बिग ब्रेकिंग – डीएफओ हत्याकांड में सज़ा देने वाले ज़ज़ को नक्सलियों ने दी धमकी, चिपकाया पर्चा

22

रंजन सिंह, संवाददाता, रोहतास

पटना Live डेस्क। कैमूर पहाड़ी पर स्थित रेहल गांव में वन संपदा की रखवाली करने के दौरान 15 फरवरी, 2002 को नक्सलियों ने डीएफओ संजय सिंह की हत्या कर दी थी। इसी मामले में  रोहतास जिला जज सह पोटा के विशेष न्यायाधीश प्रभुनाथ सिंह की अदालत ने बुधवार को डीएफओ संजय सिंह हत्याकांड के पांच में से चार अभियुक्तों (नक्सली) निराला यादव, नीतीश यादव, रामबचन यादव व ललन सिंह खरवार को आजीवन और सुदामा उरांव को 10 साल की कैद की सजा सुनायी। अदालत ने चारों पर एक लाख व पोटा एक्ट के तहत एक लाख कुल दो-दो लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है।


वहीं, सुदामा उरांव पर सजा के साथ पोटा एक्ट के तहत पांच हजार रुपये जुर्माना भरने का आदेश दिया गया।

वहीं, सुदामा उरांव पर सजा के साथ पोटा एक्ट के तहत पांच हजार रुपये जुर्माना भरने का आदेश दिया गया। इसी मामले में नक्सलियों ने आज सासाराम मे नक्सलियो ने कोर्ट मे कई जगहो पर नक्सली पर्चा चिपका दिया। जिसमे पिछले 5 जून को डीएफओ संजय सिंह हत्याकांड के जजमेंट को लेकर धमकी दी गयी है की सिविल कोर्ट के सभी जजो को अंजामा भुगतना होगा। पर्चा लाल रंग से प्रिंट किया गया है। पर्चा मे जजो को डीएफओ संजय सिंह की तरह ही हश्र कर देने की धमकी दी गयी है। चुकी सासाराम मे सिविक कोर्ट के आसपास कई बार नक्सलियो ने बम धमाके किये है। जिससे दहसत हो। आज पर्चा चिपकाने के बाद पूरे परिसर की सुरक्षा बढा दी गयी है। बार काउंसिल के लोगो का कहना है कि इस तरह के नक्सलियो के पर्चा चिपकाने के मामले को पुलिस को गंभीरता से लेना चाहिय। पुलिस ने पर्चा बरामद कर मामले की जाँच शुरू कर दी है।