गया गैंगरेप पर जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने तेजस्वी पर लगाया बड़ा आराेप, जाति देख कर करते हैं राजनीति

0
46

पटना Live डेस्क। बिहार के गया जिले डॉक्टर की पति और नाबालिक बेटी संग गैंगरेप की घटना के बाद से सूबे के सियासी दलों के बीच राजनीतिक बयानबाजियों का दौरा थमने का नाम नही ले रहा है। सत्ताधारी दल और विपक्षय पार्टियां लगातार अपनी सियासी रोटियां सेंकने में लगी हुई हैं। वही एक दूसरे पर आरोपो प्रत्यरोपो का दौरा भी नए नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। एक तरफ राज्य में बढ़ते क्राइम ग्राफ को लेकर RJD सुशासन को लेकर सरकारी मशीनरी पर सवाल उठा रहा है। वहीं, रेप पीड़िता की पहचान उजागर करने के बाद अब राजद चौतरफा घिरती जा रही है।पुलिस ने राजद नेताओं के खिलाफ पीड़िता की पहचान उजागर करने के मामले में दर्ज कर लिया है। वहीं, राज्य महिला आयोग ने इस मामले में राजद नेताओं को नोटिस जारी करने की बात कही है।साथ ही इस मामले में राजद अब खुद अन्य राजनीतिक दलों के निशाने पर आ गया है। वही महागठबन्ध मे शामिल कॉंग्रेस ने भी राजद को इस प्रकरण में गलती करने का बयान देकर मुश्किलें बढ़ाने का काम किया है।
वही दूसरी तरफ रविवार को जदयू के प्रवक्ता संजय सिंह ने बड़ा बयान दिया है। संजय सिंह ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री और राजद के युवा नेता तेजस्वी यादव जाति देख कर सियासत करते हैं। यही कारण है कि गया के गुरारू में जाति देख कर तेजस्वी ने नेताओं की जांच टीम भेजी।अगर, ऐसा नहीं था तो,जहानाबाद में लड़की से बदसलूकी के बाद तेजस्वी ने क्यों नहीं जांच टीम भेजी ? राघोपुर में दलितों के घर जलाये जाने पर जांच टीम क्यों नहीं भेजी? इससे साफ होता है कि तेजस्वी जाति देख कर सियासत करते हैं।
उल्लेखनीय है कि राजद की सहयोगी पार्टी कांग्रेस के प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष कौकब कादरी ने शनिवार को हमला बोला था।उन्होंने कहा था कि गया में पीड़िता के सामने जो माहौल बनाया गया और उसके साथ जो दुर्व्यवहार किया गया, हम उसकी निंदा करते हैं। जिस तरह से पीड़िता के सामने वहां खींचतान हुई, वह नहीं होनी चाहिए थी।
वहीं, जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने सदन में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा था कि राजद के युवा नेता तेजस्वी यादव ने सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देश का उल्लंघन किया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि किसी भी हाल में रेप पीड़िता की पहचान को उजागर नहीं किया जा सकता।उसके किसी सगे संबंधी या अन्य बातों का भी जिक्र नहीं किया सकता है, जिससे कि उसकी पहचान खुलासा हो।लेकिन, राजद नेताओं ने पीड़िता के साथ जो सलूक किया वह शर्मसार करनेवाला है। वही नीरज ने “ट्वीटर बॉय” कहकर भी अपने बयानों के जरिये तेजस्वी पर जमकर निशाना साधा।