गॉल टेस्ट में भारत की पकड़ मजबूत,श्रीलंका का मैच बचाना मुश्किल

पटना Live डेस्क. भारत और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में तीसरे दिन की समाप्ति के बाद भारत ने मेजबान टीम पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है. आज तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक भारत ने श्रीलंका पर 498 रन की बढ़त हासिल कर ली. दिन का खेल अभिनव मुकुंद (81) के आउट होने के साथ खत्म हुआ। यह दिन का अंतिम ओवर ही था और धनुष्का गुणाथिलाका बोलिंग कर रहे थे कि उनकी एक गेंद मुकुंद के पैड से जा टकराई, इस पर अंपायर ने उन्हें LBW करार दे दिया. पहली पारी में फ्लॉप होने के बाद इस बार शानदार पारी खेल रहे मुकुंद ने DRS मांगा, लेकिन कैमरे पर भी वह आउट ही दिखाई दिए और उन्हें निराश होकर पविलियन लौटना पड़ा. यह भारत का तीसरा विकेट था, जो 189 के स्कोर पर गिरा. दूसरे छोर पर कैप्टन विराट कोहली खड़े थे, जो 76 रन पर नाबाद पविलियन लौटे. इस मैच में अभी दो दिन और बाकी हैं और भारत यहां से एक विशाल स्कोर की लीड श्रीलंका के सामने रखना चाहेगा.

इससे पहले रविंद्र जाडेजा (3-67) ने लंच के तुरंत बाद लाहिरु कुमारा को आउट करके श्रीलंकाई पारी का अंत किया. दिलरुवान परेरा 92 रन बनाकर नाबाद रहे. उन्होंने 132 गेंदें खेली तथा 10 चौके और 4 छक्के लगाए.

दिलरुवान के अलावा एंजेलो मैथ्यूज ने 83 रन की पारी खेली. भारत ने बड़ी बढ़त हासिल की थी, लेकिन कप्तान विराट कोहली ने श्रीलंका को फॉलोऑन नहीं दिया. इसके बाद भारत ने धवन का विकेट जल्दी गंवा दिया. उन्होंने परेरा की बाहर जाती गेंद को खेलने के प्रयास में बैकवर्ड प्वाइंट पर कैच दिया. इसके बाद मुकुंद और पुजारा ने दूसरे विकेट के लिए 37 रन जोडे़. चाय के विश्राम से 40 मिनट पहले बारिश शुरू हो गई लेकिन इससे ठीक पहले लाहिरु कुमारा ने पुजारा को लेग गली में कैच आउट करा दिया.

कुशाल मेंडिस ने दूसरे प्रयास में कैच लिया. इसके तुरंत बाद खेल रोकना पड़ा और फिर अंपायरों ने जल्दी चाय का विश्राम घोषित कर दिया. इससे पहले श्रीलंका ने सुबह 5 विकेट पर 154 रन से आगे खेलना शुरू किया. परेरा और मैथ्यूज ने गेंदबाजों का डटकर सामना किया. भारत की तरफ से उमेश यादव और जाडेजा ने सुबह गेंदबाजी का आगाज किया।

भारत को पहले घंटे में कोई सफलता नहीं मिली और इस बीच श्रीलंका ने अपना स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया. आखिर में पारी के 59वें ओवर में मैथ्यूज ने जाडेजा की गेंद पर शॉर्ट कवर पर खडे़ कोहली को सीधा कैच थमाया. स्पिनरों को आज पिच से थोडा टर्न मिल रहा है और जाडेजा ने ऐसे में एक छोर से लगातार दबाव बनाए रखा और आखिर में उन्हें सफलता भी मिली.