अमरनाथ यात्रियों पर हमले से हिले मोदी ने देखी आतंकी शिविरों की सैटेलाइट तस्वीरें, डोभाल बोले- ये है सौ आतंकियों की सूची, 7 दिन में सफाया कर आपको बताएंगे

0
17

पटना Live डेस्क। जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों ने अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाया है। आतंकियों ने सोमवार को अनंतनाग जिले के बानटिंगू में दो अलग-अलग जगहों पर तीर्थयात्रियों और उनकी सुरक्षा में लगे पुलिस दल पर हमला किया।आतंकियों ने गुजरात से आई एक बस पर भी हमला किया, जिसमें सवार 7 लोगों की मौत हुई है,जबकि 32 लोग घायल हुए हैं।आतंकी हमले के बाद से बेचैन पीएम मोदी एक बार फिर पाकिस्तान पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी कर रहे हैं। पिछले 24 घंटे में मोदी ने कई दौर में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल से लेकर सेना प्रमुख बिपिन रावत से मंत्रणा की है। सूत्रों के मुताबिक मोदी एक बार फिर  पाकिस्तान सीमा के भीतर चल रहे आतंकी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक की आदेश जारी कर सकते हैं।

वही दूसरी तरफ अनंतनाग में अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर हमले से मोदी सरकार हिल गई है। देश में सरकार की नाकामी को लेकर उठते सवालों के बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पर हुई बैठक में जबर्दस्त कार्रवाई करने की तैयारी पर चर्चा हुई है। विश्वस्त सूत्रों का कहना है कि इस घटना के बाद एक और सर्जिकल स्ट्राइक की व्यूहरचना के लिए डोभाल को मोदी और राजनाथ ने पूरी छूट दे दी है। माना जा रहा है कि आतंकियों के खिलाफ सरकार आरपार की लड़ाई लड़ने के मूड में है। क्योंकि पानी सिर के ऊपर चढ़ चुका है। डोभाल की रणनीति पर सेना ने मंगलवार शाम से ही काम शुरू कर दिया, जब घाटी के बड़गाम में दो आतंकियों की घेराबंदी कर उनके एनकाउंटर के लिए सेना मुस्तैद हो गई।
दूसरी तरफ आगामी महिनो में देश के कई राज्यों के चुनाव नजदीक हैं। ऐसे में भाजपा नेतृत्व को भी लग रहा कि अगर आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने में चूक हुई तो कई राज्यों से उनकी सरकारों के पैर उखड़ जाएंगे। वहीं 2019 की राह भी उलझ जाएगी।
अमरनाथ यात्रियों पर हमले में लश्कर-ए-तोयबा की संलिप्तता सामने आई है। हिजबुल और लश्कर के आतंकी सबसे ज्यादा घाटी में खूनी खेल खेलते हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने खुफिया एजेंसियों की मदद से हिजबुल और लश्कर के कुल सौ आतंकियों के नाम और उनके संभावित ठिकानों की सूची तैयार कराई है। इन्हें भारतीय सीमा के अंदर और जरूरत पड़ने पर पीओके में घुसकर मार गिराने की व्यूहरचना रची जा रही है।

इन आतंकी संगठनों के आतंकियों के नाम लिस्ट में शामिल

हिजबुल मुजाहिद्दीन

हरक़त-उल- अंसार अब ये हरकत -उल- मुजाहिद्दीन

लश्कर-ए- तोयबा

जैश-ए- मोहम्मद

अल बद्र

जमीयत -उल- मुजाहिद्दीन

हरकत-उल- जेहाद अल इस्लामी
तीर्थ यात्रियों की नृशंस हत्या के बाद जिस तरह से पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर ए तोएबा के हमले में सपष्ट संकेत मिल रहे हैं। उसके आधार पर भारत इन आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर सकता है। सूत्रों के मुताबिक रॉ प्रमुख अनिल धस्माना से भी मोदी की बातचीत हुई है। ऐसा बताया जा रहा है कि रॉ के पास पाकिस्तान सीमा के अंदर चल रहे आतंकी शिवरों की ताज़ा सैटेलाइट तस्वीरें हैं। ये तास्वीरें मोदी को भी दिखाई गयी हैं।भारत के सीमावर्ती इलाकों जैसे  राजौरी, पुंज और उरी से सटे पाकिस्तान बॉर्डर के अंदर अभी कई शिविर चल रहे हैं जिसके सबूत सैटेलाइट तस्वीरों से मिले हैं।
सूत्रों के मुताबिक मोदी इस बार ये ज़ाहिर करना चाहते है कि अगर बेक़सूर लोगों की देश में इस तरह हत्या की गयी तो भारत उन सभी विकल्प का उपयोग करेगा जो आतंक के खिलाफ अमेरिका,  ब्रिटैन,इजराइल या रूस करते आ रहे हैं। पीएम मोदी पाकिस्तान को बताना  चाहते हैं कि भारत अब सिर्फ कूटनीति पर निर्भर नहीं है बल्कि अपनी लड़ाई खुद लड़ने में सक्षम है और इस युद्ध में दुनिया के ज्यादातर देश उसके साथ हैं।
सूत्रों ने बताया कि सेना और वायु सेना प्रमुख को ज़रूरी हिदायती दी गयी हैं। बॉर्डर पर सेना के साथ साथ लड़ाकू विमानों के बस पर रेड अलर्ट है। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान से समर्थित आतंकी अमरनाथ यात्रियों की बड़े पैमानाने पर हत्या कर गोधरा पार्ट 2  जैसी घटना को अंजाम देना चाहते थे।इस हमले के पीछे मकसद देश के सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ना था। लेकिन तीर्थयात्रियों को जा रही बस के  ड्राइवर की होशियारी के चलते एक बड़ा हादसा टल गया.।उधर मंगलवार की शाम  अजित डोभाल ने जम्मू कश्मीर से लेकर अंतरास्ट्रीय भारत पाक सीमा पर  वर्तमान स्थिति को लेकर रॉ और आईबी प्रमुख से विस्तार से चर्चा की है।डोभाल ने सेना और वायु सेना प्रमुख से भी कई  अहम मुद्दों पर विचार विमर्श किया है।