बड़ी खबर -(वीडियो) संजय दत्त उर्फ बल्लू बलराम को कट्टा जिंदा गोली की माला और लिखी तख्ती मैं अपराधी हूँ संग पटना पुलिस ने साइको किलर की निकाली बारात

0
410

पटना Live डेस्क। पटना पुलिस ने अपराधियों को कड़ा संदेश देने और आम लोगों के मन से अपराधियों का भय निकालने के लिए कुख्यात अपराधी की बारात निकाली और उसे पूरा बाजार भी घुमाया। ख़ुद को संजय दत्त की चर्चित फिल्म खलनायक का बल्लू बलराम समझने वाले साइको किलर रॉकी को इस दौरान पुलिस ने गले मे एक ज़िंदा गोली, कट्टा और एक तख़्ती टंगी थी जिसपर लिखा था मैं एक अपराधी हूँ। मामला पटना जिला के थानाक्षेत्र बख्तियारपुर का है।

कौन है बल्लू बलराम उर्फ रॉकी

चर्चित फ़िल्म खलनायक देखकर खुद को बल्लू बलराम समझने वाले कुख्यात साइको किलर रॉकी कुमार जो  खुद को संजय दत्त समझता है। लम्बे बाल सिक्स पैक वाली बॉडी और हाथो में तमंचा वाल यह युवा खलनायक
बख्तियारपुर थाना क्षेत्र में कई व्यापारियों के लिए आतंक का पर्याय बन चुका था।दिनदहाड़े गोली चलाना और रंगदारी के लिए व्यापारियों को धमकाने के कई मामलों में इसकी संलिप्तता रही है।आम लोगों और कारोबारियों में इसके आतंक का आलम यह था कि लोग इसके नाम से ही कांपते थे। पुलिस ने इस अपराधी की गिरफ्तारी की और इसके बाद आम लोगों और व्यापारियों के मन से उसका भय निकालने के लिए उसे बीच बाजार घुमाया गया। पटना पुलिस की स्पेशल टीम इस अपराधी की गिरफ्तारी के लिए काफी दिनों से सक्रिय थी। हालाकि,इस शातिर ने अपनी दो पहचान बना रखी थी। एक तरफ गले में प्रेस का कार्ड डाले यह खुद को पत्रकार बताता था तो दूसरी तरफ जरायम की दुनिया में इसे एक साइको किलर के रूप में जाना जाता था। किसी की हत्या करन में यह एक मिनट भी नहीं सोचता है। यह कितना बड़ा शातिर है इसका अंदाज़ा इसी से लगा सकते है की इसकी उम्र है चौबीस साल लेकिन इस पर दो दर्जन से भी ज्यादा मामले दर्ज है।
यही नहीं यह पहली बार पटना पुलिस की पकड में आया है।वो भी तब जब इसने बख्तियारपुर के जर्दा व्यवसाई से एक करोड़ की रंगदारी मांगी और नहीं देने पर टुकड़े टुकड़े काटकर गंगा में बहा देने की धमकी दी।चूकि बख्तियारपुर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पैतृक निवास स्थान है इस लिए पुलिस के लिए भी यह लंबे समय से चुनौती बना हुआ था।
गिरफ्तारी के वक्त इसके पास से नकली ड्राइविंग लाइसेंस,आधार कार्ड,पहचान पत्र और पटना से प्रकाशित होने वाले एक दैनिक अख़बार का आईकार्ड मिला है। हालाकि आईकार्ड जिस पर बड़े बड़े अक्षरों में प्रेस लिखा है जो देखने से ही फर्जी लगता है लेकिन इसका इस्तेमाल वह खुद को पुलिस से बचने के लिए करता था। जब भी उसका सामना पुलिस से होता था, खुद को प्रेस का रिपोर्टर बताकर बच निकलता था।
पुलिस के लिए भी बल्लू बलराम उर्फ़ रॉकी एक अनबुझ पहेली बना हुआ था क्योंकि यह सिर्फ अपनी पहचान ही नहीं बदलता था बल्कि अपना हुलिया भी बदलता रहता था। लेकिन वह पटना के एसएसपी मनु महाराज के टॉप लिस्ट में था। रॉकी का अपराध की दुनिया का गुरु नीतीश उर्फ़ नितिशवा था। जो खुद बहुत बड़ा अपराधी था। उसे भी मनु महाराज ने ही गिरफ्तार कर जेल भेजा था। लेकिन अपने गुरु के जेल में जाने के बाद रॉकी हद से ज्यादा खतरनाक हो गया था। पैसे के लिए यह कुछ भी करने को तैयार राहत। बीते 7 फ़रवरी को रॉकी उर्फ़ बल्लू बलराम ने बख्तियारपुर के जर्दा व्यवसाई से एक करोड़ की रंगदारी मांग की थी नहीं देने पर उसके टुकड़े टुकड़े करके गंगा में डाल देने की धमकी दी थी। दहशतजदा व्यवसाई ने थाना में शिकायत दर्ज कराइ थी। जिसके बाद पटना पुलिस की स्पेशल सेल ने काफी नाटकीय ढंग से उसे गिरफ्तार कर लिया। हालाँकि गिरफ़्तारी के बाद उसने पुलिस को झांसा देने की बहुत कोशिश की लेकिन उसकी पहचान छुप नहीं सकी। पूछताछ के दौरान उसने अपने गुनाहों की लंबी फेहरिश्त पुलिस को बताई। 
हालाकि,पटना Live संवाददाता को रॉकी ने बताया की उसे उसका गुरु नीतीश ही गिरोह में लेकर आया था। वह दूसरा काम करने चाहता है लेकिन उसे इसके इए पैसे ही नहीं मिलता था। वह खुद को संजय दत्त का बहुत बड़ा फैन बताता है। इसलिए जिम भी जाता है और लंबे लंबे बाल भी रखता है।
पुलिस के अनुसार रॉकी एक साइको किलर है उसके खिलाफ दो दर्जन से ज्यादा मामले दर्ज है। अपने आका नीतीश के जेल जाने के बाद वह खुद को उसकी जगह गिरोह का सरदार बनाना चाहता था, इस  कारण लगातार बड़ी घटनाएं करना चाहता था। बकौल एसएसपी के अनुसार रॉकी ने हाल ही में बैंगलोर के किसी बड़े बिजनेसमैन की हत्या की सुपारी ली थी। जल्द ही हत्या करने जाने वाला था लेकिन उससे पहले ही पटना पुलिस ने पकड़ लिया।
राजधानी पटना समेत समस्तीपुर,वैशाली और बेगूसराय जिले के मोस्टवांटेड अपराधियों में शुमार रॉकी उर्फ बल्लू बलराम को पटना पुलिस की विशेष टीम ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को उसकी लगभग 8 साल से तलाश थी। दो दर्जन से अधिक संगीन मामलों में संलिप्त बल्लू कुख्यात नीतीश गिरोह पेशेवर शूटर है। वह कुछ दिनों से बख्तियारपुर के जर्दा व्यवसायी मदन प्रसाद चौरसिया से लगातार रंगदारी और जान से मारने की धमकी दे रहा था। रॉकी ने बल्लू बलराम नाम से फर्जी प्रेस कार्ड सहित अन्य आइडी लेकर घूमता था। उसके पास से देशी पिस्तौल और दो जिंदा कारतूस भी बरामद किये गए थे।लगातार जर्दा कारोबारी से रंगदारी मांगने की सूचना मिलने के बाद एसएसपी महाराज ने प्रशिक्षु आइपीएस लिपि सिंह के नेतृत्व में विशेष टीम गठित की। इसी बीच सूचना मिली कि शूटर रॉकी उर्फ बल्लू बलराम उर्फ ऋषभ अपने साथियों के साथ बख्तियारपुर रेलवे स्टेशन के पास किसी घटना को अंजाम देने के फिराक में है। सादे लिबास में पहुंची पुलिस ने रॉकी को दबोच लिया। उसके पास से एक पिस्तौल और जिंदा कारतूस बरामद हुआ। जांच में उसके पास से फर्जी आइडी कार्ड सहित प्रेस का आइडी कार्ड मिला। आइडी कार्ड पर फोटो रॉकी की है, लेकिन नाम बल्लू बलराम से था। रॉकी इस आधार पर बल्लू बलराम बनकर लगातार चार जिलों की पुलिस को चकमा दिया करता था।

