PuSu एलेक्शन – आखिरकार पटना यूनिवसिर्टी के अध्‍यक्ष दिव्‍यांशु सहित तमाम निर्वाचित प्रतिनिधि सोमवार को लेंगे शपथ

0
37

पटना Live डेस्क। पटना विश्वविद्यालय में 5 साल के बाद 17 फरवरी 2018 को बाद फिर से हुए छात्रसंघ चुनाव में नवनिर्वाचित अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज के निर्वाचन को डिग्री की जांच के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने रद्द कर दिया गया था। चुनाव के बाद कई छात्र संगठनों ने डिग्री को लेकर सवाल उठाये थे। जिसके बाद दिव्यांशु ने हाई कोर्ट का रुख किया था। कानून लड़ाई के बाद विगत 4 अप्रैल को हाईकोर्ट ने  पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव के मामले में आज बड़ा फैसला लिया। इस पूरे मामले में पटना हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए नवनिर्वाचित अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज के निर्वाचन को वैध ठहराया है। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि दिव्यांशु के स्नातकोत्तर का नामांकन भी वैध हैं। अब कोर्ट के इस फैसले के वो एक बार फिर से पटना यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष होंगे।
इस फैसले के बाद अब पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ के अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज और उपाध्‍यक्ष योशिता पटवर्धन सहित सेंट्रल पैनल के सभी जीते पदाधिकारी और कॉलेज काउंसलर सोमवार की सुबह 9 बजे शपथ लेंगे। वहीं, संयुक्त सचिव सहित कई काउंसलर शपथ ग्रहण में शामिल नहीं होंगे।
इस बाबत डीएसडब्ल्यू प्रो. एनके झा ने बताया कि व्हीलर सीनेट हॉल में सुबह नौ बजे सभी पदाधिकारियों और काउंसलर को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए सूचित कर दिया गया है। पटना हाईकोर्ट ने अपने आदेश में जांच कमेटी को अवैध घोषित कर दिया है। इसके आधार पर उपाध्यक्ष योशिता पटवर्धन का निर्वाचन वैध हो गया है। सूत्रों के अनुसार अध्यक्ष और उपाध्यक्ष मामले को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन महाधिवक्ता से सलाह लेगा। इसके बाद जांच कमेटी का गठन कर दोनों मामले की नए सिरे से जांच प्रारंभ की जाएगी। पटना हाईकोर्ट ने अपने आदेश में दोनों मामले की जांच के लिए गठित कमेटी को लिग्दोह कमेटी की अनुशंसा के प्रतिकूल करार दिया था। जिस आनन-फानन अंदाज में विश्वविद्यालय प्रशासन ने मामले की जांच की थी और कुलपति द्वारा निर्णय लिए गए थे। उसे नैसर्गिक न्यास के विरुद्ध करार दिया था।

कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था

विभिन्न छात्र संगठनों के विरोध को देखते हुए सोमवार को विश्वविद्यालय परिसर में सुरक्षा-व्यवस्था चाक-चौबंद रहेगी। शपथ ग्रहण और छात्र संगठनों के विरोध की जानकारी रविवार की शाम जिला और पुलिस प्रशासन के अधिकारियों को दे दी गई है।

शपथ ग्रहण पर विरोध करेंगे कई छात्र संगठन 

अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के शपथ ग्रहण कराने के विरोध में रविवार की शाम विभिन्न छात्र संगठनों के प्रतिनिधियों ने कुलपति प्रो. रासबिहारी प्रसाद सिंह से मिलकर रोष व्यक्त किया है। प्रतिनिधिमंडल ने कुलपति से कहा कि पटना उच्च न्यायालय ने अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज के मामले में विश्वविद्यालय प्रशासन की जांच कमेटी पर सवाल खड़ा कर पुन: प्रक्रिया के तहत कर्रवाई का आदेश दिया है।
कुलपति ने प्रतिनिधियों को कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए दोनों के शपथ ग्रहण को अनिवार्य बताया। वही दूसरी तरफ प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के शपथ ग्रहण कि स्थिति में पुसु के संयुक्त सचिव मो. असजद उर्फ आजाद चांद सहित कई संगठनों से जुटे काउंसलर शपथ ग्रहण का बहिष्कार करेंगे।