आर-पार के मूड में लालू यादव फिर नही पियेंगे “विष का प्याला” तेजस्वी नहीं देंगें इस्तीफा

38

पटना Live डेस्क। सूबे की महागठबंधन सरकार के भविष्य को लेकर जारी उपापोह की स्थित जारी है। अभी अभी राजद सुप्रीमो लालू यादव ने सोनिया गांधी की कवायद यानी राजद,जदयू और कॉंग्रेस को एक साथ एक मंच पर यानी महागठबंधन को कायम रखने की कोशिश को दरकिनार कर दिया है। रांची से पटना आलौटने के बाद मीडिया से बातचीत में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने स्पष्ट कर दिया कि उनकी कोई बातचीत सोनिया गाँधी से नहीं हुई है। पहले यह कहा जा रहा था कि शुक्रवार को सोनिया गाँधी ने सुलह-सपाटे के लिए लालू प्रसाद और नीतीश कुमार से कई दफे बातचीत की है।इसकी पुष्टि भी जदयू की ओर से की गई थी।

अपनी बात को विस्तार देते हुए लालू प्रसाद ने कहा कि सोनिया गाँधी से नीतीश कुमार की बातचीत हुई और हुई तो क्या हुई,हमें इसकी जानकारी नही है। लेकिन हम यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि बिहार के डिप्टी चीफ मिनिस्टर तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देने जा रहे हैं। मैं किसी षड़यंत्र से डरने वाला नहीं हूँ।कोई कितना भी भभकी दे, लालू प्रसाद यादव डिगेगा नहीं। तेजस्वी यादव निर्दोष हैं,इसलिए इस्तीफा क्यों देंगे? राजद का कोई मंत्री भी इस्तीफा नहीं देने जा रहा है।

साथ ही लालू ने कहा कि बार-बार हमें इस मामले पर सफाई देना भी नहीं है। मीडिया कई तरीके से भ्रम फैला रहा है,जिसकी हम परवाह नहीं करते हैं। बिहार की जनता सच जानती है। जनता हमारे साथ है।राजद की पूर्व सहमति भी तेजस्वी यादव के इस्तीफे नहीं देने के पक्ष में है। बिहार में महागठबंधन अटूट है। हमें कोई खतरा नहीं दिखता,जिसे दिख रहा हो,वो जाने। हम 27 अगस्त की महारैली ‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ की तैयारी में लगे हैं।यह रैली पूरे देश को संदेशा देगी। षड़यंत्रकारी ताकतों को जवाब देगी। देश विपक्ष की एकाता को देखेगाऔर हमें अभी कुछ नहीं बोलना।
लालू यादव के तेजस्वी के इस्तीफ़ा नही देने की साफ साफ घोषणा के बाद अब महागठबंधन के दलों के बीच फिर एक बार बयानबाजी और आरोपो प्रत्यारोपो का दौर शुरू हो सकता है।