BiG NEWS – जानिए मुजफ्फरपुर के नर्क की आग में कैसे जली तारीख दर तारीख समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा की कुर्सी

0
60

पटना Live डेस्क। आखिरकार मंजू वर्मा की मंत्री की कुर्सी को लील ही गया। आखिरकार तमाम सियासी प्रपंच और बयानबाजी के बावजूद मंजू वर्मा को अपने मंत्री पद से इस्तीफ़ा देना ही पड़ा। वही अब पति को गिरफ्तार करने की बातों से मंजू हलकान है।

8 अगस्त 2018
समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने अपने मंत्री पद से इस्तीफा दिया।

जेल से कोर्ट में पेशी के दौरान मुजफ्फरपुर कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के मुंह पर कालिख पोती गई।

7 अगस्त 2018
CBI ने सेवा संकल्प एवं विकास समिति की फाइल खंगाली और इस मामले से जुड़े 11 अभियुक्तों के मोबाइल कॉल रिकॉर्ड भी मांगे
समाज कल्याण विभाग ने पांच साल के दौरान तैनात रहे अफसरों की रिपोर्ट तलब की।

5 अगस्त 2018

समाज कल्याण विभाग के सहायक निदेशक समेत 13 अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया।

4 अगस्त 2018

मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांड के विरोध में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। इस धरना प्रदर्शन में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गंधी भी मौजूद थे।

2 अगस्त 2018

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले को लेकर सीबीआई की टीम अचानक समाज कल्याण विभाग के सचिवालय स्थित कार्यालय पहुंची। समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव अतुल प्रसाद ने सीबीआई को सभी संबंधित कागजात सौंपे।

31 जुलाई 2018

मुजफ्फरपुर से मधुबनी व पटना शिफ्ट हुईं लड़कियों से सीबीआई ने की पूछताछ।

30 जुलाई 2018

सीबीआई की टीम ने पुलिस से यौन उत्पीड़न के केस का चार्ज लेने के बाद सोमवार की शाम बालिका गृह परिसर की जांच की।

29 जुलाई 2018

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले में CBI ने आरोपी अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया।

28 जुलाई 2018

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले में 42 में से 34 बच्चियों से रेप की पुष्टि हुई।

26 जुलाई 2018

बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले में लड़कियों के यौन उत्पीड़न मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की।

25 जुलाई 2018

तेजस्वी यादव के नेतृत्व में विपक्षी दलों के नेता मुज़फ्फ़रपुर आए और सीबीआई जांच की मांग।

24 जुलाई 2018

लोकसभा में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर बिहार सरकार चाहे तो हम सीबीआाई जांच के लिए तैयार हैं।

23 जुलाई 2018

मुजफ्फरपुर बालिका गृह के परिसर में ज़मीन की खुदाई हुई, मगर शव का कोई अवशेष नहीं मिला।

20 जुलाई 2018

पॉक्सो कोर्ट ने बालिका गृह में मृत बच्ची के शव की खोज के लिए ज़मीन खोदने का आदेश दिया। इसके अलावा मेडिकल रिपोर्ट में भी बलात्कार की पुष्टि हुई।

19 जुलाई 2018

पटना में एक बच्ची ने बयान दिया कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह में एक बच्ची से बलात्कार के बाद उसकी हत्या कर दी गई।

09 जुलाई 2018

मुजफ्फरपुर बालिका गृह में बच्चियों के साथ बलात्कार मामले में पटना हाईकोर्ट ने बिहार सरकार से जवाब मांगा था।

03 जुलाई 2018

सीबीआई जांच के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी।

27 जून 2018

पुलिस ने मुजफ्फरपुर बाल संरक्षण अधिकारी रवि रोशन को गिरफ्तार किया।

25 जून 2018

बालिका गृह की 22 बच्चियों के बयान कोर्ट में दर्ज कराए गए। बच्चियों ने कोर्ट के समक्ष बताया कि उसे नशे की दवा खिला कर उसके साथ गलत काम किया जाता था।

15 जून 2018

मुजफ्फऱपुर जिले में तैनात समाज कल्याण के दो अधिकारी को निलंबित किया गया।

03 जून 2018

बालिका गृह के संरक्षक और मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर समेत आठ लोगों को गिरफ़्तार किया गया।

02 जून 2018

पुलिस ने मुख्य आरोपी और बालिका गृह के संचालक ब्रजेश ठाकुर समेत एनजीओ से जुड़े करीब 8 लोगों को थाने में बुलाकर पूछताछ शुरू की और बालिका गृह को सील किया गया।

31 मई 2018

टिस की रिपोर्ट के मद्देनजर मुजफ्फरपुर बालिका गृह को खाली कराया गया और वहां की बच्चियों को पटना, मोकामा अन्य बालिका गृह में शिफ्ट किया गया। साथ ही पहली प्राथमिकी दर्ज की गई।

26 मई 2018

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की रिपोर्ट समाज कल्याण विभाग के निर्देशक तक पहुंची।

फरवरी 2018

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस यानी कि टिस टीम ने बिहार के बालिका आश्रय गृह पर अपनी ऑडिट रिपोर्ट समाज कल्याण विभाग को सौंपी। इस टीम ने अनपी ऑडिट में पाया था कि बालिका गृह का रख रखाव सही नहीं है और रिपोर्ट में बच्चियों के साथ दुर्रव्यवहार की शिकायतें भी मिली थीं।