BiG  Expose (वीडियो) हे ईश्वर यह खबर गलत झूठी साबित हो, महात्मा गांधी सेतु पर हादसा नही हुआ हुआ है, बल्कि स्कोर्पियों सहित “मासूम” ने जानबूझ कर गंगा में लगाई गई है मौत की छलांग

0
913

पटना Live डेस्क। मंगलवार की अहले सुबह राजधानी पटना को उत्तर बिहार से जोड़ने वाले गांधी सेतु पर एक उजली स्कोर्पियाँ जो हाजीपुर से पटना की तरफ आ रही थी रेलिंग तोड़ते हुए सीधे ऊफनती गंगा में समा गई। शुरुआती तफ्तीश में यह एक हादसा मालूम हो रहा था। लेकिन अब जबकि तक़रीबन घटना के 24 घंटे बीत चुके है। शहर से लापता एक नाइंथ क्लास के छात्र की घटना से इस हादसे की जुड़ती कड़िया बहुत ही दुःखद खुलासे कर रही है। वही दूसरी तरफ घटना के बाद NDRF की 7 टीमो ने करीब गंगा नदी में 10 घंटे तक अभियान चलाया, इस दौरान हाइड्रोलिक क्रेन की भी मदद ली गयी। लेकिन स्कॉर्पियो का पता नहीं चल पाया।

हादस CCtv में कैद

घटना से जुड़ी CCtv फुटेज भी पटना Live के पास मौजूद है। दरअसल,सीसीटीवी फुटेज और चश्मदीद बाइकसवार जो घटना के वक्त ठीक उस जगह पर मौजूद था के बयान इस बात की तस्दीक करते है कि यह हादसा नही है। यह ख़ुदकुशी ख़ातिर “ह्वाइट स्कोर्पियों” के ड्राइवर द्वारा रेलिंग को तोड़ते हुए गंगा में गाड़ी सहित मौत की छलांग लगाई गई है। वही दूसरी तरफ राजधानी से अपने पिता की उजके कलर की ही स्कोर्पियो के साथ एक 14 साल के छात्र के लापता होने और फिर उसके द्वारा अपने मोबाइल से भेजे गए आखिरी मैसेज की टाइमिंग से कड़िया जुड़ती हुई प्रतीत हो रही है। यानी हादसा नही खुदकुशी है गांधी सेतु से गंगा में स्कोर्पियो का ड्राइवर सहित गिरना।

मैसेज और हादसे का टाइम

                              वही दूसरी तरफ एक अन्य खबर से जानकारी मिली कि पटना के कंकड़बाग थाना क्षेत्र से एक 9वीं क्लास का छात्र आदर्श मंगलवार की अहले सुबह अपने घर से बिना किसी की जानकारी के पिता की उजले कलर की स्कोर्पियो BR01PJ-2028 ड्राइवर करते हुए घर से चुपके से निकला और फिर बोरिंग रोड पहुचकर में अपने स्कूल में पढ़ने वाली एक फ्रेंड से मिला। दोनों ने साथ में कुछ वक्त बिताया। वही गाड़ी से धूमने दौरान स्कोर्पियो की टक्कर भी इनकम टैक्स चौराहे के समीप हुई। टक्कर होने की जानकारी उसके बड़े भाई के व्हाट्स एप मेसेज से पता चलता है जो उसने अपने लापता भाई को ढूढ़ने की गुहार खातिर शेयर किया है।। फिर, लेकिन अचानक न जाने क्या होता है लापता आदर्श ने अपने जियो के मोबाइल नंबर 74######63 से अपनी माँ को मैसेज किया- “सॉरी मॉम मेरे लिए रोना मत “। ये मेसेज वो मंगलवार  पांच बजकर 10 मिनट पर भेजता है। फिर वो अपने दोस्तों के व्हाट्स एप ग्रुप में भी एक मैसेज लिखाता है – “भाई लोग मैं जा रहा हूँ।” यही वो आखरी 2 मैसेज है जिसके बाद से बाद से स्कोर्पियो समेत आदर्श लापता हो गया और  मोबाइल भी बंद हो गया।

बकौल चश्मदीद ..

