जान लीजिए बिहार में ज़मीन रजिस्ट्री करना हुआ और आसान,बदलने नियम बढ़ी सुविधाए

0
178

पटना Live डेस्क।सूबे में जमीन के दस्तावेजों के निबंधन में अब लोगों या डीड राइटर्स को बैंकों का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। निबंधन कार्यालय में ही निर्धारित राशि जमा कराकर कोई भी व्यक्ति आधे घंटे के अंदर रजिस्ट्री के दस्तावेज लेकर घर लौट सकेगा। पहले उन्हें निबंधन शुल्क और स्कैनिंग की राशि जमा करने कई दिनों तक इंतजार करना पड़ता था और बैंक के चक्कर लगाना पड़ता था।हाल के दिनों में इंटरनेट लिंक फेल होने की बात कह सुबह में जमा राशि को दूसरे दिन भी बैंक द्वारा कंफर्म नहीं किया जा रहा था। निबंधन विभाग ने इसके लिए ई-स्टांपिंग की सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया है। पटना निबंधन कार्यालय सूबे का पहला ई-स्टांपिंग वाला दफ्तर हो जाएगा। अब कोई भी व्यक्ति अपने निबंधन की निर्धारित राशि को विभाग द्वारा अधिकृत काउंटर पर जमा कराकर तत्काल निबंधन की प्रक्रिया शुरू करा सकते हैं।

क्या है नए नियम

कोई भी व्यक्ति सर्किल रेट के हिसाब से निर्धारित राशि को निबंधन कार्यालय के अंदर ही बने काउंटर पर जमा कराकर रसीद ले लेंगे। उनकी जमा राशि को वहीं बैठे कर्मचारी द्वारा तत्काल निबंधन विभाग के बैंक खाते में स्थानांतरित कर देगा। इसकी सूचना बगल वाले काउंटर पर बैठे निबंधन कर्मचारी के कंप्यूटर को तत्काल मिल जाएगी। इसके बाद उनकी जमीन के निबंधन की प्रक्रिया स्वत: शुरू हो जाएगी।

कंपनी के जिम्मे बैंक में राशि जमा कराना

जमीन के दस्तावेजों के निबंधन शुल्क बैंक में जमा कराने की जिम्मेदारी स्टॉक होल्डिंग कंपनी को दी गई है। कंपनी के कर्मचारी इस राशि को रिसीव करेंगे और इसकी रसीद संबंधित व्यक्ति को देंगे। इसके बाद इस राशि को जमा कर उसी दिन शाम में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया स्थित निबंधन कार्यालय के खाते में जमा करा देंगे। कंपनी के कर्मचारी द्वारा पैसा रिसीव करने के बाद निबंधन कराने आए व्यक्ति की जिम्मेदारी समाप्त हो जाती है। बदले में इस कंपनी को बैंक तथा निबंधन विभाग की ओर से निश्चित राशि कमीशन के रूप में दी जाएगी।

निबंधन कार्यालय में लगा है कंपनी का बोर्ड

स्टॉक होल्डिंग कंपनी की ओर से पटना निबंधन कार्यालय में अपनी शाखा खोलने की सारी प्रक्रिया पूरी कर ली है। कंपनी की ओर से सारे उपकरण व कंप्यूटर कार्यालय में इंस्टाल कर दिया गया है। कंपनी की ओर से बड़ा से साइन बोर्ड भी दफ्तर में लगा दिया गया है। शीघ्र ही इसकी शाखा की विधिवत शुरूआत कर दी जाएगी। आधे घंटे में हो जाएगा जमीन के दस्तावेज का निबंधनईस्-टांपिंग सिस्टम से निबंधन कार्य काफी आसान हो जाएगा। लोगों को बैंकों का चक्कर नहीं लगाना होगा। निबंधन कार्यालय में ही उनकी राशि जमा कर ली जाएगी। सुरक्षा के ख्याल से भी यह आम जनता के लिए बेहतर कदम होगा। एस चौधरी, जिला अवर निबंधक