बड़ी खबर (वीडियो) पटना के नौबतपुर में सरेशाम अपराधियों ने बाइक पर जा रहे दो भाइयों पर की गोलियों की बौछार,बडे भाई की मौत,लाईसेंसी राइफल भी ले भागे हत्यारे

0
87

पटना Live डेस्क। पटना के नौबतपुर में सरेशाम अपराधियों ने बुलेट मोटर साइकिल पर जा रहे दो भाइयो पर गोलियों की बौछार कर दी। जिसमें बुलेट मोटर साइकिल पर पीछे बैठे 65 वर्षीय वृद्व उमाशंकर सिहं के सर पर दो गोली लगी जब कि मोटरसाइकिल चला रहे छोटे भाई मुकुल सिह बाल बाल बच गये। जब कि घायल उमाशंकर सिहं को स्थानीय लोगों ने दानापुर निजी अस्पताल पहुचाया जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। इस खूंरेजी के दौरान अपराधियों ने मकतूल की लाइसेंसी राइफल भी लूट ली और फरार हो गए।यह घटना रविवार की शाम छह बजे नौबतपुर थाने के लख पर हुयी है। पुलिस अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।                                                                                                    पटना के नौबतपुर थाना क्षेत्र के छोटी टंगलैरा निवासी किसान उमाशंकर सिह अपने छोटे भाई मुकुल कुमार केसाथ बुलेट से नौबतपुर बाजार से सब्जी लेकर गांव लौटनेकेदौरान लख केनिकट   हथियार बंद अपराधियोंने ताबडतोड  फारियंग कर दी । बुलेट मोटर साइकिल पर पीछे बैठेबडे भाई उमाशंकर सिहं केसर में दो गोली लगी । वह खून से लतपथ जमीन में गिर गये । बडे भाई उमाशंकर सिहं केएक हाथ  मेसब्जी का थैला और दुसरे हाथ में ं लाइसेंसी राइफल पकडे हुये  था। अपराधियोंनेफायरिंग किया जिसमें उमाशंकर केसर पर दो गोली लगी हैऔर जमीन पर गिर गया । अपराधियोंने उनकी राइफल   कोभी लेभागे। अचानक फाइरिंग होने से लोगों को अफरा तफरा मच गयी ।दुकानोंका शटर बंद होने लगे ।लोग अपनी जान बचाने के लिए दुकानों में जा घुसे।   स्थानीय लोगों की मदद से घायल  उमाशंकर सिहंकोखून से लतपथ  हाॅस्पीटल लेगये जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया ।

उमाशंकर सिंह हत्याकांड में उनके बेटेधरीज  के हत्यारों का नाम आ रहा है. चर्चा है कि उनके पुत्र धीरज कुमार की हत्या में नामजद आरोपित बेउर जेल में बंद अपराधी रूपेश कुमार ने अपने गुर्गों की मदद से हत्या करवा दी. रूपेश का रुपये पैसे को लेकर उनके पुत्र से विवाद था. । 16 दिसबर 2017 को ठीकेदार धीरज कुमार कोबदमाशों ने गोली मार कर मौत की नींद सुला दी थी. यह घटना नौबतपुर-खगौल मार्ग पर जानीपुर थाना क्षेत्र के ब्रह्मस्थान के समीप तब हुई थी जब वह अपनी कार से पटना से नौबतपुर लौट रहा था धीरज की हत्या के बाद रूपेश को गोली लगी. और इसी दौरान वह धीरज हत्याकांड में पकड़ा भी गया. वह बेउर जेल में बंद है. उसी घटना की कड़ी से जोड़ कर लोग इसे देख रहे है। मृतक केछोटे भाई मुकुल कुमार नेबताया कि अपने गांव से नौबत पुर बाजार से सब्जी लेकर  बडेभाई मेरे बुलेट पर बैठ कर गाव जा रहे थे ।तभी लख पर होंडा साइन गाडी पर तीन चार अपराधियोकोकहते सुना कि वह ही जा रहा है जब तक मैसमझता तब तक अपराधियोंने ताबडतोड फायरिंग की दी । जिसमे बेडे भाई केसर पर गोली लग जाने से मौत होगयी । मैबाल बाल बच गया । थानेदार रामाकांत तिवारी नेबताया कि घटना केपीछे आपसी रंजीश का परिणाम है । अब तक किसी तरह का लिखित आवेदन नही आया है ।पुलिस संदिग्ध अपराधियों की गिरफ्तारी केलिए छापेमारी की जा रही है।