Super Exclusive- 35 साल से चले आ रहे ज़मीनी विवाद में एक पक्ष के हमलवारों ने घात लगाकर किया हमला, एक स्थानीय दूसरा अज्ञात ढेर

0
51

पटना Live डेस्क। पटना जिले के दुल्हिन बाजार थाना क्षेत्र में 35 साल से ठाकुरबाड़ी की ज़मीन को लेकर जारी विवाद में घूसखोरी के मामले गिरफ्तार हुए सीओ की कारगुजारी और अदूरदर्शिता की वजह से गैंगवार हो गया। अचानक एक पक्ष द्वारा दूसरे पर किये गए घात लगाकर हमले में दो लोग हलाक हो गए। दोनो पक्षो के बीच हुए भिड़ंत में हुई ताबड़तोड़ गोलीबारी से इलाका दहल उठा।सूचना मिलते ही स्थानीय थाना पुलिस मौके वारदात पर पहुची। पुलिस को आता देख दोनो पक्षो के बन्दूकबाज फरार हो गए। घटना स्थल से पुलिस ने दो शव बरामद किये है।
एक मृतक की पहचान स्थानीय आसनारायण मिस्त्री के रूप में हुई है। वही,दूसरे की शिनाख्त नहीं हो पा रही है।अनुमान लगाया जा रहा है कि हमलावर पक्ष की ओर से बुलाया गया बाहरी अपराधी हो सकता है। मिले शव के पास से पुुलिस ने एक कट्टा भी बरामद किया है।घटना स्थल पर पुलिस कैम्प कर रही है।डीएसपी के नेतृत्व में कांड में शामिल अपराधियों की धड़पकड़ खातिर छापेमारी जारी। वही घटना के बाद तनावपूर्ण शांति कायम है।                                                                                                   मिली जानकारी के अनुसार जिले के दुल्हिन बाजार थाना क्षेत्र के लाला भदसारा गाँव स्थित रामजानकी ठाकुरबारी की जमीन का विवाद लगभग 35 वर्षो से लगातार चला आ रहा है। इस ज़मीन को लेकर रामसुभग महतो व टोकनरायण दास के बीच विगत कई वर्षों से तनातनी की स्थित चली आ रही है। इस मामले दोनो पक्षो की ओर से थाना में दर्जन भर मारपीट और गोली चलने का मामला दर्ज है। लेकिन विगत दिनों यहां पदास्थित रहे अंचलाधिकारी जो रिश्वतखोरी में निगरानी के हत्थे चढ़े उनके द्वारा एक पक्ष विशेष को इस जमीन पर काबिज कराने की कारगुजारियों ने वर्षो से शांत पड़े इस मामले को पुनः गर्म कर दिया। वही मिली जानकारी के अनुसार इस ठाकुरबारी की जमीन के लिए वर्षो पूर्व भी खुरेजी की घटना घट चुकी है जिसमे एक साथ 3 लोगो की असमय मौत हुई। तब से मामला बिल्कुल शान्त था। लेकिन अंचलाधिकारी की दखल और एक पक्ष को फसल बोने और काटने का अधिकार देने के कारण मामले में तुर्शी आने लगी। जिसका अंजाम बुधवार को देर शाम खूनी भिड़त के तौर पर सामने आया।
बुधवार को पुनः एक बार ठाकुरवाड़ी की ज़मीन को लेकर खुरेजी की घटना को उस वक्त अंजाम दिया गया जब मकतूल आसनारायण छोटकी खरवां से एक श्राद्ध कार्यक्रम शामिल होकर कुछ लोगो के साथ अपने घर लौट रहे थे। इसी दौरान पहले से हरबे हथियार से लैस घात लगाए अपराधियों उनको निशाना बनाते हुए फायरिंग कर दी। इसमें आसनारायण मिस्त्री को गोली लगी और मौक़े पर ही मौत हो गयी। वही गोलीबारी की सूचना पर पुलिस के पहुचने की सूचना पर दोनों तरफ के बदमाश फरार हों गये। वही पुलिस द्वारा दूसरी लाश पुलिस ने बग़ल के खेत से बरामद किया है। जिसकी पहचान नहीं हो पा रही है।
घटना की सूचना पाकर एसडीपीओ पालीगंज मनोज कुमार पांडे पहुँचे।पुलिस ने दोनों लाशों को बरामद कर लिया है।इस घटना के बाद गांव में काफी तनाव हो गया है।हालाकि अभी तक इस घटना में किसी भी पक्ष द्वारा मामला दर्ज नहीं कराया गया है। घटना के बाद गांव में काफी तनाव व्याप्त है। जिसे देखते हुए आसपास के सभी थाने की पुलिस ने लाला भदसरा में जमे हुए है।वही, दूसरी तरफ कांड में शामिल अपराधियों की धरपकड़ खातिर एसडीपीओ के नेतृत्व में छापेमारी जारी रही है।