बड़ा खुलासा – पटना में सरेआम गोलियों से भून दिया गया होम गार्ड जवान का बेटा करता था दबंगई बेचता था शराब यही है,हत्या का राज़ क्या सच मे ? पढ़े

बृजभूषण कुमार, ब्यूरो प्रमुख, पटना सिटी             

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना जब गणतन्त्र दिवस यानी 26 जनवरी के हर्षोउल्लास में मगन थी,इसी दौरान शुक्रवार की शाम शहर के खाजेकलां थाना क्षेत्र में घात लगाये बदमाशों ने सोनार टोली मोड़ पर ताबड़ तोड़ फायरिंग कर एक युवक को गोलियों से बिंध दिया और फरार हो गये। बताया जाता है कि पूर्व से घात लगाये बदमाशों ने पादरी की हवेली मुहल्ला निवासी होमगार्ड जवान विजय यादव के 18 वर्षीय पुत्र विकास यादव उर्फ गोलू पर उस समय गोलियों की बरसात कर दी,जब वह घर से खाना खाकर मोड़ पर से आने की बात कह निकला था।खून से लथपथ सड़क पर  गिरे गोलू को उपचार के लिए परिजन व स्थानीय लोग श्गुरु गोविद सिंह अस्पताल लेकर आये, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।इसके बाद परिजन शव को लेकर घर चले आये।हालांकि, बाद में खाजेकलां थाना पुलिस ने देर रात शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एनएमसीएच जहां पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंपा गया। शनिवार की सुबह उसका दाह-संस्कार खाजेकलां घाट पर किया गया।इधर, सरेआम हत्या की खबर मिलने के बाद मौके पर पहुंची खाजेकलां थाना पुलिस ने घटनास्थल की जांच आरंभ की तो घटना स्थल से चार खोखा गिरा मिला। जिसे पुलिस ने अपने कब्जे में कर लिया है।बरामद किया लेकिन पोस्टमार्टम के दौरान पुलिस को मकतूल के शरीर से 5 गोलिया मिली।गोलू के शव के पोस्टमार्टम में यह खुलासा हुआ है कि गोलू उर्फ विकास को अपराधियों ने 5 गोलिया मारी थी। एक सर में तो एक कमर में और अन्य 3 गोलिया गर्दन के आसपास। यानी इससे साफ जाहिर होता है कि हत्यारो की टोली किसी भी सूरत में गोलू को ज़िंदा छोड़ा नही चाहते थे। वही, घटना के बाबत सिटी एएसपी हरि मोहन शुक्ला ने बताया कि हत्या की वजह स्पष्ट नहीं है।मामले में टीम गठित कर अनुसंधान कराया जा रहा है।गोलू के हमलावरों की तलाश पुलिस कर रही है।

पटना Live की तहकीकात का सच 
शुक्रवार को गोलियों से भून दिए गए गोलू उर्फ विकास कुमार के पिता मंगलतालाब स्थित बिजली ऑफिस में कार्यरत होम गार्ड के जवान है। गोलू तीन भाइयों में सबसे छोटा था। परिजनों की मानें तो गोलू निजी कंपनी में काम करता था। कुछ माह से उसकी नौकरी छूट गयी थी। वही, स्थानीय लोगों की मानें तो जहां पर घटना घटी है।वहां पर सीसीटीवी तो लगा है,लेकिन वह बंद पड़ा था। इसका खुलासा पटना Live द्वारा पूर्व में किया जा चुका है …पढ़े

खुलासा–(एक्सक्लूसिव वीडियो) पटना पुलिस की तीसरी आंख बनी शोपीस, 5 गोलिया मारी गई थी युवक, पुलिस पर गंभीर आरोप,लगे पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे
http://patnalive.co.in/young-boy-shot-5-times-in-broad-day-light-in-patna/

वही,दिनदहाड़े हुए इस कत्ल के बाबत स्थानीय सूत्रों का दावा है कि मारे गए गोलू उर्फ विकास के परिजन कत्ल के पीछे की हकीकत यानी क्यो और किसने से अवगत है।तभी तो उनका कहना है कि हम मुकदमा भी नही करेंगे खुद निपट लेंगे।वही, दूसरी तरफ एक बेहद चौकाने वाली खबर भी जबरदस्त ढंग से स्थानीय लोगो के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है।
घटना भी खाजेकलां थाना क्षेत्र के सोनार टोली मोहलले से जुड़ी है। उस में भी खूंरेजी हुई है पर नाम पता और मक़तूल का कुछ अतापता नही मिल रहा है। वही सूत्रों का दावा है महज कुछ घंटों के अंतराल पर दो घटनाओं का कुछ तो आपस मे लिंक है। लेकिन वो पहला कौन था ? लापता और नामालूम है पर कत्ल की बात हवा में खूब तैर रही है। जो पुलिसिया जांच का विषय है ताकि सच सामने लाया जा सके?या महज अफवाह करार दिया जा सके।
खैर,अब मकतूल विकास कुमार उर्फ गोलू के बाबत जो जानकारिय मिली है वो बेहद चौकाने वाली है।जानकारों का दावा है कि तीन भाइयों में सबसे छोटा गोलू बहुत ही दबंग किस्म का था।साथ ही अक्सर महज खाना खाने को घर पर आता था वरना ज्यादातर समय सड़क पर मौजूद रहता था। महज 18 साल की उम्र में ही अपने कद काठी की वजह से अच्छे अच्छो पर भारी पड़ता था।                           पढ़ाई लिखाई छोड़ चुके गोलू के दबंगई के कई किस्से से अमूमन हर मोहल्लावासी अवगत है। इधर उसने शराब के धंधे में भी हाथ डाल दिया था। वही जानकारों का तो यहाँ तक दावा है की स्थानीय थाना पुलिस की वह मुखबिरी भी किया करता था। इलाके में अन्य धंधेबाजों की जानकारी पुलिस को देकर उनके माल पकड़ वाया करता था। वही, परिवार से जुड़े सूत्रों का कहना है कि परिजनों को सब मालूम है किसने और क्यो गोलू की कहानी फुल स्टॉप किया है। यानी,यह लगभग सुनिश्चित हो गया है कि मकतूल भी दबंगई किया करता था।यानी रंगदार की फेरहस्ति में गोलू  था व साथ ही शराब के अवैध धंधे में भी शामिल था।