मीसा यादव के बाद अब पूर्व सीएम राबडी से ईडी करेगी पूछताछ, सम्मन जारी 26 सितंबर को ईडी ने बुलाया दिल्ली

पटना Live डेस्क। राजद सुप्रीमो लालू यादव के परिवार पर कानूनी शिकंजा लागतार बढ़ता जा रहा है। बेटी मीसा यादव पर ईडी की कार्रवाई के बाद अब पत्नी राबड़ी देवी से ईडी पूछताछ करेगी। इस बाबत प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सम्मन भी जारी कर दिया है। प्रवर्तन निदेशालय ने पूर्व मुख्यमंत्री को 26 सितंबर को पूछताछ के लिए आने के लिए कहा है। ईडी ने कुछ दिन पहले राबड़ी देवी को नोटिस जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया था। राबड़ी देवी ने अक्टूबर तक का वक्त मांगा था पर ईडी ने उनकी मांग को नामंजूर करते हुए दूसरा नोटिस जारी किया है। ईडी के एक अधिकारी ने कहा कि राबड़ी देवी को 26 सितंबर को पूछताछ के लिए उपस्थित होने के लिए कहा गया है। राबड़ी देवी से पूछताछ दिल्ली में होगी पुछताछ। राज्यसभा सांसद मीसा भारती का फार्म हाउस जब्त करने के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी को पूछताछ के लिए बुलाया है।

होटल टेंडर मामले में पूछताछ

आइआरसीटीसी का होटल लीज पर देने के बदले पटना में मॉल की जमीन लेने के आरोप में लालू यादव परिवार पर जांच एजेंसियां का शिकंजा कस गया है।इसी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने लालू यादव की पत्नी व बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी को समन भेजा है। इसके पहले सीबीआइ लालू यादव और उनके बेटे व बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को पूछताछ के लिए समन कर चुकी थी लेकिन लालू और तेजस्वी पूछताछ के लिए सीबीआइ के सामने पेश नहीं हुए।ईडी के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि रांची और पुरी के होटलों के बदले में पटना के जिस मॉल की जमीन को लालू यादव के परिवार को दिया गया था, उसमें राबड़ी देवी का भी नाम है।ईडी राबड़ी देवी से यह जानना चाहती है कि आखिर इस जमीन को खरीदने के लिए उनके पास पैसे कहां से आए या फिर चाणक्य होटल के मालिकों के हाथों जमीन प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी के मार्फत उनके परिवार के पास आने के बारे में क्या जानकारी है।

लिखित में देनी होगी जानकारी

राबड़ी देवी को ईडी के सामने लिखित बयान में इस जमीन से जुड़ी सारी जानकारी देनी होगी।ईडी इस मामले की पीएमएलए के तहत जांच कर रहा है।इस कानून के तहत ईडी को संपत्ति को जब्त करने का अधिकार है।ईडी  पिछले हफ्ते लालू यादव की बेटी और दामाद का दिल्ली स्थित फार्म हाउस जब्त कर चुका है।

सीबीआई दर्ज कर चुकी है प्राथमिकी

सीबीआई ने आईआरसीटीसी के होटल टेंडर आवंटन मामले में गड़बड़ी के आरोपियों के मद्देनजर प्राथमिकी दर्ज कर रखी है। 6 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज होने के बाद दिल्ली के कोर्ट से सर्च वारंट लेने के बाद पटना में राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर सीबीआई ने छापेमारी भी की थी। पटना के सरकारी आवास के अलावा दिल्ली, रांची और भुवनेश्वर में भी छापामारी की गई थी।लालू यादव के ठिकानों के अलावा होटल कारोबारी कोचर बंधुओं के ठिकानों पर भी सीबीआई ने छापेमारी की थी।सीबीआई ने 7 जुलाई को लालू यादव के विभिन्न ठिकानों पर छापेमारी की थी।आईआरसीटीसी के होटल टेंडर आवंटन मामले में सीबीआई द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी में लालू यादव, राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, सरला गुप्ता, विजय कोचर, विनय कोचर, लारा प्रोजेक्ट तथा IRCTC के तत्कालीन प्रबंध निदेशक पीके गोयल को अभियुक्त बनाया गया था।

मामला

दरअसल यूपीए-1 शासनकाल के दौरान राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे।उन पर आरोप है रेल मंत्री रहते हुए उन्होंने होटल के टेंडर निजी कंपनी को दिए थे।निजी कंपनी को होटल टेंडर आवंटन में निजी कंपनी ने उन्हें फायदा भी पहुंचाया था।आरोप है कि रांची और भुवनेश्वर के दो होटलों को होटल कारोबारी विनय गोचर और विजय कोचर को दिया गया था।कोचर बंधुओं ने होटल टेंडर हासिल करने के एवज में राजद सुप्रीमो को पटना के प्राइम लोकेशन पर प्रॉपर्टी हस्तांतरित की थी।कोचर बंधुओं द्वारा दी गई जमीन पर ही लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव का मॉल  बन रहा था।