BiG News – विशेश्वर ओझा हत्याकांड के मुख्य गवाह कमल मिश्रा की हत्या में शाहपुर विधायक के करीबी और निजी सुरक्षा कर्मी किशुन मिश्रा नामजद, विधायक के साथ तस्वीरें हुई वायरल

3532

पटना Live डेस्क। बिहार भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे विशेश्वर ओझा को 12 फरवरी 2016 को सोनवर्षा में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।इस हत्याकांड के मुख्य गवाह कमल किशोर मिश्रा की भोजपुर जिले के करनामेपुर सहायक थाना क्षेत्र में शुक्रवार को गोली मारकर हत्या कर दी गई। मकतूल कमल किशोर मिश्रा को शुक्रवार की उस वक्त गोली मार दी गई जब वो सुबह अपने खेत से पशुओं का चारा लेकर घर लौट रहे थे कि तभी सोनवर्षा गांव के पास ब्रह्मस्थान के पास पहले से घात लगाए अपराधियों ने गोलीबारी कर दी। गोली लगने से घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई थी।

अब, इस मामले में अपने बेटे की हत्या के चश्मदीद गवाह व मृतक के पिता के इकबालिया बयान के आधार पर नामजद 5 लोगो को नामजद किया गया है। FIR में शिवाजीत मिश्र के बेटे ब्रजेश मिश्रा, किशुन मिश्र के अलावे उमाशंकर मिश्र, मुक्तेश्वर मिश्र और रामअवतार उर्फ राजकिशोर पाल को आरोपित किया गया है। लेकिन इस हत्याकांड के मुख्य नामजद अभियुक्त किशुन मिश्रा के बारे में बेहद चौकाने वाली सनसनीखेज जानकारियां हासिल हुई हैं। मिल रही जानकारी के अनुसार इस बात के पुख्ता सबूत मिले है कि मुख्य अभियुक्त किशुन मिश्रा सूबे के चर्चित सियासतदान और राजद के वरियतम राजनीतिज्ञों में शुमार शिवानंद तिवारी के बेटे और वर्त्तमान में शाहपुर से विधायक राहुल तिवारी का बेहद विश्वस्त सिपहसालार है। साथ ही साथ राहुल तिवारी उर्फ मंटु तिवारी के निजी सुरक्षा दस्ते का सर्वेसर्वा है। जो राजद विधायक के साथ साये की तरह उनके साथ घूमता रहता है। पुलिस किशुन मिश्रा के काल डिटेल्स भी खंगाल रही है।

                 

वही, बकौल पारिवारिक सूत्रों के विशेश्वर ओझा हत्याकांड के मुख्य गवाह रहे कमल किशोर मिश्र की हत्या एक बड़े साज़िश का हिस्सा है। उनका कहना है तभी तो कमल को पहले पुलिस द्वारा गार्ड दिया गया था, फिर सूबे के एक बड़े नामवर नेता के इशारे पर मकतूल के घर एके 47 होने की कथित जानकारी पर छापेमारी कराई गई, और फिर उसी बहाने सुरक्षा गार्ड हटाया गया ताकि कमल मिश्रा की हत्या कराई जा सके। जिसमे वो सफल रहे। अब कमल के पिता समेत परिवार की मांग है कि नामज़द अभियुक्तों सहित हत्या की साजिशकर्ता के खिलाफ भी पुलिस की जांच हो।