बृजभूषण कुमार, ब्यूरो प्रमुख, पटना सिटी     

पटना Live डेस्क।देशभर मे केंद्र सरकार द्वारा सर्वशिक्षा अभियान के तहत बच्चों को पहली कक्षा से आठवीं तक की प्रिस्क्राइब टेक्ट बुक को छापने खातिर बिहार सरकार द्वारा पटना जिले के विभिन्न प्रिंटिंग प्रेसो को समयावधि  अनुबंधित किया गया है। लेकिन सुनैना प्रिंटिंगप्रेस के मालिक बालाजी अपने प्रिंटिंग प्रेस में अवैध रूप से सभी वर्गो के किताब छापकर बाजार में बेच रहे थे। इस बात की जानकारी जब सरकार द्वारा आवंटित प्रिंटिंग प्रेस मालिकों को हुई तो उन्होंने पता लगाने की मुहिम शुरू कर दी कि तमाम किताबे आखिर कहा से और किसके द्वारा अवैध तरीके से छापी जा रही और कौन है जो मार्केट में सप्लाई की जा रही है।
तमाम कोशिश के बाद आखिरकार उन्हें जानकारी मिली कि ​पटना सिटी के गोपालपुर थाना इलाके के कछुआरा में बालाजी के नाम से चल रहे सुनैना प्रिंटिंग प्रेस में करोड़ो रुपये मूल्य के नकली बिहार टेक्स्ट बुक की छपाई की जा रही है। साथ ही वही से बाजार में बिक रही है। पुख्ता जानकारी मिलने पर शनिवार को आखिरकार तमाम आवंटित प्रेस मालिको ने पटनापुलिस के साथ सुनैना प्रिंटिंग प्रेस में छापा मारा तो उनकी जानकारी बिल्कुल पुख्ता साबित हुई और उक्त प्रेस में उन्हें तकरीबन 30-40 करोड़ मूल्य की अर्धनिर्मित किताबों का स्टॉक मिला जो अलग अलग प्रिंटिंग प्रेस के पते से छापी गई थी।करोड़ो रूपये मूल्य की अवैध छपाई के गोरखधंधे का भंडाफोड़ तो हो गया पर फिलहाल प्रिंटिंग प्रेस का मालिक बालाजी पुलिस के हत्थे नही चढ़ा और वो फरार होने में कामयाब रहा।
वही पुलिस ने प्रिंटिंग प्रेस परिसर में मिली अवैध रूप से छपी किताबे को जखीरे की जाचो परांत जहाँ प्रिंटिंग प्रेस को सील करने का निर्णय लिया है। वही दूसरी तरफ़ बरामद किताबो के बाबत सीजर लिस्ट तैयार करने की कवायद जारी है।साथ ही इस बाबत वरीय अधिकारियों को जानकारी देकर उचित दिशा निर्देश के तहत फरार प्रिंटिंग प्रेस मालिक बालाजी की गिरफ्तारी खातिर छापामारी जारी है।