मुख्यमंत्री ने फहराया तिरंगा,कहा-‘आपदा प्रभावितों का खजाने पर पहला हक’

13

पटना Live डेस्क. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने झंडा फहराया. इस मौके पर भाषण देते हुए सीएम नीतीश ने सबसे पहले बाढ़ की चर्चा की.

उन्होंने कहा कि सूबे का बड़ा तबका बाढ़ से प्रभावित है. लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है. ढाई सौ से अधिक राहत कैंपों का निर्माण किया गया है.

उन्होंने कहा कि अचानक आई बाढ़ से लोगों को बहुत नुकसान पहुंचा है. सीएम ने पीएम मोदी को बाढ़ में मदद पहुंचाने के लिए धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि मैं पहले ही कह चुका हूं कि राज्य के खजाने पर आपदा प्रभावित लोगों का सबसे पहला हक है. न्याय के साथ विकास ही मेरा प्रयास है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने कानून का राज स्थापित किया है और इससे कोई समझौता नहीं कर सकते हैं. विकास के लिए कानून का राज स्थापित होना जरूरी है.

उन्होंने कहा कि बापू ने कहा था कि पृथ्वी सबकी जरूरत पूरा कर सकता है लेकिन लालच को नहीं. सीएम ने भागलपुर घोटाले की चर्चा करते हुए कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. 8 अगस्त को हमको पहली बार जानकारी मिली और उसके बाद कार्रवाई जारी है.

सीएम ने कहा कि लोग कहते थे कि शराबबंदी से राजस्व की हानि होगी लेकिन सरकार के राजस्व पर कोई खास असर नहीं पड़ा. हमलोग शराबबंदी के बाद नशामुक्ति पर काम कर रहे हैं. दो अक्टूबर से  बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ अभियान शुरू करेंगे.

सीएम नीतीश ने कहा कि बिहार का पुराना गौरव प्राप्त करेंगे लेकिन यह सबको मिलकर करना होगा.

नीतीश ने कहा कि 2012 में ही मैंने गांधी मैदान से कहा था कि बिजली में सुधार नहीं होगा तो चुनाव में नहीं जाएंगे. बिजली की आज काफी अच्छी स्थिति है. सरकार बिहार के हर वर्ग और हर तबके के लिए काम कर रही है.

सीएम नीतीश ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को भुलाया नहीं जा सकता है. इस मौके पर सीएम ने देश और प्रदेश के लोगों को बधाई दी.

उधर, बिहार विधानसभा में स्पीकर विजय चौधरी ने झंडा फहराया. उन्होंने इस मौके पर प्रदेशवासियों को बधाई दी और वीर सूपतों को याद किया.

पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने पटना में अपना आवास पर झंडातोलन किया और सूबे के लोगों को शुभकामानाएं दी.