आखिरकार बिहार के ऐतिहासिक महत्व,वैभव,ऐश्वर्य और सर्वधर्म सम्मान की तारीख़ी
महान सभ्यता का “सभ्यता द्वार” बनकर तैयार हो गया है। इसका उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार की शाम पांच बजे करेंगे। गांधी मैदान स्थित बापू सभागार के पीछे गंगा की तट से सटे इस द्वार का निर्माण किया गया है। निर्धारित कार्यक्रम के मौके पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हजारी भी रहेंगे।

चार महापुरुषों के विचार अंकित

इस नवनिर्मित सभ्यता द्वार पर चार महापुरुषों के विचारों को लिखा गया है। द्वार पर सम्राट महान अशोक, भगवान महावीर, मेगास्थानीज व भगवान बुद्ध हैं।

भगवान बुद्ध के विचारों को उद्घृत करते हुए लिखा गया है कि – ” यह नगर आर्यावर्त का सर्वश्रेष्ठ नगर होगा और संपूर्ण आर्यावर्त का नेतृत्व करेगा,परंतु इसे आग,पानी व आंतरिक मतभेद का सदैव भव बना रहेगा।

सम्राट अशोक के विचारों में- दूसरे धर्म का सम्मान करें, इससे अपने ही धर्म की प्रतिष्ठा बढ़ती है। इससे वितरीत आचरण करने से अपने धर्म का प्रभाव तो घटता ही है,दूसरे धर्म की भी क्षति होती है।

भगवान महावीर के विचारों में – सभी जीवित प्राणियों को सम्मान देना अहिंसा है।

मेगास्थानीज के विचारों में –पाटलिपुत्र का वैभव एवं ऐश्वर्य पर्सियन सम्राज्य के महान शहरों सुसा एवं एकबताना से कहीं बढ़कर है।