एक सच (अभिलाषा के गुनेहगार)-आखिर कहाँ छुपे है अभिलाषा सिन्हा को मौत की मुँह में ढकेलने वाले गुनहगार ? पटना पुलिस को अब तक नही मिला सुराग

214

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना की सड़कों पर लफंगों की करतुत ने एक मासूम को मौत की मुँह में धकेल दिया है। घटना 12 सितंबर को दोपहर के 12 बजकर 21 मिनट पर घटित हुई। मामला दर्ज हुआ है ट्रैफिक थाने में लेकिन आज 7 दिनों के बाद भी पटना पुलिस के हाथ खाली है और एक मासूम ज़िंदगी जिसमें कुछ कर गुजरने की अदम्य अभिलाषा है जिंदगी और मौत के बीच अस्पताल के बेड पर पड़ी है। बेहद नाज़ुक हालात और पल पल अनहोनी की आशंका में डरे सहमे माँ बाप और परिजन ईश्वर की ओर टकटकी लगाये वक्त गुजार रहे है।

                               इधर,घटना की जानकारी के बाद  राजधानी पटना की आवम द्वारा यथासंभव विभिन्न माध्यमो द्वारा मदद की जा रही ताकि अभिलाषा की ज़िंदगी बचाई जा सके। दुआओं का दौर भी जारी है। वही माता पिता और सगे संबंधियों के साथ ही पूरे शहर की दुआओं में अभिलाषा ख़ातिर जल्द ठीक होने की इल्तिज़ा भी है।

घटनाक्रम

फुलवारी शरीफ के बिड़ला कॉलोनी निवासी एक युवती को पाटलिपुत्रा थाना इलाके में सेंट डोमनिक सेवियो हाई स्कूल की बस ने 12 सितंबर को 12 बजकर 21 मिनट पर कुचल दिया, जब वह अपनी स्कूटी से जा रही थी।इस सड़क हादसे में युवती बुरी तरह जख्मी हो गयी।जिसे स्थानीय लोगों की मदद से पाटलिपुत्रा के ही रुबन मेमोरियल हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया। वहां उसकी हालत अभी भी अत्यंत नाजुक बतायी जा रही है। दुर्घटना के बाद बस चालक फरार हो गया। धक्का लगने के दौरान स्कूल बस में सवार स्कूली बच्चे डर से चीख उठे। स्थानीय लोगों ने स्कूली बच्चों को भी सुरक्षित घर पहुंचाने की व्यवस्था की।

इस दुर्घटना का लाइव फुटेज एक सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गया है। जिसमें युवती स्कूटी समेत स्कूल बस के चक्के के नीचे दबी हुयी नजर आ रही है। इस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस कार्रवाई में जुट गयी है।


वही घायल युवती के परिजनों ने बताया कि दुर्घटना 12 सितंबर के दिन हुयी।लेकिन अभी भी युवती की हालत नाजुक बनी हुयी है।युवती की हालत देख परिजनों की हालत ख़राब है।जख्मी युवती के पिता अरविन्द सिन्हा ने बताया कि मंगलवार को उनकी बेटी अभिलाषा सिन्हा बैंक जाने के लिए अपनी स्कूटी से निकली। इस दौरान पाटलिपुत्र थाना इलाके में सेंट डोमनिक सोवियो हाई स्कूल की बस संख्या BR-1AP/9750 ने स्कूटी समेत उनकी बेटी को बुरी तरह कुचल दिया। मामले को ट्रैफिक थाना में भेज दिया गया है।

और वो खौफ़नाक सच -ये हादसा नही

अभिलाषा सेंट जेवियर कॉलेज में बैचलर ऑफ मास कम्युनिकेश के सेकंड ईयर की छात्रा है। रोज वो अपने बिड़ला कॉलोनी स्थित घर से कॉलेज तक सफर स्कूटी से तय करती थी।यानी स्कूटी चलाने में माहिर थी।घटना वाले दिन भी वो स्कूटी पर  सवार थी जब ये दुखद हादसा घटित हुआ। सीसीटीवी फुटेज भी है जो घटना की तस्दीक करता है। लेकिन अब हम आपको बताते है वो सच जो यह बताता है कि ये महज़ एक दुर्घटना नही है। घटना वाले दिन स्कूटी पर सवार अभिलाषा के साथ छेड़खानी की घटना को अंजाम दिया गया था। बाइक सवार कुछ लफंगों ने अभिलाषा का पीछा करते हुए फब्तियां कसी थी और जबरिया उसे रोकने की कोशिश भी की थी, उन्ही लफंगों से बचने ख़ातिर तेजी से स्कूटी भागते हुए अभिलाषा स्कूल बस से टकरा गई थी और अब वो अस्पताल की बेड पर जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है।

चश्मदिदों ने भी बताया सच, पुलिस भी है सच वाकिफ़

घटना की जानकारी मिलने के बाद पटना Live की टीम ने जब हादसे वाली जगह पर तहक़ीक़ात की तो जो सबसे पहला तथ्य एक शख्स द्वारा बयान किया गया वो भी कम चौकाने वाला नही था। बक़ौल उस चश्मदीद के स्कूटी सवार लड़की खुद बस से जा टकराई थी। जब दुर्घटना हुई बस की स्पीड कम थी। वरना दुर्घटना जानलेवा हो सकता था। वही जब पटना Live की टीम घटना स्थल से आगे पाटलिपुत्रा चौराहे की तरफ बढ़ी तो वहां एक ठेला लगाने वाले ने बताया कि – अरे भाई जी बेचारी स्कूटी वाली के पीछे दुगो बाइक पर लफुन पड़ल हली उत बाद में पता चल व की उ हीए अस्पताल में भर्ती ह व ..उ दिनवा उ लइकिया के हिए रोके के कोशिश कर ल व हल। का बोली व तोरा हिया दिनभर इहे सब देखे ला मिल हव। सब लफुअन के अड्डा ह व हीया।

अब आप सोचिए क्या पटना की सड़कें शहर की बच्चियों के लिए महफ़ूज है? सड़क पर बाइक लेकर हुड़दंग मचाने वाले युवक कितने दुःसाहसी है इसकी बानगी लगातार खबरो के माध्यम से या सड़क चलते आप खुद देख चुके होंगे। लेकिन अब यह जान लेने लगे है आपकी हमारी घर की बहू बेटियों और बहनों की। सोचिएगा क्या अभिलाषा के गुनहगारों को सज़ा नही मिलनी चाहिए ?