तेजस्वी ने नहीं दिया इस्तीफा तो बर्खास्तगी के विकल्प पर भी विचार!

इस्तीफा मामले पर लालू प्रसाद के एक बार फिर तेजस्वी का साथ दिए जाने के बाद ये कयास लगाए जा रहें हैं कि अब नीतीश कुमार क्या करेंगे? जेडीयू ने राजद को जो चार दिनों की मोहलत दी थी उसका आज अंतिम दिन है. ऐसे में जेडीयू में दूसरे विकल्पों पर भी विचार किया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक अगर तेजस्वी इस्तीफा नहीं देते हैं तो उन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जा सकता है. लेकिन उनकी बर्खास्तगी इतनी आसान  भी नहीं है अगर वो बर्खास्त हुए तो महागठबंधन सरकार पर गंभीर संकट आ जाएगा और बहुत संभावना है कि सरकार गिर जाए. तेजस्वी के मामले पर राजद एकजुट है. बार-बार उसके नेता तेजस्वी के इस्तीफे की बात को खारिज कर रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के लालू प्रसाद से बातचीत किए जाने की खबर के बाद ये लगने लगा था कि शायद गठबंधन की गांठ ढीली हो जाए. लेकिन चारा घोटाले में पेशी के लिए रांची गए लालू प्रसाद ने पटना आते ही ये एलान कर दिया कि तेजस्वी के इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता. ऐसे में फिर से ये बात जोर पकड़ने लगी है कि तेजस्वी अगर इस्तीफा नहीं देते हैं तो नीतीश कुमार क्या करेंगे?

जेडीयू सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राजद को पार्टी के रुख के बारे में खबर पहुंचा दी गई है कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर जेडीयू कोई समझौता नहीं करेगी और तेजस्वी यादव को इस्तीफा देना ही पड़ेगा तभी कोई बात बन सकती है. लेकिन राजद के रुख को अगर देखें तो वो साफ तौर पर तेजस्वी के इस्तीफे से इनकार कर चुका है और ये भी खबर आ रही है कि अगर तेजस्वी ने इस्तीफा दिया तो राजद कोटे के सार मंत्री इस्तीफा दे देंगे.

जेडीयू नेताओं से बातचीत के दौरान उनके नेताओं का कहना है कि महागठबंधन केवल जेडीयू की जिम्मेदारी नहीं है. वो भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं करेंगे. पार्टी नेताओं के मुताबिक नीतीश कुमार ने अपने नेताओं की बैठक में ये साफ कर दिया था कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर वो कोई समझौता नहीं करेंगे. ऐसे में ये साफ लग रहा है कि दोनों पार्टियां अपने-अपने रुख पर कायम हें और वो कोई समझौता नहीं करेंगे.