बेवजह सवालों को खड़ा कर गया केंद्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार,बिहार में विपक्ष के निशाने पर हैं नीतीश कु्मार

पटना Live डेस्क.  रविवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में जेडीयू को जगह नहीं मिल पाने को लेकर विपक्षी पार्टियों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है..इस मंत्रिमंडल विस्तार में केवल बीजेपी नेताओं को ही जगह मिल सकी..एनडीए में शामिल दूसरे सहयोगी दलों को इस विस्तार में जगह नहीं मिल सकी..हालांकि ये कयास लगाए जा रहे थे कि कैबिनट विस्तार में जेडीयू को जगह मिलेगी,लेकिन ऐसा नहीं हुआ, अब राजद ने नीतीश कुमार पर हमला तेज कर दिया है..

हालांकि, मोदी मंत्रिमंडल में इस समय 75 मंत्री हैं संवैधानिक सीमा कुल 81 मंत्री रखने की इजाजत देती है.. ऐसे में मोदी कैबिनेट में जदयू और एआइएडीएमके को एंट्री मिलने की चर्चा सियासी गलियारों में जोर पकड़ रही है..

विपक्षी पाटिर्यों के नेताओं के तंज कसने के बीच जदयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा है कि यह कैबिनेट विस्तार भाजपा का है इसमें एक ओर जहां पार्टी के नये चेहरे को जगह दी गयी है, वहीं दूसरी ओर कई मंत्रियों की पदोन्नति की गयी है.. इस मंत्रिमंडल विस्तार में एनडीए के घटक दल शामिल नहीं किये गए हैं..

केंद्रीय कैबिनेट में जदयू के शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि केंद्रीय कैबिनेट विस्तार की बात चल रही है.. संभव है कि यह मंत्रिमंडल विस्तार अगले माह किया जाये.. उस समय एनडीए में शामिल घटक दलों को शामिल किया जायेगा.. उन्होंने कहा कि बिहार में एनडीए की सरकार है, यहां भाजपा के साथ-साथ जदयू कोटे के भी मंत्री सरकार में शामिल हैं..

उन्होंने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा एनडीए में शामिल होने के लिए जदयू को निमंत्रण देने के बाद पार्टी 19 अगस्त को ही एनडीए में शामिल हुई है.. बिहार में एनडीए की सरकार बड़े ही अच्छे ढंग से चल रही है. भाजपा नेताओं ने केंद्रीय कैबिनेट में एनडीए के विस्तार की बात कही है, अगर केंद्र से सरकार में शामिल होने का संदेश मिलेगा, तो उसका भी हम स्वागत करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में जदयू और एआइएडीएमके को जगह नहीं मिलने पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं.. राजनीतिक गलियारों में इस बात चर्चा जोर पकड़ रही है कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले कैबिनेट में हुए इतने बड़े फेरबदल के बाद भी सहयोगी दलों पर क्यों नहीं दिया गया?

इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर लोग कुछ नेताओं का नाम लेकर उन्हें मोदी कैबिनेट का हिस्सा बनाने की मांग कर रहे हैं.. चर्चा है कि प्रधानमंत्री मोदी अपने मंत्रिमंडल में एक बार फिर विस्तार कर सकते हैं, क्योंकि छह और मंत्रियों को शामिल किए जाने की गुंजाइश अभी बाकी है…

दरसअल, मोदी मंत्रिमंडल में इस समय 75 मंत्री हैं. जिनमें 27 कैबिनेट मंत्री, 11 स्वतंत्र प्रभार वाले राज्यमंत्री और 37 राज्यमंत्री है, जबकि संवैधानिक सीमा कुल 81 मंत्री रखने की इजाजत देती है.. चर्चा है कि संवैधानिक सीमा लोकसभा में सत्ताधारी गठबंधन की घटक पार्टियों की कुल शक्ति का 15 फीसदी तय है, इस हिसाब से भी एक और विस्तार की संभावना जतायी जा रही है।

राजनीतिक गलियारों में अनुमान लगाया जा रहा है कि अगले मंत्रिमंडल विस्तार में हाल ही में फिर से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल हुए नीतीश कुमार के जदयू और तमिलनाडु में सत्तारूढ़ एआइएडीएमके को प्रतिनिधित्व मिल सकता है. इस तरह मोदी मंत्रिमंडल 81 का आंकड़ा छू सकता है.