भाजपा के रामनाथ कोविंद का राष्ट्रपति बनना तय है, किया नामांकन …मीरा कुमार विपक्ष के विरोध की उम्मीदवार है…

पटना Live डेस्क। एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने संसद भवन में अपना नामांकन पत्र भर दिया है। इस दौरान कोविंद के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी भी मौजूद रहे।बता दें कि कोविंद के नामांकन में कुल 480 प्रस्तावक बने, पीएम मोदी, लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी कोविंद के प्रस्तावक बने हैं।

17 जुलाई को प्रस्तावित राष्ट्रपति चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का जितना तय है। चुनाव आयोग राष्ट्रपति चुनाव का  नोटिफिकेशन जारी कर चुका है। राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया चल रही है।इसके लिए 28 जून तक नामांकन दाखिल किए जा सकते हैं। राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है।

                         प्रेजिडेंट का चुनाव एक निर्वाचक मंडल यानी इलेक्टोरल कॉलेज करता है। इस चुनाव में सभी प्रदेशों की विधानसभाओं के इलेक्टेड मेंबर और लोकसभा तथा राज्यसभा में चुनकर आए सांसद वोट डालते हैं। प्रेजिडेंट की ओर से संसद में नॉमिनेटेड मेंबर वोट नहीं डाल सकते। राज्यों की विधान परिषदों के सदस्यों को भी वोटिंग का अधिकार नहीं है, क्योंकि वे जनता द्वारा चुने गए सदस्य नहीं होते।  इस समय प्रेजिडेंट इलेक्शन के लिए जो इलेक्टोरल कॉलेज है,उसके सदस्यों की सख्या 4896 है। इनके वोटों का कुल वेटेज 10,98,903 है। जीत के लिए कैंडिडेट को हासिल करने होंगे 5,37,442 वोट। जो प्रत्याशी सबसे पहले यह कोटा हासिल करता है, वह प्रेजिडेंट चुन लिया जाता है।

एनडीए का गणित कोविंद की जीत सुनिश्चित

वर्त्तमान में एनडीए के पास इलेक्ट्रोल कॉलेज में  5,37,683 वेटेज का वोट मौजूद है। जो कुल वोट प्रतिशत का 48.93% है।यह कोविद को बतौर राष्ट्रपति निर्वाचित करने के बहुत से महज 2% कम है। लेकिन भाजपा उम्मीदवार के समर्थन खातिर तैयार बैठे क्षेत्रीय दलों टीआरएस (2%) ,एआईएडीएमके (5.39%) बीजेडी(2.99%) और वाईएसआर काँग्रेस(1.53%) के इलेक्ट्रोल कॉलेजो में वोट वेटेज को जोड़ दिया जाए तो ये आंकड़ा बहुमत के आंकड़े कही ज्यादा यानी कुल वोट का 60.84% बैठता है। जो भाजपा के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की जीत को सुनिश्चित करता है।


भाजपा उम्मीदवार की जीत का आंकड़ा यही नही रुकता है बल्कि ये और आगे बढ़ता जा रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी ने भी स्पष्ट कर दिया ही कि उनका समर्थन भी बिहार के राज्यपाल रहे और अब भाजपा के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को मिलेगा। उल्लेखनीय है कि जदयू के वोटों का वेटेज 1.91% है। वही उत्तरप्रदेश की सियासत में दमदार दखल रखनेवाले समाजवादी पार्टी के पास 2.37% का इलेक्ट्रोल वोट शेयर है। साथ ही इस बात की पूरी संभवना है कि सपा भी भाजपा प्रत्याशी को अपना समर्थन देगी। इस तरह भाजपा के रामनाथ कोविंद को मिलने वाले समर्थन का आंकड़ा कुल इलेक्ट्रोल वोट का 65.12% हो जाता है।