RJD और JDU विधायक दलों की महत्वपूर्ण बैठक आज,राज्यपाल भी पहुंचे पटना

16

पटना Live डेस्क. सूबे में महागठबंधन सरकार में शामिल दो मुख्य दलों राजद और जेडीयू के बीच सियासी खींचतान जारी है. मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी हमलावर है और वो भ्रष्टाचार को लेकर नीतीश कुमार को कोई छूट देने के मूड में नहीं दिखाई दे रही है. उसने ये एलान कर दिया है कि अगर नीतीश कुमार तेजस्वी यादव के खिलाफ कोई फैसला नहीं लेते हैं तो वो सदन की कार्यवाही को बाधित करेगी. ऐसे में सीएम नीतीश कुमार पर चौतरफा दवाब बनता दिख रहा है. विधानसभा के मॉनसून सत्र से पहले आज ही राजद ने अपने विधायक दल की बैठक बुलाई है और सभी विधायकों को इसमें निश्चित रुप से मौजूद रहने को कहा गया है. वहीं सीएम के मंगलवार को दिल्ली से पटना लौटने के बाद जेडीयू ने भी अपने फैसले को बदलते हुए आज शाम में ही विधायक दल की महत्वपूर्ण बैठक बुलाई है. इन दोनों पार्टियों की बैठक को बेहद अहम माना जा रहा है इसका कारण है कि दोनों पार्टियों ने अलग-अलग विधायक दलों की बैठक बुलाई है,जबकि आमतौर पर देखा जाता था कि विधानसभा के सत्र से पहले महागठबंधन सरकार में शामिल तीनों दलों कांग्रेस,जेडीयू और राजद विधानमंडल की साझा बैठक होती थी और उसमें सत्र के दौरान अपनायी जाने वाली रणनीतियों पर चर्चा होती थी. लेकिन पहली बार तीनों दलों की साझा बैठक नहीं हुई है और सभी पार्टियों ने अलग-अलग बैठकें बुलायी हैं. जाहिर है पार्टियां जान रही हैं कि यह मसला आसानी से सुलझने वाला नहीं है ऐसे में वो अपने विधायकों की राय जानने की कोशिश में लगी हैं.

इस बीच बिहार के राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी दिल्ली से पटना पहुंच गए हैं. अगर मौजूदा सियासी संकट के बीच तेजस्वी यादव इस्तीफा देते हैं या फिर उन्हें बर्खास्त किया जाता है तो फिर राज्यपाल की भूमिका बेहद अहम हो जाएगी.

इसकी भी चर्चा है कि तेजस्वी को बर्खास्त करने की स्थिति में राजद अपना समर्थन नीतीश सरकार से वापस ले ले. और फिर अल्पमत सरकार को बीजेपी का समर्थन मिल जाए.