जेडीयू में भी विरोध के स्वर, विजेंद्र यादव गठबंधन टूटने के खिलाफ

पटना लाइव डेस्क| बिहार में बढ़ती राजनीतिक सरगर्मी के बीच जहां जेडीयू विधायक और मंत्री भ्रष्टाचार को लेकर नीतीश कुमार के पीछे खड़े दिखाई देते हैं. वहीं जेडीयू के वरिष्ठ नेता विजेंद्र प्रसाद यादव गठबंधन तोड़ने के खिलाफ हैं. मंगलवार को नीतीश कुमार आवास पर आयोजित जेडीयू की बैठक में पार्टी नेताओं ने भ्रष्टाचार के मामले पर गठबंधन तोड़ने की भी सलाह नीतश कुमार को दी. वहीं इसी बैठक में शामिल मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव की राय सबों से बिल्कुल अलग थी.बैठक में अपनी राय रखते हुए विजेंद्र यादव ने अपनी ही सरकार को कटघड़े में खड़ा कर दिया. विजेंद्र यादव ने कहा कि महागठबंधन तोड़ने या फिर सरकार गिराने से कुछ नहीं होगा. जे़डीयू को अपनी ताकत देखनी होगी. क्या जब राजद से समझौता हो रहा था तब हमें यह नहीं पता था कि लालू प्रसाद चार्जशीटेड हैं? जब केंद्र में उमा भारती कई गंभीर आरोंपों के बाद भी मंत्री हैं तो फिर तेजस्वी के मामले में हायतौबा क्यों?
विजेंद्र प्रसाद यादव यहीं पर नहीं रुके तेजस्वी यादव का बचाव करते हुए उन्होंने कहा कि आज कौन सी परिस्थिति आ गयी है कि महागठबंधन से अलग हो जाएं? सीबीआई छापे पर उन्होंने कहा कि ये केंद्र सरकार का मामला है. हालांकि विजेंद्र यादव का बैठक में विरोध भी हुआ और आखिरकार उन्हें बैठना पड़ा.
उधर मंत्री जय कुमार सिंह ने नीतीश कुमार का इस मसले पर बचाव किया और कहा कि सीएम को अपनी छवि को दागदार नहीं होने देना चाहिए. मंत्री ललन सिंह ने भी जय कुमार सिंह का समर्थन किया. बैठक के बाद जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि जो भी फैसला होगा वो एतिहासिक फैसला होगा.
बैठक में सबों की बात सुनने के बाद नीतीश कुमार ने कहा….
हमने ही बेनामी संपत्ति पर हमला बोलने की मांग की थी अब कैसे बचाव कर सकते हैं.
हमने जीतन राम मांझी, रामाधार सिंह, रामानंदर सिंह, अवधेश कुशवाहा से इस्तीफा लिया जबकि उन पर गंभीर आरोप भी नहीं थे. हमने भी कई मौकों पर इस्तीफा दिया .
मीडिया हमें घेर रही है तो क्या गलत कर रही है हमने जो पहले लाइन खींची है उससे कैसे पीछे हट सकते हैं?
सिद्धांत से हम कभी समझौता नहीं करेंगे. मिट्टी में मिल जायेंगे लेकिन समझौता नहीं करेंगे.
हमने देश हित में कई फैसले लिये. केंद्र सरकार के देश हित में लिये गये फैसले का हम हमेशा समर्थन करेंगे पीछे कभी नहीं हटेंगे.