एक ही थाने में दर्ज हैं एक दर्जन मामलेसमस्तीपुर के मोहनपुर निवासी रॉकी उर्फ बल्लू कुमार के खिलाफ बख्तियारपुर थाने में एक दर्जन मारपीट, हत्या, रंगदारी और लूट के मामले दर्ज हैँ। पटना पुलिस अन्य जिलों समस्तीपुर, वैशाली और बेगूसराय की पुलिस से संपर्क किया तो पता चला कि उसकी तलाश कई सालों से थी। उसका दूसरे गैंग से भी इसके कनेक्शन है।एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि रॉकी की गिरफ्तारी एक बड़ी उपलब्धि है।इसके अन्य साथियों की भी जल्द से जल्द गिरफ्तार की जायेगी।इन दिनों फतुहा,बख्तियारपुर और बाढ़ में इसका आतंक लगातार बढ़ता जा रहा था।रॉकी कुमार मूल रूप से समस्तीपुर का रहने वाला है लेकिन बख्तियारपुर में उसका ननिहाल है। अपने ननिहाल बख्तियारपुर में रहकर वह आपराधिक घटनाओं को अंजाम देता था और फिर समस्तीपुर भाग जाता था।

कार्रवाई पर सवाल पर मिला जनता का साथबख्तियारपुर पुलिस की इस कार्रवाई पर भले ही सवाल उठाए जा रहे हों लेकिन आम जनता ने पुलिस के इस प्रयास की सराहना ही की है।आम लोगों की मानें तो अपराधी बंदूक की बदौलत आम लोगों के लिए खौफ का पर्याय बन जाते हैं और उनका खौफ निकालने के लिए ऐसे प्रयास होने चाहिए ताकि आम जनता निर्भीक रूप से रह सके। बख्तियारपुर थाना ने गिरफ्तार साइको किलर रॉकी उर्फ बल्लू बलराम उर्फ ऋषभ को जेल भेज दिया है।