BiG News (वीडियो) पटना में अपने पिता की मौत के कुछ घण्टे बाद बेटों ने जदयू के पूर्व प्रवक्ता और गोनपुरा मुखिया के भाई को मारी गोलिया, मौत

#जदयू के पूर्व प्रवक्ता के भाई बबलू की गोली मारकर हत्या
#गांव के ही टेम्पो चालक और भाइयों ने सीने में मार दी गोलिया
#हत्यारे सीटू के पिता महानंद सिंह की आज तड़के ही हो गयी थी मौत
#हत्या के पीछे रुपये के लेनदेन की बात बताई जा रही है।

पटना Live डेस्क। राजधानी के फुलवारी शरीफ में  शुक्रवार की अहले सुबह जदयू के पूर्व प्रवक्ता और गोनपुरा पंचायत की मुखिया आभा देवी के भाई बबलू सिंह की गोली मार कर हत्या कर दी गयी। नेशनल हाइवे संख्या 98 पर महंगूपुर में बबलू सिंह को उसके घर के पास ही बाइक सवार गांव के ही युवक सीटू ने ताबड़तोड़ 2 गोलियां मारकर मौत के घाट उतार दिया और हथियार चमकाते फरार हों गया। हत्या की वारदात से परिजनों में कोहराम मच गया। वही घटना से पूरे गांव में अफ़रातफ़री मच गई। बबलू सिंह की हत्या की खबर आग की तरह चारो ओर फैल गई और फिर आस पास के गांवों के सैंकड़ो ग्रामीणों की भारी भीड़ जमा होकर हंगामा कर रही है। वही हत्या की खबर मिलने पर पहुची स्थनीय थाना पुलिस में जब लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजने खातिर प्रत्यन किये तो जानीपुर थानेदार मोहन प्रसाद सिंह को आक्रोशित लोगों ने घेरा और लाश को उठाने से रोक दिय। लोग हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े हुए हैं। पुलिस हत्यारे की तलाश में जुट गई है। पूरे इलाके में नाकेबन्दी कर छापेमारी की जा रही है ।
दरअसल,पटना जिले के जानीपुर थाना अंतर्गत महंगुपुर गांव में शुक्रवार को अहले सुबह 40 वर्षीय बबलु सिंह की गोली मार कर हत्या कर दी गई। मृतक प्रदेश जदयू के पूर्व प्रवक्ता नवल शर्मा का ममेरा भाई था।घटना की सूचना पाकर जदयू नेता नवल शर्मा भी महगुपुर पहुंच गए।घटना के पीछे गांव के ही महानंद सिंह के बेटे सींटू सिंह से पैसे के लेन-देन का विवाद बताया जा रहा है। बबलू सिंह बीते कई दिनों से सींटू सिंह और उसके परिजनो पर अपने पैसे वापस करने का दवाब बना रहा था।इस कारण उसका पूरा परिवार तनाव में था।
शुक्रवार को अहले सुबह सींटू सिंह के पिता
महानंद सिंह की लंबी बीमारी के बाद मौत हो गई। पिता की मौत के बाद सीटू सिंह अपने दो भाइयों संतोष और सीपू के साथ बबलू सिंह के घर पहुचा। उस वक्त बबलू सिंह सुबह में अपने घर के दलान में बैठे मोबाइल से किसी से बातचीत कर रहे थे। फिर पैसे के लेन-देन को लेकर पहले तीनों भाइयों ने बबलू सिंह से थोड़ी देर तक बकझक की और फिर अचानक सीटू ने कमर से पिस्टल निकालकर बबलू सिंह को गोली मार दी और फिर तीनों बाइक पर सवरा होकर फरार हो गए।

गोली चलने की आवाज सुनकर घर के लोग बाहर आए और गंभीर और खून से लथपथ अचेत स्थिति में पड़े बबलू सिंह को लेकर दानापुर अस्पताल पहुंचे लेकिन डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही फुलवारी शरीफ डीएसपी रमाकांत प्रसाद तत्काल घटनास्थल पर पहुच वहां कैंप कर मामले की छानबीन कर रहे हैं।

एसडीपीओ फुलवारी शरीफ रमाकांत प्रसाद ने “पटना Live” को बताया कि बबलू सिंह ने गांव के ही सींटू सिंह को तीन लाख रुपये बतौर कर्ज दे रखा था जिसे लौटाने में वह आनाकानी कर रहा था। इधर कुछ दिनों से बबलु सिंह अपने पैसे की वापसी के लिए सींटू और उसके भाइयों पर दबाव बनाए हुए था जिसके कारण सींटू और उसके भाई बौखलाए हुए थे। इसी विवाद के कारण आज तीनों भाइयों ने मिलकर बबलू सिंह की हत्या कर दी। हत्या के बाद सारे आरोपित गांव छोड़कर फरार हो गए। पुलिस ने आरोपितों के परिवार के कुछ सदस्यों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है जबकि समाचार लिखे जाने तक हत्यारों के पिता का शव उनके घर में पड़ा था।