भागलपुर बटेश्वर पंप नहर योजना के ध्वस्त होने पर आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर शुरु,राजद ने कहा-‘कहां गई नीतीश कुमार की जीरो टॉलरेंस’?

0
10

पटना Live डेस्क. भागलपुर के बटेश्वरस्थान गंगा पंप नहर परियोजना के नहर बांध टूटन पर सूबे में सियासत शुरु हो गई है…सत्ताधारी दल ने जहां इस नहर के टूट जाने को लेकर जांच कराए जाने की बात कही है..साथ ही इंजीनियरों पर कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया है..वहीं विपक्ष ने इस मामले पर राज्य सरकार पर हमला बोला है…राजद ने इस मामले पर नीतीश सरकार पर हमला बोला है.. पार्टी के नेता शक्ति यादव ने कहा है कि नहर बांध के टूटने से नीतीश सरकार के भ्रष्टाचार की पोल खुल गई है.. उन्होंने कहा कि बांध निर्माण में लगे सभी ठेकेदारों और इंजीनियरों की मिलीभगत से यह लूट हुई है..उन्होंने कहा कि इस बारे में सीएम नीतीश को खुद ज़वाब देना चाहिए कि कैसे उद्घाटन से पहले ही टूट गया नहर बांध? क्या इस मामले में सीएम नीतीश को जीरो टॉलरेंस नहीं दिख रहा है? उन्होंने जल संसाधन मंत्री ललन सिंह से इस्तीफे की मांग की है..

जेडीयू प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि विपक्ष बिना जानकारी के ही आरोप लगा रहा है… सबसे पहले तो आरोप लगाने वालों को तटबंध और नहर का फर्क समझना चाहिए.. इस नहर बांध का निर्माण तो 1996 में लालू सरकार के दौरान ही हुआ था.. सरकार ने उस नहर बांध के उद्धघाटन के पहले पानी छोड़कर किया था ट्रायल…

भाजपा के नेता और मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा है कि आरजेडी नेताओं के मुंह से भ्रष्टाचार की बात शोभा नहीं देती.. क्योंकि आरजेडी के मुखिया ही भ्रष्टाचार के मामले में सज़ायाफ्ता हैं.. उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश कुमार ने 40 साल पुरानी परियोजना को पूरा कराया.. परियोजना का ज़्यादातर काम आरजेडी शासनकाल में ही हुआ था।

वहीं लोजपा नेता और राज्य सरकार में मंत्री पशुपति नाथ पारस ने कहा है कि नहर बांध टूटने की जांच होनी चाहिए और दोषी ठेकेदारों और इंजीनियरों पर कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए…

 

 

Loading...