सुकमा शहीदों के खून के बदले खून की मांग – वीडियों हुआ वायरल

0
9

पटना Live डेस्क। छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले पर एक विडियो ट्विटर पर वायरल हो रहा है। इस विडियो में दिख रहा शख्स खुद को इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) का इंस्पेक्टर बताते हुए सुकमा हमले पर अपना गुस्सा जाहिर कर रहा है। इस शख्स के मुताबिक वह आईटीबीपी का इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार तिवारी है। विडियो में यह शख्स रोते हुए कह रहा है कि अब शहीदों को न तो आर्थिक मदद की जरूरत है और न ही किसी संवेदना की। अगर हम मर ही रहे हैं तो अब मारकर मरेंगे। सुकमा के शहीदों के खून का बदला खून से ही चाहिए।
करीब 2 मिनट के इस विडियो में प्रमोद की आंखों में लगातार आंसू हैं और वह कह रहे हैं, ‘एंटी-नक्सल ऑपरेशन में लगे हुए सभी जवानों और अधिकारियों से मैं कहना चाहता हूं कि बहुत हो गया। बच्चों, मां-बाप और पत्नी की जिस खुशी के लिए हम लोग इतनी दूर-दूर जंगलों में रहते हैं। खाना नहीं मिलता है, नेटवर्क नहीं मिलता है। फोन पर बात नहीं हो पाती है। ऐसे कितने घर उजड़ गए हैं, आप जानते हैं? अब बर्दाश्त नहीं है। आपके पास यूनिफॉर्म है, आपके पास हथियार हैं। यह लड़ाई सरकार की नहीं है, समाज की नहीं है, संविधान की नहीं है। अगर यह लड़ाई इन तीनों की होती तो शायद अब तक खत्म हो गई होती।’
उनके कहे हर शब्द में उनका गुस्सा जाहिर हो रहा है। वह कहते हैं, ‘चार दिन मीडिया पर डिबेट होती है और फिर खत्म हो जाती है। बहुत दिन हो गए, अब बर्दाश्त मत करो। अब कसम खाओ और कसम खानी पड़ेगी कि अगले 2-3 साल के लिए न केवल हम, बल्कि एंटी-नक्सल ऑपरेशन में लगे सभी अधिकारी और जवान तब तक वहीं पर रहेंगे जब तक हम अपने जवानों का बदला नहीं ले लेते।’
वह रुंधे हुए गले से कहते हैं, ‘आपको किसी स्पेशल पावर ऐक्ट की जरूरत नहीं है। अगर हम मर ही रहे हैं तो मारकर मरेंगे। बहुत हो गया है। हमें ट्विटर, फेसबुक और वॉट्सऐप के माध्यम से अब कोई संवेदना नहीं चाहिए। हमको अपने जवानों के खून का बदला खून से चाहिए। नहीं चाहिए पैसा। एक करोड़ रुपये देकर कोई भी सिलेब्रिटी बन जाता है। जिस मां ने अपने बच्चे को खोया है, कोई नेता नहीं गया उन मांओं और उन बच्चों से मिलने। लगभग 3,000 सैनिक उस सड़क को बनवाने के चक्कर में शहीद हो चुके हैं। आप सब जानते हैं कि इनका सफाया कैसे होगा। इसलिए अब बर्दाश्त मत करिए। बहुत हो गया, यह लड़ाई आपकी है इसलिए इसे अपने स्तर, अपने दिमाग से लड़िए।’
26 अप्रैल को यह विडियो एक यूट्यूब अकाउंट से शेयर किया गया है। इस अकाउंट पर फिलहाल 2 विडियो ही मौजूद हैं। पिछला विडियो भी इसी शख्स का है जो कि 16 अप्रैल को अपलोड किया गया है। 6 मिनट के इस विडियो में भी यह शख्स आतंकवादियों और उग्रवादियों को चेतावनी देता नजर आ रहा है। इसमें खासतौर से श्रीनगर उपचुनाव की ड्यूटी से लौट रहे सीआरपीएफ जवानों पर स्थानीय युवकों द्वारा किए गए हमले का जिक्र किया गया है।
गौरतलब है कि इसी हफ्ते बीते सोमवार को छत्तीसगढ़ के सुकमा में सीआरपीएफ के जवानों पर करीब 300 नक्सलियों ने घात लगाकर हमला किया। चिंतागुफा और बुरकापाल के करीब बन रही सड़क के सिलसिले में रोड ओपनिंग के लिए गए करीब 100 जवानों पर हुए हमले में 25 जवान शहीद हो गए थे।

Loading...