Super Exclusive (Cctv फूटेज) राजधानी पटना के सुरक्षा के दावों और नाईट पेट्रोलिंग का हैरान करने वाला स्याह सच देखिए

321

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना की सुरक्षा को लेकर वरीय पुलिस अधिकारियों के तमाम प्रयासों और उपायों के बावजूद ज़मीनी हक़ीक़त क्या है यह पटना वासियों को भलीभांति पता है। अमूमन हर पटना के हर थाना यह दावा करता है कि नाइट में इलाके में मुस्तैदी से पेट्रोलिंग की जाती है। साथ ही साथ इलाके के सड़कों और गली कूचों में विशेष तौर पर पुलिस के पेट्रोलिंग वाहन चक्कर लगाते रहते है। लेकिन इन दावों की असलियत क्या है इसकी हकीकत दिखाने से पहले बता दे कि हम बात गली कूचे की नही कर रहे है, बल्कि शहर के उस सड़क की कर रहे है जिसपर अमूमन पूरी रात वाहनों का आना जाना लगा रहता है। इसी सड़क पर बाइक चुराने के पुरसुकून अंदाज को देखकर आप हैरान रह जाएंगे,हद तो ये की जब चोर नाकामयाब रहा तो बाकायदा जाकर अपने एक अन्य साथी को लेकर आया ताकि बाइक चुराई जा सके। यह पूरा वाकया घटित हुआ है अशोकराजपथ के बाकरगंज जाने वाली सड़क के बिल्कुल किनारे जहाँ से कारगिल चौक मुश्किल से कुछ मीटर की दूरी पर है।
अब, आप वह सीसीटीवी फुटेज देखिए और बाइक चुराने वाले शातिर का पुरसुकून अंदाज़ देखिए। गाडिया आ रही है जा रही है। फिर भी युवक बड़े आराम से बाइक चुराने की कोशिश में भिड़ा है। बाकयदा चाबी डालकर कर पहले प्रयास में खोलने की कोशिश करता है और कामयाबी नही मिलती है तो चाभी को ठोक पीटकर सही करने की कोशिश करता है। ये सब काम वो पूरे सुकून से और थोड़ी बहुत सतर्कता के साथ करता है। हद तो ये की जब तमाम प्रयासों के बाद वह बाइक नही चुरा पाता है तो बाकायदा जाकर अपने एक अन्य साथी को बुलाकर लाता है जो शायद उससे बड़ा शातिर चोर है। खैर, बाकी बातें बाद पहले आप सीसीटीवी फुटेज देखिए …

फुटेज आप ने देख ली। अब आप के जेहन में सवाल उठ रहे होंगे की आखिर बाइक का क्या हुआ तो इसका जवाब है बाइक तो बच गई। क्योकि शातिर युवको के हथियार यानी मास्टर चाभी तमाम ठोक पीट करने के बावजूद बाइक का लॉक खोल नही पाया। लेकिन महज सवाल महज़ इतना भर नही कि चलिए बाइक तो बच गई। ये पटना पुलिस के पेट्रोलिंग के दावों की वो स्याह हकीकत है जो यह बताता है कि पेट्रोलिंग का सूरते हाल क्या होगी जब शहर के मुख्य सड़क पर पुरसुकून अंदाज़ से बाइक चुराने की घटना उस जगह अंजाम देने की कवायद हो रही एटीएम भी है। जब ये हालात मुख्य सड़क है तो गली कूचों और अंदरूनी इलाको में पुलिस पेट्रोलिंग के हालात क्या है आप खुद सोच ले।