वही, दूसरी तरफ गांधी सेतु पर हादसे के चश्मदीद के बयान के अनुसार स्कोर्पियों के उफनती गंगा में समाने की घटना 5 बजकर कर 15 मिनट के आस पास की है।
बकौल प्रत्यक्षदर्शी बाइकर के हाजीपुर से पटना की तरफ आ रही उजली स्कोर्पियो की स्पीड बहुत तेज भी नही थी। गाड़ी जो पूर्वी छोर से बायीं लेन आ रही थी।फिर अचानक दाहिने बीच सड़क यानी दो लेन पार करते हुए पुल के लोहे के रेलिंग को तोड़ते हुए हवा में लहराते हुए गंगा में गिरी।
वही बकौल बाइकर जो घटना के वक्त वहां रुक कर लघुशंका कर रहा था ने बताया कि गाड़ी में सिर्फ ड्राइवर ही मौजूद था अगर कोई दूसरा होता तो वो भी दिखता लेकिन चुकी पूरी घटना महज कुछ पलों में हो गई वो भी दावे के साथ नही कह सकता है कि ड्राइवर के अलावे कितने लोग थे। यानी चश्मदीद ने ड्राइवर के सिवाय किसी और कि गाड़ी में होने की पुष्टी नही की। घटना स्थल पर मौजूद लोगों और वाहन चालकों के अनुसार मामला सुसाइड का ज्यादा लगता है। हालांकि यह महज आशंका है। वही जब तक गंगा की लहरों से डूबी स्कोर्पियो NDRF द्वारा बाहर नही निकाल लिया जाता है कुछ भी स्पष्ट रूप से दावा करना मुश्किल है पर हालात तो आत्महत्या की ओर इशारा कर रहे है।

Cctv फुटेज देखिए

चुकी काफी लंबे दौर से महात्मा गांधी सेतु पर रिपेयर का काम जारी है। ट्रैफिक सिस्टम को दुरुस्त रखने खातिर सेतु पर कुछ कुछ दूरियों पर कैमरे लगाए गए है ताकि यातायात पर नज़र रखी जा सके। स्कोर्पियो के गिरने का पूरा वाक्या भी कैमरे में कैद हो गया है। इस घटना का CCtv फुटेज भी पटना Live के पास मौजूद है।फुटेज को अगर आप ध्यान से देखे तो उजली कलर की स्कोर्पियो आपको ट्रक के आगे आगे चलती दिखती है। चुकी पुल पर स्पीड लिमिट है सुबह का वक्त  है ट्रैफिक भी हेवी है। स्कोर्पियो की स्पीड बहुत नही जान पड़ती है पर अचानक वो अपनी लेन छोड़कर दूसरी लेंन में मुड़ जाती है। फिर तकरीबन 6-7 सेकंड तक फ्रेम में दिखने के बाद भी पावर स्टेयरिंग का इस्तेमाल नही किया गया ताकि बचा जा सके और फिर गाड़ी पुल से हवा में लहराती नीचे नदी में गिरती दिखाई देती है।

काश ! ये खुलासा झूठा साबित हो

तमाम तहकीकात और मिले सुबूतों के मिलान घटना क्रम की जुड़ती कड़िया और मोबाइल लोकेशन्स साथ ही मासूम आदर्श द्वारा भेजे गए मेसेज, सीसीटीवी फूटे की बारीकी से पड़ताल के फलाफल बेहद दुखदाई खुलासे कर रहा है साथ ही साथ पुख्ता सबूत भी पेश कर रहा है। लेकिन यकीन मानिए पटना Live परिवार की परमेश्वर से विनती है कि हमारी ये खबर झूठी साबित हो और एक परिवार को उनका लाल सही सलामत मिल जाए।