बड़ी खबर-डॉ रामचंद्र पुर्वे बिहार प्रदेश राज़द का चौथी बार निर्विरोध अध्यक्ष निर्वाचित

60

पटना Live डेस्क। राजद के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री रामचंद्र पूर्वे लगातार चौथी बार बिहार राजद के प्रदेश अध्यक्ष के पद पर चुन लिये गये। राजद के नव गठित राज्य परिषद की यहां प्रदेश मुख्यालय में हुयी बैठक के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव नेे उन्हें प्रमाण पत्र प्रदान किया।                                                                                  शनिवार को प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए रामचंद्र पूर्व ने राज्य निर्वाचन पदाधिकारी तनवीर हसन के समक्ष दो सेटों में नामांकन पत्र दाखिल किया था।राजद के राष्ट्रीय सहायक निर्वाचन पदाधिकारी चितरंजन गगन ने बताया कि स्क्रूटिनी के दौरान उनका नामांकन पत्र सही पाया गया था। वे इस पद के लिए एकमात्र प्रत्याशी थे। पूर्वे के बिहार प्रदेश अध्य्क्ष पद पर चुने जाने की आज औपचारिक घोषणा की गई।           वैश्य समुदाय से आने वाले रामचंद्र पूर्वे को लालू प्रसाद ने पहली बार प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेवारी 2010 में तब सौंपी थी,जब निर्वाचित अध्यक्ष अब्दुल बारी सिद्दीकी को विधायक दल का नेता बना दिया गया था।पूर्वे की पकड़ अपने समुदाय के साथ-साथ अन्य पिछड़े वर्गों में भी अच्छी मानी जाती है।यही कारण है कि लालू उन्हें इस बार भी पार्टी की बिहार ईकाई की कमान उन्हें सौंपी है।

लालू के करीबी और विश्वस्त 

कर्पूरी ठाकुर के जमाने से सक्रिय पूर्वे राजद की पूर्व सरकारों में शिक्षा और संसदीय कार्य मंत्री भी रह चुके हैं।वह राजद के संस्थापक सदस्यों में हैं।1997 में जब लालू प्रसाद जनता दल से अलग होकर खुद की टीम बना रहे थे तो पूर्वे को नई पार्टी का ड्राफ्ट तैयार करने की जिम्मेवारी दी गई थी। आगे भी वह लालू के विश्वस्त बने रहे।चारा घोटाले में लालू के जेल जाने की जब नौबत आई तो राबड़ी देवी के साथ नई सरकार में शपथ लेने वाले पूर्वे एकमात्र मंत्री थे।शेष मंत्रिमंडल का विस्तार बाद में हुआ था।