प्रदेश कांग्रेस में फिलहाल सबकुछ ठीक नहीं,राहुल की नसीहत भी फेल,कई मुद्दों पर पार्टी में दो फाड़!

पटना Live डेस्क. दिल्ली में राहुल गांधी और सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद यह लगने लगा था कि अब बिहार प्रदेश कांग्रेस में सबकुछ ठीकठाक है…जाहिर है इसके लिए राहुल गांधी ने राज्य के 27 कांग्रेस विधायकों में 21 को दिल्ली तलब कर उनसे अलग-अलग बात की थी..और मामले को सुलझाने की कोशिश की थी…राहुल ने विधायकों को कांग्रेस की विचारधारा की याद दिलायी थी..साथ ही साथ सख्त नसीहत भी दी थी..राहुल ने विधायकों की राय के उलट कांग्रेस की राजद की दोस्ती बरकरार रखने की बात कही थी…राहुल की बातों के बाद यह लगने लगा था कि अब प्रदेश कांग्रेस में सबकुछ ठीक है…लेकिन कुछ विधायकों ने दिल्ली से पटना लौटते ही बैठक के ठीक उलट अपनी राय जाहिर कर दी और साफ तरीके से कहा कि कांग्रेस की बेहतरी के लिए प्रदेश में राजद का साथ छोड़ देना चाहिए…खासकर भागलपुर विधायक अजीत शर्मा और बक्सर से पार्टी विधायक ने खुलकर मीडिया के सामने अपनी बात रखी और कहा कि प्रदेश कांग्रेस को राजद से अलग अपनी पहचान बनानी चाहिए…हालांकि पार्टी के कुछ और विधायकों ने राजद का साथ छोड़ने में अपनी सहमति नहीं दी..अब हाल यह है कि शीर्ष नेतृत्व के बीच-बचाव के बाद भी प्रदेश कांग्रेस दो फाड़ दिखाई दे रही है…प्रदेश कांग्रेस में दिखाई दे रही सुस्ती कहानी को साफ बयां कर रही है…राज्य में भागलपुर सृजन घोटाले का मामला फिलहाल गर्म है…राजद इस घोटाले को लेकर राज्य सरकार पर हमलावर है..लेकिन कांग्रेस में खामोशी है.. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ताओं ने इस मुद्दे पर आवाज बुलंद करते हुए मुख्यमंत्री के इस्तीफे तक की मांग की.. लेकिन प्रदेश कांग्रेस की किसी नेता ने राजद की तरह इस मसले पर अपनी आवाज बुलंद नहीं की…नीतीश कुमार सरकार के खिलाफ विधानसभा में वोट करने वाली कांग्रेस नीतीश विरोध के नाम पर चुप हैं..
वैसे, कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता की मानें तो पार्टी का एजेंडा तय है…उन्होंने कहा कि भाजपा के खिलाफ हमें अभियान चलाना है.. अब जबकि नीतीश कुमार भी भाजपा के साथ हो गए हैं, हमें उनके खिलाफ भी मुहिम चलानी है..लेकिन यह अभियान कब से चलाया जाएगा इसका कोई जवाब उनके पास नहीं है…
वैसे,सृजन घोटाले पर पार्टी का रुख स्पष्ट करते हुए उन्होंने कहा कि अभी सीबीआइ जांच कर रही है.. जांच के बाद ही हम कोई कदम उठाएंगे.. यह पूछे जाने पर कि राजद लगातार बाढ़ राहत में कोताही का सरकार पर आरोप लगा रहा है, लेकिन कांग्रेस खामोश है, हरखू झा ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया है..