बाढ़ से हुई बर्बादी का मंजर देखने 26 अगस्त को पीएम करेंगे बिहार का दौरा,बाढ़ पीड़ित इलाकों का करेंगे हवाई सर्वेक्षण

12

पटना Live डेस्क. राज्य ने साल 2008 के बाद इस साल भयंकर बाढ़ की त्रासदी झेली है. भीषण बाढ़ के चलते सूबे में अभी तक करीब चार सौ लोगों की जान चली गई है. अलग-अलग जिलों में हजारों हेक्टेयर में लगी धान की फसल बर्बाद हो चुकी है. लोग बाढ़ के चलते अपने घर-बार को छोड़ दूसरी जगहों पर शरण लिए हुए हैं. सूबे के मुखिया नीतीश कुमार बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए हरसंभव मदद की कोशिश में लगे हैं. कई जिलों के हवाई सर्वेक्षण के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राहत का जायजा लेने के लिए सड़क मार्ग से पूर्णिया और कटिहार के दौरे पर हैं. करीब 18 जिलों के करोड़ों लोग इस प्राकृतिक आपदा से प्रभावित हैं. आपदा की इस भीषण घड़ी में प्रधानमंत्री 26 अगस्त को बिहार के दौरे पर आ रहे हैं. पीएम मोदी बाढ़ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे.

प्रधानमंत्री 26 अगस्त की सुबह दिल्ली से सीधे पूर्णिया स्थित चूनापुर हवाई अड्डा पहुंचेंगे. प्रधानमंत्री पूर्णिया स्थित वायु सेना के हवाई अड्डे से हेलीकाप्टर से सबसे पहले बाढ़ से सर्वाधिक प्रभावित अररिया, किशनगंज तथा कटिहार की स्थिति का जायजा लेंगे. वहां से वह उत्तर बिहार के बाढ़ प्रभावित दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, शिवहर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण व गोपालगंज होते हुए पटना लौटेंगे.

पटना में वह आपदा से जुड़े आला अफसरों के साथ राहत एवं बचाव कार्यों पर विमर्श करेंगे. उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने सोमवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री से बिहार के बाढ़ प्रभावित इलाकों के हवाई सर्वे का आग्रह किया था.

इससे पहले आपदा की घड़ी में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से मदद के लिए आग्रह किया था. सीएम नीतीश ने पीएम मोदी और रक्षामंत्री से बात कर तत्‍काल सहायता मांगी थी, जिस पर अमल करते हुए केंद्र ने भी तुरंत सहायता उपलब्‍ध करवायी थी.

बिहार में इस बाढ़ से काफी ज्यादा नुकसान हुआ है. उम्‍मीद की जा रही है कि पीएम मोदी के इस दौरे के बाद बिहार को इस आपदा से निपटने के लिए विशेष पैकेज मिलेगा.