सरेराह लफंगों ने की किलकारी के बच्चों की पिटायी, कई बच्चे हुए जख्मी, तीन गिरफ्तार

0
33

पटना Live डेस्क ।  गुरूवार की शाम किलकारी के बच्चों के लिए बहुत ही अशुभ रहा. पिछले कई दिनों से चल रहे प्रशिक्षण शिविर से जब सभी बच्चे घर जाने के लिए बाहर निकले तो मुहल्लों के लफुओं से भिडंत हो गई. मामूली बात से शुरू हुए झगड़े में जब लफुओं ने किलकारी की बच्चियों से शरारात करनी चाही तो किलकारी के बच्चों ने विरोध किया और फिर लड़ाई शुरू हो गई. मुहल्ले के लड़के भारी पड़े किलकारी के अवोध बच्चों पर. उनलोगों ने बच्चों की जमकर पिटायी कर दी. कई बच्चों को काफी चोट आई है.

जबकि उनकी लड़ाई को रोकने में जुटा किलकारी के सुरक्षा गार्ड का आरोपियों ने इतनी पिटायी कि की उनकी नाक की हड्डी और बायां पैर फ्रैक्चर हो गया है. पीड़ित बच्चों का कहना है कि आरोपियों ने उनकी पिटायी रॉड और हाकी स्टिक से की. जख्मी होने वाले बच्चों में नवीन कुमार, प्रिंस, घनश्याम, विनोद, सानू, छोटू, संतु और कई बच्चियां शामिल है. जख्मी बच्चों और गार्ड का इलाज नीजि अस्पताल में किया गया. दुखद यह कि इस घटना की जानकारी देने के बाद भी कदमकुआं पुलिस का रवैया ढीला ढाला रहा. एसएसपी के हस्तक्षेप के बाद पुलिस हरकत में आयी, पीड़ित बच्चों का बयान लिया और खबर लिखे जाने तक आज दूसरे दिन तीन आरोपियों को दबोचने में पुलिस कामयाब हुई है. पकड़े गए तीनों युवक, मनोज कुमार, मनोहर राय और सुनील राय उसी मुहल्ले के हैं. सबसे बड़ा सवाल है कि किलकारी जहां हजारों की संख्या में बच्चों को कई सास्कृतिक विधाओं में प्रशिक्षण सरकार मुफ्त में देती है वहां सुरक्षा के नाम पर बिना हथियार के निजी सुरक्षा गार्ड तैनात है. किलकारी की निदेशक ज्योति परिहार इस घटना से बहुत ही आहत हैं, कहती हैं कि वैसे तो यह पहली घटना है लेकिन सुरक्षा को लेकर थाने वाले ध्यान नहीं देते हैं जबकि इस मुद्दे पर कई पत्राचार वो उपर से नीचे तक कर चुकी हैं. जरूरत है कि कम से कम शाम के वक्त जब बच्चों का हुजुम घर जाने के लिए निकलता है उस समय तो पुलिस की जिप्सी दिखे. इस बात को लेकर एकबार फिर ज्योति परिहार वरीय अधिकारियों से मिलने वाली हैं.

Loading...