MeeToo मूवमेंट क्या है, इसकी शुरुआत कैसे और कब हुई

जैसे इस मूवमेंट की शुरुआत कैसे हुई? चलिए जानते हैं #MeeToo मूवमेंट क्या है…

MeeToo मूवमेंट क्या है

इस कैंपेन के तहत सोशल मीडिया पर लोग अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न की घटनाओं को #Meetoo के साथ लिखकर साझा करतें हैं। इस कैंपेन का मुख्य उद्देश्य ही हैं अपने साथ हुए यौन दुर्व्यवहार की बातों को दुनिया के सामने करना। इस मुहीम के शुरू होने के बाद कई महिलाओं ने अपनी चुप्पी तोड़ी है।

#MeToo मूवमेंट की शुरआत कब हुई

अमेरिका की मशहूर सोशल एक्टिविस्ट Tarana Burke ने 2006 में एक 13 साल की बच्ची की यौन उत्पीड़न को दुनिया के सामने लेकर आयी। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘मायस्पेस’ पर हैशटैग ‘Me Too’ के साथ “empowerment through empathy” लाइन के साथ बच्ची की मार्मिक कहानी को दुनिया के सामने रखा था। जिसने भी इसे पढ़ा वो अंदर तक सहम गया । यहीं से #MeToo मूवमेंट की शुरुआत हुयी।

ये मूवमेंट तब तेज हुआ जब एलीसा मिलानों ने सोशल मीडीया पर अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न का बारे में लिखा। मशहूर हॉलीवुड एक्ट्रेस एलिसा मिलानो सोशल मीडिया में बताया था कि हॉलीवुड प्रोड्यूसर हार्वे विंस्टीन ने उनका यौन शोषण किया था। मिलानो ने अपने ट्विटर अकाउंट पर 16 अक्टूबर 2017 को एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, ”अगर आप भी कभी यौन शौषण या किसी हमले का शिकार हुए हैं तो मेरे ट्वीट पर #MeToo के साथ रिप्लाई करें।” मिलानो के इस ट्वीट के बाद कई महिलाओं ने खुलकर इस मुहीम के तहत अपने साथ हुयी यौन शोषण की बताओं को सोशल मीडिया के जरिये सामने रखा।

भारत में #MeeToo मूवमेंट

बॉलीवुड में सबसे पहले #MeToo की शुरुआत मशहूर टीवी सीरियल ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ की बबिता यानि एक्ट्रेस मुनमुन दत्ता ने की थी। इसके बाद बॉलीवुड की कई अभिनेत्रियों ने इस मुहिम को आगे बढ़ाया। इनमें स्वरा भास्कर, रिचा चड्ढा, कोंकणा सेन शर्मा, कंगना रनौत, राधिका आप्टे, इशिता दत्ता, मलिका दुआ, सुचित्रा कृष्णमूर्ति, साउथ इंडियन एक्ट्रेस पार्वती, चिन्मयी श्रीप्रदा, सजिता मदातिल, रीमा कलिंगल जैसे कई मशहूर महिला कलाकारों के नाम शामिल हैं।